पाकिस्तान पुलिस ने युवक को 22 गोलियां मारी, मौत के बाद कहा- वह दोषी नहीं था

पाकिस्तान पुलिस ने युवक की हत्या कर दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पाकिस्तान पुलिस ने युवक की हत्या कर दी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Pakistan Police brutality: पाकिस्तान पुलिस क्रूरता की सारी हदें तोड़ने में जुट गई है. पुलिस ने 21 साल के युवक (Twenty one year Youth) को रोकने की कोशिश लेकिन उसने कार नहीं रोका. इसके बाद पुलिस के जवानों ने युवक को 22 गोलियां मारी (Shot Twenty Two Round Bullet). युवक की मौके पर ही मौत हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 5:06 PM IST
  • Share this:

इस्लामाबाद. पाकिस्तान पुलिस क्रूरता (Pakistan Police brutality) की सारी हदें तोड़ने में जुट गई है. पुलिस ने 21 साल के युवक (Twenty one year Youth) को रोकने की कोशिश लेकिन उसने कार नहीं रोका. इसके बाद पुलिस के जवानों ने युवक को 22 गोलियां मारी (Shot Twenty Two Round Bullet). युवक की मौके पर ही मौत हो गई. यह घटना शनिवार की रात 2 बजे घटी. युवक ने अस्पताल के रास्ते में ही दम तोड़ दिया. यह बताया जा रहा है कि पुलिस ने उस युवक पर कुल 22 राउंड गोलियां फायर कीं. उसामा सत्ती नाम का युवक बुरी तरह से लहूलुहान हो गया और जिसके चलते उसने कुछ ही समय बाद दम तोड़ दिया. इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है. पुलिस क्रूरता की यह घटना पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में घटी.

रात दो बजे घटी घटना

इस घटना में युवक के शरीर में कुल 17 गोलियां लगीं. मृतक के पिता ने प्रधानमंत्री इमरान खान से पुलिस के हाथों मारे गए अपने बेटे के लिए न्याय की अपील की है. इस घटना के बारे में उन्होंने बताया कि खुद पुलिस अधिकारी ने यह बात स्वीाकर कर ली है कि उनका बेटा उसामा निर्दोष था. इसके बाद में पुलिस ने कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया. इस मामले को लेकर सोशल मीडिया में पुलिस के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा देखा गया. इस मामले में कथित तौर पर अपराध में शामिल पांच पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया है. लोगों ने सोशल मीडिया पर इस्लामाबाद में बढ़ते अपराधों के लिए पुलिस की कथित संलिप्तता पर सवाल उठाए हैं.

ये भी पढ़ें: मैक्सिको: डॉक्टर ने लगवाया Pfizer-BioNTech का लगवाया कोरोना वैक्सीन, पड़ने लगे दौरे

अमेरिका: कोविड-19 का प्रकोप बढ़ा, कब्रिस्तानों में शवों के लिए नहीं बची जगह

इस्लामाबाद पुलिस ने कहा कि 21 वर्षीय उसामा सत्ती को कथित तौर कार रोकने के लिए पुलिस की चेतावनी की अनदेखी करने के बाद श्रीनगर राजमार्ग पर गोली मार दी गई थी. इस्लामाबाद पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा कि आतंकवाद निरोधी दस्ता उसके इलाके में गस्त लगा रहे थे. इसी दौरान उन्होंने एक कार को आते हुए देखा जिसके शीशे ऊपर चढ़े हुए थे. यही वजह है कि पुलिस ने उसे रुकने को कहा लेकिन युवक ने उनकी बातों को अनदेखा कर दिया जिसके बाद पुलिस ने वाहन का पीछा किया और टायरों पर निशाना लगाकर गोलीबारी की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज