Exclusive: अब बच्चों को आतंकवाद का पाठ पढ़ा रही ISI, PoK में शुरू किया कैंपेन

पीओके के कोटली, बाग, मीरपुर, समानी, तत्तापानी और नीलम घाटी में 'अपनी सेना अपना आवाम' के तहत कैंपेन चलाए जा रहे हैं (PTI)

पीओके के कोटली, बाग, मीरपुर, समानी, तत्तापानी और नीलम घाटी में 'अपनी सेना अपना आवाम' के तहत कैंपेन चलाए जा रहे हैं (PTI)

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसएई (ISI) ने अब ये चाल चली है कि मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को गुमराह कर मौलवियों को पैसे का लालच और डरा धमकाकर इनसे काम लिया जाए, ताकि भारत के खिलाफ दुषप्रचार किया जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2021, 3:25 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में हालात बेहद खराब हैं. पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) की शह पर पाकिस्तानी सेना (Pakistani Army) यहां ट्रेनिंग कैम्प चलाती है, जिसमें भारत के खिलाफ आतंकियों को तैयार किया जाता है. अब इस आतंकवाद में बच्चों को भी शामिल किया जा रहा है. पाकिस्तानी सेना ने पीओके में 'अपनी सेना अपना आवाम' मुहिम शुरू की है. इसमें मदरसों में तालीम ले रहे बच्चों को शामिल किया जा रहा है. पीओके के कोटली, बाग, मीरपुर, समानी, तत्तापानी और नीलम घाटी में 'अपनी सेना अपना आवाम' के तहत कैंपेन चलाए जा रहे हैं और रैलियां आयोजित की जा रही हैं.

News18 के साथ ऐसी रैली का एक्सलूसिव वीडियो है, जिसमें पाकिस्तानी सेना के समर्थन में खुफिया एजेंसी आईएसआई के पेड मौलवी मदरसों से बच्चों को एक जगह पर इकट्ठा कर रहे हैं. फिर बच्चों से पाकिस्तानी सेना के समर्थन में नारे लगवाए जा रहे हैं और भारत के खिलाफ दुषप्रचार किया जा रहा है.

गजब! पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद का नाम 'इस्लामागुड' करने के लिए ऑनलाइन याचिका दायर

NEWS18 को मिला एक एक्सलूसिव वीडियो मुजफ्फराबाद का है. इसमें जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के चेयरमैन सरदार सगीर खान को पाक सेना के खिलाफ बोलते हुए देखा जा सकता है. इस दौरान आईएसआई के एक पेड एजेंट ने पाक सेना के खिलाफ बोलने से रोका, तो काफी हंगामा हुआ; लेकिन हाजी ने उस एजेंट को कड़ी फटकार लगाते हुए पाक सेना को पूरी तरह से बेनकाब कर दिया कि कैसे पाक सेना ने लाखों जुल्म किए हैं.
वीडियो में एक जगह सुना जा सकता है, '... हम जालिम के खिलाफ है... तमाशा ये है कि यही फर्क है कश्मीर वालों में और हम में...10 लाख फौज को नाको चने चबा रहे हैं वो लोग ..हमें यहां पर रोका गया है. हमें इन्हें यहां से भगाना है. यही हमारी आाजदी के खिलाफ हैं...'

पीओके में काफी समय से पाक सेना के जुल्म से आम लोगों ने मोर्चा खोला हुआ है, जिससे पाकिस्तान की इमरान सरकार ने अपनी खुफिया एजेंसी आईएसआई को अब नया काम सौंपा है. सूत्रों का कहना है कि आईएसआई अब गांवों के मदरसों में मौलवियों को लालच और धमकाकर ये काम करवा रही है. आम लोगों के विद्रोह को रोकने के लिए कुछ धार्मिक संगठनों के साथ-साथ मदरसों के बच्चों का भी इस्तेमाल किया जा रहा है.

इन रैलियों में लगभग 20 मौलाना/मौलवी शामिल हैं, जिन्हें इस काम के लिए आईएसआई फंड भी दे रही है. ये जमात उल दावा से जुड़े हुए हैं. बच्चों को रैलियों में शामिल करने के लिए उनके परिवार पर भी दबाव बनाया जा रहा है. बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्तान, बलूचिस्तान समेत पीओके के लगभग 8 बड़े शहरों व जिलों में लोग पाक सेना के खिलाफ आए दिन प्रदर्शन करते हैं. इन रैलियों के जरिए पाक सेना अपने खिलाफ उठती आवाजों को दबाना चाहती है.



बांग्लादेश में पाकिस्तान का जमकर विरोध, लोग बोले- नहीं भूले उनके अत्याचार

पीओके की सरकार पाक सरकार के आगे कठपुतली बनकर रह गई है. सभी सरकारी कर्मचारियों को भी फरमान दे दिया गया है कि अगर वो पाक सेना के खिलाफ होने प्रदर्शनों में शामिल होते हैं, तो उनके खिलाफ कार्रवाई होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज