लाइव टीवी

इमरान खान की बढ़ेंगी मुश्किलें, पाकिस्‍तान की राजनीति में लौट रहे हैं परवेज मुशर्रफ

भाषा
Updated: October 4, 2019, 7:15 PM IST
इमरान खान की बढ़ेंगी मुश्किलें, पाकिस्‍तान की राजनीति में लौट रहे हैं परवेज मुशर्रफ
पाकिस्‍तान के पूर्व सैन्‍य शासक परवेज मुशर्रफ जल्‍द ही पाकिस्‍तान की राजनीति में लौटने वाले हैं.

परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) पाकिस्‍तान (Pakistan) की राजनीति में लौटने वाले हैं. ऐसा बताया जा रहा है कि वे छह अक्‍टूबर को राजनीति में वापसी कर सकते हैं.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) अपने खराब स्वास्थ्य के कारण एक साल से ज्यादा समय तक निष्क्रिय रहने के बाद छह अक्टूबर को राजनीति में वापसी करने की सोच रहे हैं. मुशर्रफ की पार्टी की एक नेता ने ये जानकारी दी है.

जनरल (सेवानिवृत्त) मुशर्रफ (76) मार्च 2016 से दुबई में रह रहे हैं. वर्ष 2007 में संविधान की अवहेलना के लिए वह देशद्रोह के मामले का सामना कर रहे हैं. इस दंडनीय अपराध के लिए उन्हें 2014 में दोषी पाया गया था. देशद्रोह के लिए मृत्युदंड या आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है.

ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) के संस्थापक मुशर्रफ अपनी खराब तबीयत के कारण पिछले साल राजनीतिक गतिविधियों से दूर हो गए थे. 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने पार्टी की नेता के हवाले से बताया कि स्वास्थ्य में सुधार के बाद मुशर्रफ अब वापसी करने का इरादा बना रहे हैं.

एपीएमएल की महासचिव मेहरीन मलिक ने कहा कि पिछले महीने 12 दिन तक लंदन में एक अस्पताल में उनका इलाज चला. उन्होंने कहा, 'अब वह ठीक हैं और दुबई लौट आए हैं.' उन्होंने कहा कि मुशर्रफ के निर्देश पर एपीएमएल ने समूचे पाकिस्तान में अपनी राजनीतिक गतिविधियां शुरू कर दी है. उन्होंने कहा, 'वह (मुशर्रफ) छह अक्टूबर को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस्लामाबाद में पार्टी के नौवें स्थापना दिवस को संबोधित करेंगे.'

...अब बेस्ट फ्रेंड चीन ही पाकिस्तान को करेगा बर्बाद!

पाकिस्तान के शुभचिंतक देश चीन की वजह से उसकी अर्थव्यवस्था लगातार कर्ज़ के तले दबती जा रही है. न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्‍तान को जितनी राशि आईएमएफ को चुकानी है उससे दोगुनी राशि चीन की चुकानी है. पाकिस्‍तान चीन के कर्ज के बोझ तले दबा हुआ है. कर्ज के चलते पाकिस्तान के सामने फॉरेन एक्सचेंज का संकट भी आ खड़ा हुआ है.

आईएमएफ के मुताबिक जून 2022 तक पाकिस्‍तान को चीन को 6.7 अरब डॉलर की रकम चुकानी है. अगर पाकिस्‍तान ऐसा नहीं कर पाता है तो उसपर दबाव बहुत ज्‍यादा बढ़ जाएगा. बीते साल सेंटर फॉर ग्लोबल डिवेलपमेंट ने पाकिस्तान को उन 8 देशों में शामिल किया था, जो बेल्ट ऐंड रोड प्लान के चलते कर्ज के संकट में फंसे हैं. सेंटर फॉर स्टडी ऑफ पाकिस्तान के मेंबर बुरजिन वाघमर ने कहा कि यह पूरी तरह से पाकिस्तान के खिलाफ ही गया है.
Loading...

ये भी पढ़ें: इंटरनेशनल बेइज्जती के बाद इमरान खान की 'इज्जत' बचाने के लिए पाकने दी सफाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 7:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...