पाकिस्‍तान की पहली महिला एस्‍ट्रोनॉट ने की इसरो की तारीफ, कहा-चंद्रयान-2 ने लगाई बड़ी छलांग

पाकिस्‍तान की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री नामिरा सलीम ने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो को चंद्रयान-2 की अब तक यात्रा के लिए बधाई दी है. उन्‍होंने बधाई देते हुए कहा है कि इसरो को मिशन चंद्रयान-2 के लिए बधाई. इस मिशन के जरिए इसरो ने लंबी छलांग लगाई है.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 4:34 PM IST
पाकिस्‍तान की पहली महिला एस्‍ट्रोनॉट ने की इसरो की तारीफ, कहा-चंद्रयान-2 ने लगाई बड़ी छलांग
नामिरा सलीम को पाकिस्‍तान की पहली महिला एस्‍ट्रोनॉट कहा जाता है. वह वर्जिन गैलेक्‍टिक में अंतरिक्ष की यात्रा कर चुकी हैं.
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 4:34 PM IST
कराची: चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के लैंडर विक्रम (Lander Vikram)की चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग को लेकर पाकिस्‍तानी मंत्री ने भले बचकानी प्रतिक्रिया दी हो, लेकिन पाकिस्‍तान की पहली महिला एस्‍ट्रोनॉट उनकी इस बात से इत्‍तिफाक नहीं रखती हैं. नमीरा सलीम (Namira Salim) ने भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो को चंद्रयान-2 के लिए बधाई दी है. उन्‍होंने बधाई देते हुए कहा है कि इसरो को मिशन चंद्रयान-2 के लिए बधाई. इस मिशन के जरिए इसरो ने लंबी छलांग लगाई है.

कराची की एक डिजीटल साइंस मैगजीन Scientia को दिए बयान में नमीरा ने कहा, ''मैं भारत और इसरो को उनके इस प्रयास के लिए बधाई दूंगी, जिसमें उन्‍होंने चंद्रमा के साउथ पोल पर सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश की. चंद्रयान-2 मिशन दक्षिण एशिया के लिए एक बड़ी उपलब्‍धि है. इसके कारण सिर्फ एशिया का ही क्षेत्र नहीं बल्‍कि पूरा अंतरिक्ष विज्ञान गौरवान्‍वित है.''



नमीरा सलीम ने कहा, 'दक्षिण एशिया में अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में कमाल की प्रगति की है. ऐसे में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि इसमें कौन लीड कर रहा है. सभी राजनीतिक सीमाएं अंतरिक्ष में खत्‍म हो जाती हैं.'

वर्जिन गैलेक्‍टिक में अंतरिक्ष की यात्रा कर चुकी हैं नमीरा सलीम
नमीरा सलीम को पाकिस्‍तान की पहली महिला एस्‍ट्रोनॉट कहा जाता है. वह वर्जिन गैलेक्‍टिक में अंतरिक्ष की यात्रा कर चुकी हैं. नामिरा का ये बयान इसलिए भी अहम है क्‍योंकि चंद्रयान-2 पर पाकिस्‍तान के मंत्री ने बहुत ही बचकाना बयान दिया था. उन्‍होंने इस मिशन के लिए भारत की बेहूदा तरीके से आलोचना की थी.

बता दें कि सॉफ्ट लैंडिंग से 2.1 किमी पहले लैंडर विक्रम का पृथ्‍वी से संपर्क टूट गया था. हालांकि अब चांद की कक्षा के चक्‍कर लगा रहे आर्बिटर ने लैंडर विक्रम का पता लगा लिया है. इसरो ने एक और खुशखबरी देते हुए बताया है कि लैंडर विक्रम सुरक्षित है. अब इसरो उससे संपर्क साधने के लिए उसे सिग्‍नल भेज रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 4:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...