दबाव में झुका पाकिस्तान, जमात-उद-दावा के हेडक्वॉर्टर को कब्जे में लिया

पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने प्रतिबंधित जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इन्सानियत के हेडक्वॉर्टर को अपने नियंत्रण में लिया.

एएनआई
Updated: March 7, 2019, 9:10 PM IST
दबाव में झुका पाकिस्तान, जमात-उद-दावा के हेडक्वॉर्टर को कब्जे में लिया
आतंकी हाफिज सईद
एएनआई
Updated: March 7, 2019, 9:10 PM IST
पाकिस्तान की पंजाब सरकार ने प्रतिबंधित जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इन्सानियत के हेडक्वॉर्टर को अपने नियंत्रण में ले लिया है. जमात-उद-दावा को आतंकी हाफिज सईद चलाता है. इसके अलावा आज रात वो लाहौर के चौबुरजी में स्थित जमात-उद-दावा के मस्जिद और मदरसे पर भी नियंत्रण कर लेगा.  एएनआई ने सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी है.

भारत की एयर स्ट्राइक और दुनिया के अन्य देशों के दबाव के चलते पाकिस्तान ने अपनी धरती पर फल-फूल रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है. इससे पहले बुधवार को पाकिस्तान सरकार ने आतंकवाद विरोधी कानून 1997 के आधार पर आतंकी हाफिज सईद के जमात-उद-दावा और उसके सहयोगी सहयोगी संगठन फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को बैन कर दिया था.

आपको बता दें कि हाफिज सईद मुंबई के होटल ताज में 2008 में हुए 26/11 हमले का मास्टरमाइंड है. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के अनुसार हाफिज सईद पाकिस्तान स्थित लाहौर में रहता है. NIA के अनुसार जम्मू और कश्मीर में युवाओं को पत्थरबाजी के लिए प्रोत्साहित करता है और भारत के खिलाफ उन्हें भड़काता है.

(यह भी पढ़ेंं: हिंदू विरोधी बयान देने वाले मंत्री से इमरान खान ने लिया इस्तीफा)

हाफिज सईद साल 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले, जुलाई 2006 में मुंबई लोकल में हुए सिलसिलेवार बम धमाके और नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है. सोमवार को पाकिस्तान की सरकार ने फैसला किया था कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा नामित व्यक्तियों और संस्थाओं के खिलाफ प्रतिबंधों को लागू करेगा. विदेश मंत्रालय के अनुसार इसके लिए प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए एक आदेश जारी किया था.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (कुर्की और जब्ती) आदेश को 2019, पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) अधिनियम, 1948 के प्रावधानों के अनुसार जारी किया गया है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 7, 2019, 8:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...