कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए बड़ी साजिश रच रही है PAK आर्मी, बनाया है ये प्लान

Sandeep Bol | News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 5:39 AM IST
कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए बड़ी साजिश रच रही है PAK आर्मी, बनाया है ये प्लान
कश्मीर में आतंकी हमले की फ़िराक में है पाकिस्तानी आर्मी

खुफिया रिपोर्ट में ख़ुलासा हुआ है कि 200 से भी ज़्यादा अफगानी आतंकी जो कि तालिबान (Taliban) के साथ मिलकर लड़ चुके है, भारत पर हमले के लिए एलओसी (Loc) के करीब लॉन्च पैड पर मौजूद हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 5:39 AM IST
  • Share this:
90 के दशक में जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आतंकवाद (Terrorism) का जिस तरह का माहौल था वो पूरी दुनिया के सामने है. कैसे पाकिस्तान (Pakistan) विदेशी आतंकियों को भारत में भेज कर आतंकी गतिविधियों को बढ़ाता था. हालांकि भारतीय सेना (Indian Army) ने आतंकी घुसपैठ पर काफी हद तक लगाम लगाई हुई थी. लेकिन अब आर्टिकल 370 (Article 370) हटने के बाद पाकिस्तान फिर से जम्मू-कश्मीर में 90 के दशक जैसा माहौल बनाने की साज़िश रच रहा है.

दरअसल 90 के दशक में विदेशी आतंकियों की भरमार थी कश्मीर में. जिसमें पाकिस्तान, अफगानिस्तान (Afghanistan) और अन्य कई देशों से भी आतंकियों को पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में भेजता था. लेकिन सेना की कार्रवाई ने सबकी कमर तोड़ दी है और विदेशी आतंकी (Foreign Terrorists) न के बराबर हो गए. लेकिन आर्टिकल 370 के जम्मू-कश्मीर से हटने के बाद पाकिस्तान सेना (Pakistan Army) बौखला गई है.

LoC के पास के लॉन्च पैड पर हुआ आतंकियों का जमावड़ा
खुफिया रिपोर्ट में ख़ुलासा हुआ है कि 200 से भी ज़्यादा अफगानी आतंकी जो कि तालिबान (Taliban) के साथ मिलकर लड़ चुके है, भारत पर हमले के लिए एलओसी (Loc) के करीब लॉन्च पैड पर मौजूद हैं. यही नहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक़ कुछ अफगानी आतंकियों के भारत में घुसपैठ की ख़बर भी है, जो दिल्ली सहित अन्य बडे शहरों में आतंकी वारदात कर माहौल बिगाड़ सकते हैं.

कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने से बौखलाया हुआ है पाकिस्तान


PoK में एक्टिव हुआ मसूद अज़हर का भाई
ख़ुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक़ बाक़ायदा 19 अगस्त को बहावलपुर में आतंकी तंजीमों की एक बड़ी बैठक बुलाई गई थी जिसकी प्रमुखता मसूद अज़हर का छोटा भाई मौलाना रउफ अज़हर कर रहा था. वह जैश के आर्म्ड विंग का कमांडर है.
Loading...

रउफ अफगानिस्तान की लड़ाई में भी सक्रिय रहा है. ऐसे में रउफ इस कोशिश में लगा है कि ज़्यादा से ज़्यादा अफगानी आतंकियों को भारत में भेजा जा सके. इसके पीछे वजह यह है कि अफगानी आतंकी बाकी आतंकी तंजीमों से ज़्यादा बेहतर ट्रेंड होते हैं. सूत्रों की माने को इस बैठक में घुसपैठ और आतंकी हमलों को लेकर चर्चा की गई और उस बैठक के नतीजे को ISI के पास मंज़ूरी के लिए भेजा गया है

हमले के लिए आतंकी कर रहे हैं आदेश का इंतजार
ख़ुफ़िया जानकारी में ये भी पता चला की जम्मू-कश्मीर में मौजूद जैश के आतंकी हथियार, गोलाबारूद और आतंकी हमलों के आदेश और पूरी ब्रीफिंग का इंतजार कर रहे हैं. यही नही इंटेंलीजेंस इनपुट ये भी ख़ुलासा कर रहे है कि 13 अगस्त को पाकिस्तानी सेना के बडे़ अधिकारी ने पुंछ सेक्टर की दूसरी ओर रावलकोट में आतंकी तंजीमों के कमांडरो से भी मुलाकात की थी. बताया जा रहा है कि जिस अधिकारी से यह मुलाकात हुई थी, वह ISI चीफ हो सकता है. आतंकियों के निशाने पर देहरादून में इंडियन मिलेट्री अकादमी भी है. मतलब आतंकियों की हिट लिस्ट में IMA भी है.

अफगानी आतंकियों के साथ मिलकर साजिश रच रही है PAK आर्मी


ISI ने तेज की आतंकियों की भर्ती
हालांकि बालाकोट एयर स्ट्राइक की मार से ही पाकिस्तान संभल नहीं पाया था कि भारत ने कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का कदम उठा लिया. इसके बाद से सेना और सुरक्षाबलों की मुस्तैदी ने पाकिस्तान की तरफ़ से घुसपैठ की कोशिशों को लगभग बंद कर रखा है. ऐसे में आतंकी तंजीमो को मदद करने वाली पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी ISI दबाव में है और उसने अब खुद आतंकियों की भर्ती करने का काम शुरू कर दिया है.

खुफिया इनपुट के मुताबिक़ PoK के मुज़फ़्फ़राबाद के बसनाडा कैंप में ISI आतंकियों की भर्ती का काम खुद कर रहा है. यानी अब कश्मीर में घुसपैठ के लिए नए सिरे से भर्ती की जा रही है और PoK के युवाओं को आतंकी तंजीम में शामिल होने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, ख़ुलासा हुआ है कि भर्ती के बाद जो भी ट्रेनिंग उन्हें दी जा रही है वो आतंकी तंजीम अल बद्र के कमांडर दे रहे हैं और ट्रेनिंग के बाद लीपा और केरन के लॉन्चपैड से घुसपैठ कराने की तैयारी में ISI खुद बढ़-चढ़कर आगे आ रहा है.

पाकिस्तान लगातार अंतरराष्ट्रीय मंचों से कश्मीर मुद्दा उठा रहा है लेकिन उसे लगातार असफलता हाथ लगी है.


बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद सुरक्षित इलाक़ों में भेजे गए आतंकी
ISI की बौखलाहट इससे भी समझ में आ रही है की बालाकोट में भारतीय वायुसेना की तरफ़ से की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद डर के चलते आतंकी कैंप को ख़ाली कर आतंकियों को सुरक्षित जगह पर शिफ़्ट कर दिया गया था. अब उन्हें वापस बुलाया गया है और बाक़ायदा उनके लिए 10 दिन का एक रिफ्रेशर कोर्स भी चलाया जा रहा है.

यह रिफ्रेशर कोर्स PoK के मनशेरा, गुलपुर और कोटली में कराया जा रहा है. पाकिस्तान की बौखलाहट का आलम ये है की अब वो पेशावर और क्वेटा के ट्राइबल इलाक़ों के साथ साथ पीओके के पुंछ, बाग़ और कोटली में भी आतंकियों की भर्ती के अभियान को तेज कर चुका है. यही नहीं 9 अगस्त से मीरपुर और सियालकोट के कैंपों में तो बाक़ायदा आतंकियों को अंडर वाटर ट्रेनिंग देने का शुरू किया है.

यह भी पढे़ं: आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में बढ़ सकता है आतंकवाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 5:32 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...