पाकिस्तानी मंत्री बोली- इमरान को दिखाया जाता है नीचा, राजनयिक करते हैं ऐश

पाकिस्तानी मंत्री बोली- इमरान को दिखाया जाता है नीचा, राजनयिक करते हैं ऐश
पाकिस्तानी पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान (Pakistan) की मानवाधिकार मंत्री शीरीन मजारी ने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर पीएम इमरान खान (PM Imran Khan) अकेले लड़ रहे हैं. अगर विदेश मंत्रालय ने प्रधानमंत्री का साथ दिया तो हालात कुछ और होते.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 16, 2020, 6:13 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान सरकार की तरफ से दुनिया के हर मंच पर कश्मीर (Kashmir) का मुद्दा उछाला जाता है. लेकिन हमेशा इस बात पर उसे मुहं का खानी पड़ती है. इस बार किसी और ने नहीं बल्कि उनके देश की ही एक मंत्री ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय पर निशाना साधा है. मानवाधिकार मंत्री शीरीन मजारी ने कहा है कि कश्मीर मुद्दे पर प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) को विदेश मंत्रालय का साथ नहीं मिल रहा है. शीरीन मजारी ने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर प्रधानमंत्री इमरान खान अकेले पड़ गए हैं, वह इस मुद्दे पर अकेले लड़ रहे हैं, लेकिन विदेश मंत्रालय की तरफ से उन्हें कोई मदद नहीं मिल रही है. उन्होंने कहा, अगर पीएम को विदेश मंत्रालय का साथ मिले तो हालात कुछ और हो सकते थे.

इस्लामाबाद में शनिवार शाम एक कार्यक्रम के दौरान मजारी ने सीधे तौर पर विदेश मंत्रालय और शाह महमूद कुरैशी को निशाने पर लिया. मजारी ने कहा- हमारे विदेश मंत्रालय ने कश्मीर मुद्दे पर प्रधानमंत्री इमरान खान और कश्मीरियों को नीचा दिखाया. मुझे यह कहने में कोई गुरेज नहीं कि इमरान इस मुद्दे पर अकेले लड़ रहे हैं कि विदेश मंत्रालय उनका साथ नहीं देता. अगर उसने पीएम का साथ दिया होता तो आज हालात कुछ और होते. मजारी ने बेहद तल्ख अंदाज में विदेश मंत्रालय के अफसरों पर हमला किया. कहा कि हम किस मुंह से कश्मीर की बात करें. हमारे डिप्लोमैट्स महंगे होटलों में ऐश करते हैं. थ्री-पीस सूट्स पहनते हैं. फोन पर गप्पें मारते रहते हैं. पाकिस्तान से अच्छा तो बुर्किना फासो जैसे छोटा और गरीब देश है. वहां के डिप्लोमैट्स काम तो करते हैं. कश्मीर एक संघर्ष है. भारत ने वहां अपनी ताकत दिखाने की कोशिश की है. और हमारा देश क्या कर रहा है? ये दुनिया देख रही है.

ये भी पढ़ें: भारत और नेपाल के रिश्ते फिर से हुए मजबूत, इस मेगा प्रोजेक्ट के निर्माण में आई तेजी...



इस बयान के मायने अहम
शिरीन मजारी को इमरान का करीबी माना जाता है. पाकिस्तानी मीडिया का एक हिस्सा विदेश मंत्री कुरैशी को अगला पीएम बताता रहा है. सेना को भी कुरैशी के समर्थन में बताया जाता है. ऐसे में मजारी का बयान अचानक दिया गया स्टेटमेंट नहीं माना जा सकता. हो सकता है यह बयान इमरान के इशारे पर दिया गया हो. कहा जाता है कि इमरान और कुरैशी के रिश्ते कुछ समय से अच्छे नहीं हैं. सऊदी अरब के मामले में वो मुल्क की फजीहत करा चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज