पाकिस्तान: कराची उपचुनाव में PPP प्रत्याशी को मिली जीत, इमरान की पार्टी पांचवें स्थान पर

बिलावल भुट्टो (Reuters)

बिलावल भुट्टो (Reuters)

पाकिस्तान में कराची के NA-249 संसदीय उपचुनाव में बिलावल भुट्टो जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के उम्मीदवार कादिर खान मंडोखेल को जीत हासिल हुई है. जबकि इमरान की पार्टी पीटीआई (PTI) के प्रत्याशी अमजद अफरीदी पांचवें स्थान पर हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 10:16 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान में इमरान खान की पार्टी पीटीआई (PTI) को बड़ा झटका लगा है. दरअसल, कराची के NA-249 संसदीय उपचुनाव में इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ काफी पीछे नजर आई. इस उपचुनाव में बिलावल भुट्टो जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के उम्मीदवार कादिर खान मंडोखेल को जीत हासिल हुई है. उन्होंने नवाज शरीफ की पीएमएल-एन के उम्मीदवार मिफ्ताह इस्माइल को हराया है. जबकि, इमरान की पार्टी पीटीआई के प्रत्याशी अमजद अफरीदी पांचवें स्थान पर हैं.

बड़ी बात यह है कि इस उपचुनाव में प्रतिबंधित होने के बावजूद तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान ने अपना प्रत्याशी उतारा. इस चुनाव में टीएलपी के उम्मीदवार मुफ्ती नजीर अहमद कमलवी 11,125 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर हैं. इसी कट्टरपंथी पार्टी ने कुछ दिनों पहले फ्रांस से राजनयिक संबंध तोड़ने के नाम पर पाकिस्तान की सड़कों पर जमकर उत्पात मचाया था. जिसके बाद इमरान कैबिनेट ने टीएलपी को आतंकवादी संगठन मानते हुए प्रतिबंधित कर दिया था. NA-249 संसदीय उपचुनाव में विपक्षी पार्टियों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा, हालांकि इमरान सरकार को हटाने के नाम पर ये एकजुट होने का दावा करते हैं. जहां एक तरफ, बिलावल भुट्टो जरदारी ने ट्वीट कर कराची के मतदाताओं को धन्यवाद किया. तो वहीं, पीएमएल-एन की प्रमुख नेता और नवाज शरीफ की बेटी मरयम नवाज ने ट्वीट कर चुनाव में धांधली का आरोप लगाया.

ये भी पढ़ें: जो बाइडन बोले- 20 साल बाद अफगानिस्तान से US सैनिकों को घर बुलाने का समय आ गया है

मरयम नवाज ने लिखा कि चुनाव आयोग को सबसे अधिक विवादित और विवादास्पद चुनावों में से एक के परिणामों को रोकना चाहिए. भले ही यह नहीं होगा, यह जीत अस्थायी होगी और जल्द ही पीएमएल-एन वापसी करेगी. उन्होंने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को नवाज शरीफ और पार्टी के लिए मतदान और मिफ्ताह इस्माइल का समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया. उन्होंने सवाल किया कि जब मतदान केवल 15 से 18 फीसदी ही हुआ तो यह देर रात तक कैसे जारी रहा. क्या यहां कुछ पर्दे के पीछे खेल हुआ जिससे इलेक्शन स्टॉफ को देरी हुई. क्या उन्हें लगता है कि हम मूर्ख हैं? पहले यह सीट नवाज शरीफ की पार्टी के पास थी, लेकिन 2018 में यहां से इमरान खान की पार्टी को जीत मिली. लेकिन, इस बार के उपचुनाव में इमरान की पार्टी पांचवें स्थान पर लुढ़क गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज