लाइव टीवी

इमरान ने सिद्धू को बताया 'शांति दूत', कहा- 'बदनाम करने वाले नहीं चाहते अमन'

News18Hindi
Updated: August 21, 2018, 3:48 PM IST
इमरान ने सिद्धू को बताया 'शांति दूत', कहा- 'बदनाम करने वाले नहीं चाहते अमन'
इमरान ख़ान को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाते राष्ट्रपति ममनून हुसैन (तस्वीर-PTI)

पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान से लौट आए हैं. वो इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पाकिस्तान गए थे. उनका ये दौरा काफी विवादित रहा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2018, 3:48 PM IST
  • Share this:
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को गले लगाकर कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू विवादों में घिरते जा रहे हैं. मंगलवार को सिद्धू ने तमाम आरोपों पर सफाई दी. सिद्धू ने कहा कि पाकिस्तान के नए पीएम इमरान खान भारत-पाक संबंधों में सुधार की दिशा में अहम भूमिका निभाएंगे. सिद्धू के इस बयान के बाद पाकिस्तान के नव-निर्वाचित प्रधानमंत्री सिद्धू के बचाव में उतरे हैं. इमरान ने जहां एक तरफ सिद्धू को 'शांति दूत' करार देते हुए पाकिस्तान आने के लिए उनका शुक्रिया अदा किया. वहीं, कहा कि सिद्धू के खिलाफ बोलने वाले लोग अमन-चैन के लिए हानिकारक हैं.

बता दें कि पाकिस्तानी सेना प्रमुख से गले मिलने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ वाराणसी और बिहार में देशद्रोह का केस दर्ज हुआ है.

पाकिस्तानी सेना प्रमुख के गले मिले, PoK के राष्ट्रपति के बगल में बैठे सिद्धू

इमरान खान ने मंगलवार को ट्वीट किया- 'मैं सिद्ध का मेरे शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान आने के लिए शुक्रिया अदा करता हूं. वह शांति के दूत हैं और उन्हें पाकिस्तान के लोगों ने बहुत सारा प्यार दिया, जो लोग उन्हें निशाना बना रहे हैं वे उपमहाद्वीप में शांति को नुकसान पहुंचा रहे हैं. शांति के बिना हमारे लोग विकास नहीं कर सकते.'



बाजवा से गले मिलने पर नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ वाराणसी में राजद्रोह का मामला दर्ज



इमरान ने एक और ट्वीट में लिखा, 'आगे बढ़ने के लिए भारत और पाकिस्तान को कश्मीर सहित सभी विवादों को बातचीत के जरिए सुलझाना चाहिए. गरीबी मिटाने और उपमहाद्वीप में जीवनस्तर को ऊपर ले जाने का सबसे बेहतर रास्ता बातचीत के जरिये हमारे मतभेद सुलझाना और व्यापार शुरू करना है.'

पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख को गले लगाकर फंसे सिद्धू, अमरिंदर बोले- उनसे प्‍यार दिखाना गलत



सिद्धू ने क्या कहा था?
बता दें कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख से गले मिलने पर पूर्व क्रिकेटर सिद्धू ने कहा, 'अगर कोई मेरे पास आता है और कहता है कि हम एक ही संस्कृति के हैं. हम गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर करतारपुर बॉर्डर खोलेंगे, तो मैं और क्या कर सकता हूं? मुझे भी उनका सम्मान करना था.'

पीओके प्रेसिडेंट के बगल में बैठने पर सिद्धू ने कहा,  'अगर आपको कहीं सम्मान से आमंत्रित किया जाता है, तो आपसे जहां भी कहा जाता है, वहां बैठ जाते हैं. मैं कहीं और बैठा था, लेकिन उन्होंने मुझे वहां बैठने के लिए कहा.'

BJP ने कहा- पाकिस्तान को ऑक्सीजन दे रही कांग्रेस
वहीं, सिद्धू की सफाई के बाद बीजेपी ने प्रतिक्रिया दी है. बीजेपी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी और उसके नेता लगातार पाकिस्तान को ऑक्सीजन देने का काम कर रहें है. नवजोत सिंह सिद्धू ने जिस प्रकार अपनी प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से भारत को कटघरे में खड़ा करने का जो काम किया है उसके लिए राहुल गांधी देश को जवाब दें.

पाकिस्तान जाकर बुरे फंसे नवजोत सिंह सिद्धू, बिहार की इस अदालत में हुआ देशद्रोह का मुकदमा

सिद्धू के इस कदम कांग्रेस असहज
सिद्धू का पाकिस्तान जाने को लेकर कांग्रेस भी सहज नहीं दिख रही. कांग्रेस प्रवक्ता राशिद अल्वी ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा 'अगर वो मुझसे सलाह लेते तो मैं उनको पाकिस्तान जाने से मना करता. वो दोस्ती के नाते गए हैं, लेकिन दोस्ती देश से बड़ी नहीं है. सीमा पर हमारे जवान मारे जा रहे हैं और ऐसे में पाकिस्तान सेना के चीफ को सिद्धू का गले लगाना गलत संदेश देता है. भारत सरकार को उन्हें पाकिस्तान जाने की अनुमति नहीं देनी चाहिए थी.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2018, 3:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर