UN में पाक का कश्मीर मुद्दा उठाना 'मियां की दौड़ मस्जिद तक' जैसा: अकबरुद्दीन

भाषा
Updated: September 17, 2017, 6:28 PM IST
UN में पाक का कश्मीर मुद्दा उठाना 'मियां की दौड़ मस्जिद तक' जैसा: अकबरुद्दीन
UN में पाक का कश्मीर मुद्दा उठाना 'मियां की दौड़ मस्जिद तक' जैसा: अकबरुद्दीन (Photo:PTI)
भाषा
Updated: September 17, 2017, 6:28 PM IST
भारत के एक शीर्ष राजनयिक ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा उठाने का उसका फैसला, जिसपर वहां दशकों से चर्चा नहीं हुई है, 'मियां की दौड़ मस्जिद तक' जैसा है.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने शनिवार को संवाददाताओं से कहा कि दूसरी तरफ भारत का ध्यान सोमवार से शुरू हो रहे संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के दौरान प्रगतिशील, अग्रोन्मुखी एजेंडे पर है.

अकबरुद्दीन ने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की कश्मीर मुद्दा उठाने की योजना से जुड़ी ख़बरों को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, 'मैंने हमारे रुख में ये बात रेखांकित की है जो कि प्रगतिशील, आगे की तरफ देखने से जुड़ी है. हम अपने लक्ष्यों को लेकर दूरदर्शी हैं. अगर दूसरी तरफ ऐसे दूसरे देश हैं जो आपके अनुसार, गुजरे कल के मुद्दों पर ध्यान देते हैं तो वो गुजरे कल में जीने वाले लोग हैं.' पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी इस हफ्ते संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करेंगे.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 23 सितंबर को महासभा को संबोधित करेंगी.

अकबरुद्दीन ने उर्दू के एक लोकप्रिय मुहावरे का ज़िक्र करते हुए कहा, 'अगर पाकिस्तान ऐसे मुद्दे पर ध्यान देते हैं जो संयुक्त राष्ट्र में दशकों से चर्चा की मेज़ से दूर रहा है, सालों से नहीं बल्कि दशकों से. अगर वो इसी पर ध्यान देना चाहते हैं, तो ठीक है. उनके लिए ये मियां की दौड़ मस्जिद तक जैसा है.' इससे एक दिन पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि अब्बासी संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा उठाएंगे.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर