अपना शहर चुनें

States

इमरान खान ने भी माना कुलभूषण जाधव पर ICJ का फैसला सही, कानून के तहत बढ़ेंगे आगे

इमरान खान ने कहा कि जाधव मामले में हम कानूनी प्रक्रिया के तहत आगे बढ़ंगे. (फाइल फोटो)
इमरान खान ने कहा कि जाधव मामले में हम कानूनी प्रक्रिया के तहत आगे बढ़ंगे. (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि हम अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं और कानूनी प्रक्रिया के तहत आगे बढ़ेंगे.

  • Share this:
कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई फांसी की सजा पर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने बुधवार को रोक लगा दी. आईसीजे ने पाकिस्तान को एक बार फिर फैसले की समीक्षा और उस पर पुनर्विचार करने के आदेश दिए हैं. अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के इस फैसले को दुनियाभर में भारत की जीत की तौर पर देखा जा रहा है, लेकिन पाकिस्तान अब भी इसे अपनी कामयाबी बता रहा है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि हम अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं और कानूनी प्रक्रिया के तहत आगे बढ़ेंगे.

इमरान खान ने गुरुवार सुबह ट्वीट किया, “आईसीजे के फैसले स्वागत करते हैं, लेकिन ICJ ने कुलभूषण जाधव को छोड़ने और भारत को वापस करने को नहीं कहा. वह पाकिस्तान के लोगों के खिलाफ अपराध का दोषी है. पाकिस्तान कानून के अनुसार आगे की कार्रवाई करेगा.”
इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद करैशी ने आईसीजे के फैसले को पाकिस्तान की जीत बताया था. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने जाधव की रिहाई से संबंधित भारत की याचिका को खारिज कर दिया. ICJ ने जाधव की सजा को वियना समझौते के अनुच्छेद 36 का उल्लंघन नहीं माना. कुरैशी ने कहा कि कमांडर जाधव को पाकिस्तान में रहना होगा. यहां उन्हें पाक के कानून से रहना होगा.

ICJ ने अपने फैसले में क्या कहा?



इंटरनेशनल कोर्ट ने 15-1 के बहुमत से कहा कि कुलभषण जाधव की मौत की सजा पर रोक बरकरार रहेगी. पाकिस्तान की सैन्य अदालत में उन्हें दोषी ठहराने और उन्हें दी गई सजा पर पुनर्विचार करने की जरूरत है. ICJ ने मामले में पाकिस्तान की आपत्तियों को खारिज कर दिया. साथ ही पाकिस्तान के इस तर्क को भी खारिज कर दिया कि भारत ने जाधव की वास्तविक नागरिकता की जानकारी नहीं दी है.

वियना संधि उल्लंघन पर PAK को लगाई फटकार

ICJ ने कहा, यह साफ है कि जाधव भारतीय नागरिक हैं. पाक ने भी माना है कि जाधव भारतीय नागरिक हैं. आईसीजे ने फटकार लगाते हुए कहा कि पाकिस्तान ने जाधव को उनके अधिकारों के बारे में नहीं बताया. ऐसा करके वियना संधि की शर्तों का उल्लंघन किया गया है. साथ ही ICJ ने जाधव तक राजनयिक पहुंच दिए जाने की भारत की मांग के पक्ष में फैसला सुनाया है. अब भारतीय उच्चायोग जाधव से मुलाकात कर सकेगा और उन्हें वकील व अन्य कानूनी सुविधाएं दे पाएगा.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तानी मीडिया ने कुलभूषण जाधव मामले में ICJ के फैसले को बताया भारत की हार

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज