लाइव टीवी

अयोग्य घोषित हो सकते हैं पाकिस्तान के PM इमरान खान, जानें क्या है मामला

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 10:36 AM IST
अयोग्य घोषित हो सकते हैं पाकिस्तान के PM इमरान खान, जानें क्या है मामला
अयोग्य घोषित हो सकते हैं पाकिस्तान के पीए इमरान खान.

पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) के इलाज कराने के लिए लंदन रवाना होने के बाद कोर्ट के खिलाफ की थी टिप्पणी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 10:36 AM IST
  • Share this:
लाहौर. पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. पाकिस्तान की अदालत (Court) में प्रधानमंत्री इमरान खान को अयोग्य घोषित करने संबंधी याचिका दायर की गई है. ये याचिका इमरान खान की ओर से कोर्ट को लेकर दी गई उस टिप्पणी के खिलाफ की गई है, जो उन्होंने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी एवं देश के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) के इलाज कराने के लिए लंदन रवाना होने के बाद की थी.

पाकिस्तान के एक नागरिक ताहिर मसूद ने शनिवार को लाहौर उच्च न्यायालय में यह याचिका दायर की. याचिका में खान के खिलाफ न्यायपालिका की निंदा करने के लिए अवमानना का मामला चलाने का आग्रह किया गया है. शिकायतकर्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने शीर्ष न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीशों की आलोचना की है जो अदालत के अवमानना के दायरे में आता है.

इसे भी पढ़ें :- इमरान खान का तंज- बीमारी का बहाना बनाकर भाग गए नवाज़ शरीफ

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने 2013 में पहले ही न्यायपालिका के खिलाफ टिप्पणियों के लिए खान को नोटिस जारी किया है. पीएमएल एन के नेताओं तलाल चौधरी एवं निहाल हाशमी के न्यापालिका विरोधी भाषणों पर शीर्ष अदालत द्वारा उन्हें सजा दिए जाने का हवाला देते हुए शिकायतकर्ता ने कहा कि खान को अदालत व्यक्तिगत तौर पर पेश होने का समन जारी करे, उन्हें अयोग्य करार दे और निर्वाचन आयोग को नेशनल असेंबली की उनकी सदस्यता रद्द करने का निर्देश दे.

इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान : खतरे में इमरान खान की सरकार! मौलाना बोले- दिन गिनना शुरू कर दें

गौरतलब है कि खान ने हाल ही में 69 वर्षीय शरीफ को इलाज के लिए विदेश जाने की अनुमति देने के लिए 700 करोड़ रुपये का क्षतिपूर्ति बांड जमा करने के अपनी सरकार की शर्त को खारिज करने के लिए लाहौर उच्च न्यायालय की आलोचना की और मुख्य न्यायाधीश आसिफ सईद खोसा और उनके उत्तराधिकारी को न्यायपालिका में जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए कहा था.

इसे भी पढ़ें :- इमरान खान पर फिर भड़कीं पूर्व पत्नी रेहम खान, कहा- कर्म का मिल रहा है फल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 10:36 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर