लाइव टीवी

इमरान के मंत्री बोले- कश्मीर पर जो देश भारत का देगा साथ, उसपर गिराएंगे मिसाइल

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 8:15 AM IST
इमरान के मंत्री बोले- कश्मीर पर जो देश भारत का देगा साथ, उसपर गिराएंगे मिसाइल
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के साथ अली अमीन गंडापुर (दाएं)

पाकिस्तान (Pakistan) की एक पत्रकार ने सोशल मीडिया पर ये वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में अली अमीन गंडापुर गंडापुर (Ali Amin Gandapur) कहते हैं, 'अगर कश्मीर को लेकर भारत के साथ तनाव बढ़ता है, तो पाकिस्तान को युद्ध के लिए मजबूर होना पड़ेगा. जो देश ऐसे में भारत का समर्थन करेंगे, उन्हें हम दुश्मन मानेंगे. भारत के अलावा उन देशों पर भी मिसाइल दागी जाएगी.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 8:15 AM IST
  • Share this:
कराची. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में आर्टिकल 370 कमजोर करने को लेकर पाकिस्तान की बौखलाहट कम नहीं हो रही है. पाकिस्तान में इमरान सरकार (Imran Khan Government) के एक और मंत्री ने जंग की धमकी दी है. पाक के कब्जे वाले कश्मीर और गिलगिट बाल्टिस्तान मामलों के मंत्री अली अमीन गंडापुर ने एक वीडियो जारी करते हुए कहा, 'जो देश कश्मीर मसले पर भारत का समर्थन करेगा, उस पर मिसाइल दागी जाएगी.' अमीन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

पाकिस्तान की एक पत्रकार ने सोशल मीडिया पर ये वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में गंडापुर कहते हैं, 'अगर कश्मीर को लेकर भारत के साथ तनाव बढ़ता है, तो पाकिस्तान को युद्ध के लिए मजबूर होना पड़ेगा. जो देश ऐसे में भारत का समर्थन करेंगे, उन्हें हम दुश्मन मानेंगे. भारत के अलावा उन देशों पर भी मिसाइल दागी जाएगी.'

गंडापुर ने अपने बयान में जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार के हालात पर दुनियाभर के देशों की चुप्पी को लेकर भी नाखुशी जाहिर की. उन्होंने कहा, 'भारत-पाकिस्तान के बीच जो तनाव चल रहा है, वह दोनों पुराने दुश्मनों के बीच युद्ध का कारण बन सकता है.'

यहां देखें वीडियो:-




इमरान खान के मंत्री अली अमीन गंडापुर का बयान ऐसे वक्त पर आया है, जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सऊदी अरब के दो दिन के दौरे पर थे. पाकिस्तान सऊदी अरब को अपना खास दोस्त मानता है. वहीं, सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान भी कई मौकों पर इमरान खान का खुलकर समर्थन किया था.

बता दें कि भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर पर 5 अगस्त को ऐतिहासिक फैसला लेते हुए अनुच्छेद 370 को कमजोर कर दिया. इस अनुच्छेद के एक प्रावधान को छोड़कर बाकी सभी को खत्म कर दिया गया है. इसके बाद से जम्मू-कश्मीर को मिलने वाले सभी विशेषाधिकार वापस ले लिए गए. 31 अक्टूबर से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बन जाएगा.

अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही जम्मू-कश्मीर में कई तरह की पाबंदियां लगाई गई थीं, जैसे कि हजारों की संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती, स्थानीय नेताओं को नज़रबंद रखना, फोन-इंटरनेट की सुविधा को बंद कर देना. धीरे-धीरे सरकार कुछ इलाकों से प्रतिबंध हटा रही है, जबकि कुछ इलाकों में अभी भी बैन लागू है. (एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें- कश्मीर को लेकर बड़ा बदलाव दिखा रहा है यूरोपीय सांसदों का ये दौरा

PM मोदी ने कहा-अर्थव्यवस्था के विकास के लिए स्थिर तेल की कीमतें जरूरी, सऊदी से है बहुत उम्मीदें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 8:13 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...