बेल्‍ट और रोड योजना से खुश नहीं इमरान खान, चीन से दोबारा करेंगे बात!

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार के मंत्री और सलाहकारों का कहना है कि समझौते से चीनी कंपनियों को अनुचित रूप से लाभ हुआ है.

News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 8:22 PM IST
बेल्‍ट और रोड योजना से खुश नहीं इमरान खान, चीन से दोबारा करेंगे बात!
पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार के मंत्री और सलाहकारों का कहना है कि समझौते से चीनी कंपनियों को अनुचित रूप से लाभ हुआ है.
News18Hindi
Updated: September 10, 2018, 8:22 PM IST
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार चीन की महत्वाकांक्षी एक क्षेत्र सड़क ( वन बेल्ट वन रोड) पहल के तहत पूर्व में हुए समझौतों पर फिर से बातचीत की योजना बना रही है. इसका कारण नई सरकार का मानना है कि यह समझौता अनुचित रूप से चीनी कंपनियों के पक्ष में है. फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में यह कहा गया है.

परियोजना अरबों डालर की चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) योजना से जुड़ी है. इसमें एशिया और यूरोप को पुराने रेशम मार्क से जोड़ने की योजना है. पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार के मंत्री और सलाहकारों का कहना है कि समझौते से चीनी कंपनियों को अनुचित रूप से लाभ हुआ है. सीपीईसी की शुरुआत 2015 में हुई.

इसमें सड़क, रेलवे और ऊर्जा परियोजनाओं को चीन के संसाधन समृद्ध शिनजिआंग उगुर स्वायत्त क्षेत्र को पाकिस्तान के अरब सागर में स्थित रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण ग्वादर बंदरगाह को जोड़ने की योजना है.

उल्लेखनीय है कि पूर्व में प्रधानमंत्री खान ने सीपीईसी परियोजनाओं में पारदर्शिता का अभाव और भ्रष्टाचार को लेकर जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की आलोचना की थी. उन्होंने मौजूदा सीपीईसी अनुबंधों का पूरा ब्योरा सार्वजनिक करने का संकल्प जताया है जो गोपनीय रखा गया है.

खान के वाणिज्य, परिधान, उद्योग एवं उत्पादन तथा निवेश मामलों के सलाहकार अब्दुल रज्जाक दाऊद के हवाले ब्रिटेन के अखबार में लिखा गया है, ‘पूर्व सरकार ने सीपीईसी के मामले में चीन के साथ बातचीत में अच्छा काम नहीं किया. उन्होंने अपना होमवर्क ठीक से नहीं किया और बेहतर तरीके से वार्ता नहीं की जिससे उन्हें काफी लाभ मिला.’ (एजेंसी इनपुट के साथ)
Loading...

और भी देखें

Updated: November 08, 2018 07:20 AM ISTखुशखबरी! अगले 15 दिन में 5 रुपये लीटर तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल-डीज़ल
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर