• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • विदेशी राजनयिकों के साथ उस जगह नहीं गया भारत, जहां आतंकी ठिकाने ध्‍वस्‍त करने का किया दावा: पाकिस्‍तान

विदेशी राजनयिकों के साथ उस जगह नहीं गया भारत, जहां आतंकी ठिकाने ध्‍वस्‍त करने का किया दावा: पाकिस्‍तान

पाकिस्‍तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता मोहम्‍मद फैजल ने कहा कि भारत की ओर से कोई भी अधिकारी विदेशी राजनयिकों के साथ एनओसी दौरे पर नहीं गया.

पाकिस्‍तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता मोहम्‍मद फैजल ने कहा कि भारत की ओर से कोई भी अधिकारी विदेशी राजनयिकों के साथ एनओसी दौरे पर नहीं गया.

भारतीय सेना प्रमुख (Indian Army Chief) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat ) ने रविवार को कहा था कि भारत की ओर से किए गए जवाबी हमले में पाकिस्‍तान (Pakistan) के छह से 10 सैन्‍यकर्मी मारे गए. इस दौरान भारतीय सेना ने तीन आतंकी ठिकाने (Terror Camps) भी ध्‍वस्‍त किए. इस पर पाकिस्‍तानी सेना (Pakistan Army) ने भारत को विदेशी राजनयिकों या मीडिया के साथ नियंत्रण रेखा (LoC) चलकर दावा साबित करने की चुनौती दी थी.

  • Share this:
    इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) का कहना है कि विदेशी राजनयिकों (Foreign Diplomats) के साथ कोई भी भारतीय अधिकारी (Indian Official) नियंत्रण रेखा (LoC) पर उस जगह नहीं गया, जहां भारतीय सेना (Indian Army) ने तीन आतंकी ठिकाने (Terror camp) ध्‍वस्‍त करने का दावा किया था. बता दें कि भारतीय सेना प्रमुख (Indian Army Chief) जनरल बिपिन रावत ने रविवार को बताया था कि भारत की ओर से किए गए जवाबी हमले में पाकिस्‍तान के 6-10 सैन्‍यकर्मी मारे गए, जबकि तीन आतंकी ठिकाने भी ध्‍वस्‍त कर दिए गए. भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए जम्‍मू-कश्‍मीर के तंगधार व केरन सेक्‍टर के रास्‍ते आतंकियों की घुसपैठ कराने की पाकिस्‍तान की कोशिश को नाकाम कर दिया.

    भारत को दी थी साथ आकर दावा साबित करने की चुनौती
    जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat )ने कहा कि इसके अलावा सेना की जवाबी कार्रवाई में नियंत्रण रेखा के नजदीक एक और आतंकी ठिकाना ध्‍वस्‍त किया गया. इससे एलओसी पर आतंकियों के ठिकानों को काफी नुकसान पहुंचा है. इस पर पाकिस्‍तान की सेना (Pakistan Army) ने रविवार को चुनौती दी, 'भारत किसी भी विदेशी राजनयिक या मीडिया को ध्‍वस्‍त किए गए आतंकी ठिकानों की जगह लेकर आए और साबित करे कि उसका दावा सही है.' पाकिस्‍तान के विदेश मंत्रालय (Pakistan Foreign Ministry) के प्रवक्‍ता मोहम्‍मद फैजल ने कहा कि इस्‍लामाबाद में मौजूद कई विदेशी दूतावासों के राजनयिक जुरा और शाहकोट सेक्‍टर गए.

    'भारत ने लॉन्‍च पैड के को-ऑर्डिनेट्स भी उपलब्‍ध नहीं कराए'
    मोहम्‍मद फैजल (Mohammad Faisal) ने कहा कि भारत की ओर से कोई भी अधिकारी विदेशी राजनयिकों के साथ इस दौरे (Visit) पर नहीं गया. यहां तक कि उन्‍होंने नियंत्रण रेखा के नजदीक मौजूद किसी आतंकी लॉन्‍च पैड (Launch Pad) के को-ऑर्डिनेट्स (Coordinates) हमें उपलब्‍ध नहीं कराए. ऐसे में भारतीय सेना प्रमुख का दावा महज दावा ही नजर आ रहा है. नियंत्रण रेखा के इस दौरे पर मोहम्‍मद फैजल के साथ डिप्‍लोमैटिक कोर भी गई थी. हालांकि, फैजल ने एलओसी का दौरा करने वाले विदेशी राजनयिकों की संख्‍या और उनके देशों (Nationalities) के बारे में कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की.

    'अपने सेना प्रमुख का साथ नहीं दे रहा भारतीय उच्‍चायोग'
    पाकिस्‍तान की सेना की मीडिया विंग के डायरेक्‍टर जनरल मेजर जनरल आसिफ गफूर (Maj Gen Asif Ghafoor) ने तंज कसते हुए कहा कि भारतीय उच्‍चायोग (Indian High Commission) कितना शानदार है, जो अपने ही सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की बात के साथ खड़ा नहीं होता है. भारतीय उच्‍चायोग में इतनी भी हिम्‍मत नहीं है कि पाकिस्‍तान में मौजूद अन्‍य राजनयिकों के साथ नियंत्रण रेखा तक जा सके. उनमें इतनी हिम्‍मत नहीं कि वे अपने ही दावे को साबित करने के लिए आगे आ सकें.

    ये भी पढ़ें:

    अमित शाह के इतिहास दोबारा लिखने के विचार से सहमत हैं लेखक विलियम डेलरिम्‍पल

    OPINION: हरियाणा और महाराष्‍ट्र में इस कारण फीका रहा विधानसभा चुनाव

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज