• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • पाकिस्तानी मीडिया का दावा- भारत के साथ शुरू हुई डाक सेवाएं, पार्सल भेजने पर अब भी प्रतिबंध

पाकिस्तानी मीडिया का दावा- भारत के साथ शुरू हुई डाक सेवाएं, पार्सल भेजने पर अब भी प्रतिबंध

(News18 क्रिएटिव)

(News18 क्रिएटिव)

भारत-पाकिस्तान (India-Pakistan) के बीच बढ़ते गतिरोध के बीच 27 अगस्त के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच डाक सेवा (Postal Services) पूरी तरह से बंद थी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. पाकिस्तानी मीडिया (Pakistan Media) ने दावा किया है कि भारत के साथ पाकिस्तान (Pakistan) की डाक सेवाएं (Postal Services) फिर से शुरू हो चुकी हैं लेकिन पार्सल (Parcels) भेजे जाने पर अब भी प्रतिबंध (Ban) है.

    पाकिस्तान पोस्ट (यह पाकिस्तानी डाक सेवाओं की संचालक संस्था है) (Pakistan Post) की ओर से 7 पत्रों को भारतीय डाक अधिकारियों (Postal Officers) को मंगलवार की शाम को अटारी-वाघा बॉर्डर (Attari-Wagah Border) पर सौंपा जाएगा.

    27 अगस्त के बाद से भारत-पाक के बीच बंद थी डाक सेवाएं
    बता दें कि भारत-पाकिस्तान (India-Pakistan) के बंटवारे के दौरान जो खराब हालात दोनों देशों के बीच पैदा हुए थे, उस दौरान भी दोनों देशों के बीच डाक सेवा जारी थी. यहां तक कि अब तक दोनों देशों के बीच हुए तीन युद्धों के दौरान भी इसे कभी बंद नहीं किया गया था. लेकिन भारत-पाक के बीच बढ़ते गतिरोध के बीच 27 अगस्त के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच डाक सेवा पूरी तरह से बंद थी.

    पाकिस्तान न तो कोई पत्र भारत से स्वीकार कर रहा था और न ही पाकिस्तान (Pakistan) से कोई पत्र भारत आ रहा था.

    क्या हैं अंतरराष्ट्रीय प्रावधान
    अंतरराष्ट्रीय डाक यूनियन (International Postal Union) के प्रावधान कहते हैं कि चिट्ठियों के आने-जाने पर बेवजह रोक नहीं लगाई जा सकती है. पत्र तो तब भी आते रहते थे जब दूसरा विश्व युद्ध चल रहा था. तमाम उदाहरण हैं कि जब जापान (Japan) और जर्मनी से अमेरिका, ब्रिटेन और गठबंधन सेना में साथ निभा रहे देशों के लोग पत्रों का आदान-प्रदान कर लेते थे.

    केंद्रीय संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने इस बात की पुष्टि की. एक प्रेस कांफ्रेस में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने पिछले दो महीनों से भारत से गई हुईं चिट्ठियों को लेना बंद किया हुआ है और ऐसा उसने भारत को बिना किसी सूचना या जानकारी दिए किया. हो सकता है कि भारत इसके खिलाफ कोई कदम उठाए.

    सामान्य दिनों में भी घुमावदार और लंबा रूट
    वैसे आपको बता दें कि सामान्य दिनों में भी भारत और पाकिस्तान के बीच पोस्ट का रूट कभी लंबा और घुमावदार होता है, क्योंकि भारत से सीधे कोई पत्र, पार्सल या कूरियर ना पाकिस्तान जाता है और ना ही वहां से यहां आता है. डाक सेवा के लिए सऊदी अरब (Saudi Arab) की राजधानी रियाद या फिर दुबई का रूट लिया जाता है. यानी पोस्ट पहले रियाद पहुंचती है और फिर वहां से पाकिस्तान. इसी तरह वो भारत भी आती हैं.

    हालांकि इस स्थिति में भारत के लोग उन विदेशी पोस्ट ऑफिस की सेवाएं ले रहे हैं जो दिल्ली और मुंबई (Mumbai) में हैं. भारत में कुल 28 विदेशी पोस्ट ऑफिस हैं जिनमें से सिर्फ दो में पाकिस्तान जानी वाली और पाकिस्तान से आने वाली चिट्ठियां ली जा सकती हैं. सबसे ज्यादा डाक जो भारत में पाकिस्तान भेजी जाती है, वो पंजाब और जम्मू-कश्मीर से होती हैं.

    क्या भेजा जाता है दोनों देशों के बीच डाक से
    जानकार बताते हैं कि पाकिस्तान भेजी जाने वाली चिट्ठियों में ज्यादातर शैक्षिक और साहित्यिक सामग्री होती है. इसके अलावा शादी के कार्ड और जब दोनों देशों के लोगों को वीजा लेना हो, तब स्पांसर लेटर (Sponsor's Letter) या रिश्तेदार या परिचितों से अनुमति पत्र की जरूरत होती है.

    वीजा अधिकारी (Visa Officers) इन पत्रों को मूल दस्तावेज के रूप में ही अमूमन स्वीकार करते हैं. हालांकि अब ईमेल के जरिए बहुत सा संवाद हो जाता है लेकिन जरूरी कागजात के आदान-प्रदान के लिए डाक सेवा का ही सहारा लेना होता है.

    कई बार इसका इस्तेमाल और ज्यादा जरूरी काम में होता है. मसलन अगर किसी भारतीय मछुआरे (Indian Fisherman) को पाकिस्तान ने पकड़ लिया तो उसे भारत में अपने वकील को पॉवर ऑफ अटार्नी भेजने की जरूरत होती है, इसे डाक से ही भेजा जा सकता है. कोरियर से भी नहीं. साथ ही अदालतें ईमेल से भेजे गए कागजात स्वीकार नहीं करतीं.

    डाक शुल्क भी ज्यादा
    वैसे भारत से पाकिस्तान भेजी जाने वाली डाक सेवा (Postal Service) पर लगने वाला शुल्क भी कुछ ज्यादा ही है. पाकिस्तान भेजे जाने वाली हर 250 ग्राम वजन की डाक के लिए 810 रुपये शुल्क लेता है.

    हालांकि दोनों देशों के लोग डाक सेवा बंद होने के बाद प्राइवेट कोरियर (Private Courier) का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन ये बहुत मंहगे हैं और प्राइवेट कोरियर सर्विस वाले इन्हें दुबई और कुवैत के रास्ते लेकर जाते हैं.

    यह भी पढ़ें: इमरान खान ने कैबिनेट में किया बड़ा फेरबदल, फिर शामिल हुए असद उमर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज