PIA का स्टाफ करता है ड्रग्स, गोल्ड और करंसी स्मगलिंग, इमरान की पार्टी ने लगाया आरोप

प्रतीकात्मक तस्वीर.

प्रतीकात्मक तस्वीर.

पाकिस्तान के एविएशन डिवीजन ने संदिग्ध लाइसेंसों के चलते 15 और पायलटों (Pilots) को निलंबित कर दिया है. इसके बाद ऐसे पायलटों की संख्या बढ़कर 93 हो गई है, जिनका सत्यापन चल रहा है.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स (PIA) की मुश्किलें दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं. फर्जी ड्राविंग लाइसेंस (Fake Driving License) के बाद अब फिर से एक नया खुलासा हुआ है. इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ की प्रवक्ता ने अब कहा है कि यह बात भी सबको पता है कि PIA स्टाफ पहले कई तस्करी में पकड़ा जाता रहा है. बता दें, मई के महीने में कराची हुए प्लेन क्रैश के बाद से ही पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स को लेकर नए खुलासे हो रहे हैं. इससे पहले देश के उड्डयन मंत्री सरवर खान ने पहले आरोप लगाया था कि करीब 40 प्रतिशत पायलट फर्जी होते हैं.

एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान प्रवक्ता से सवाल किया गया था कि क्या पायलटों के फर्जीवाड़े का आरोप लगाने से दुनिया में मजाक नहीं बना है. इस पर उन्होंने कहा कि ऐसे नहीं है. उन्होंने कहा, 'जब हमारे पास ये आया कि हमारा क्रू तस्करी माफिया के साथ शामिल है जिसमें ड्रग्स, करंसी, सोने की तस्करी शामिल है. हमारे पायलट पकड़े भी जाते हैं और उनके ऊपर आरोप भी लगते हैं.' पार्टी प्रवक्ता ने कहा है कि यह आरोप वह नहीं लगा रही हैं बल्कि ऐसे वाकये पहले रिपोर्ट हुए हैं. कराची क्रैश के बाद सरवर खान ने कहा था कि पिछले साल एक जांच में पता चला है कि पाकिस्तान के 860 ऐक्टिव पायलट्स में से 262 पायलट्स के पास या तो फर्जी लाइसेंस थे या उन्होंने अपने एग्जाम में नकल की थी. उन्होंने कहा कि इन पायलट्स ने न कभी एग्जाम दिया होता है और न इनके पास प्लेन उड़ाने का सही अनुभव होता है. खान ने कहा कि दुर्भाग्य से पायट्स की नियुक्ति राजनीतिक आधार पर होती है. उन्होंने बताया कि 4 PIA पायलट्स की डिग्री फर्जी पाई गई है और नियुक्ति के वक्त मेरिट को नजरअंदाज कर दिया जाता है.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान के मंत्री ने कहा, इस्लामाबाद में मंदिर निर्माण के लिए हिंदुओं का स्वागत है



15 पायलट निलंबित
वहीं दूसरी तरफ, पाकिस्तान के एविएशन डिवीजन ने संदिग्ध लाइसेंसों के चलते 15 और पायलटों को निलंबित कर दिया है. इसके बाद ऐसे पायलटों की संख्या बढ़कर 93 हो गई है, जिनका सत्यापन चल रहा है. डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, 262 पायलटों में से 15 के पास संदिग्ध लाइसेंस हैं. शुक्रवार को एविएशन डिवीजन के प्रवक्ता अब्दुल सत्तार खोखर ने कहा कि कुल 262 पायलटों के संदिग्ध लाइसेंस को बोर्ड ऑफ इंक्वायरी द्वारा चिन्हित किया गया था. उन्होंने कहा कि संघीय कैबिनेट ने इन 262 पायलटों में से 28 पायलटों के लाइसेंस रद्द करने को मंजूरी दी थी. वे कोई भी उड़ान ड्यूटी नहीं कर पाएंगे. उचित कानूनी प्रक्रियाओं के बाद उनके लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं. इसके तहत पायलटों को सुनवाई का अवसर भी दिया गया था. इस बीच 93 पायलटों के लाइसेंस के सत्यापन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और शेष 141 मामलों की प्रक्रिया एक सप्ताह के भीतर पूरी होने की उम्मीद है. प्रवक्ता ने कहा कि विमानन मंत्री गुलाम सरवर खान इस आवश्यक अनुशासनात्मक कार्रवाई के बाद जांच और सत्यापन की पूरी प्रक्रिया की निगरानी कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज