Home /News /world /

अमेरिका नहीं दे रहा भाव, दोस्ती के लिए ऐसे छटपटा रहा पाकिस्तान

अमेरिका नहीं दे रहा भाव, दोस्ती के लिए ऐसे छटपटा रहा पाकिस्तान

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (AP)

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (AP)

Pakistan-America Relation: जो बाइडन (Joe Biden) के फोन न करने को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistan PM Imran Khan) सार्वजनिक रूप से बेबसी जता चुके हैं. उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि अमेरिकी राष्ट्रपति तो एक बिजी व्यक्ति हैं, इसलिए फोन नहीं किया होगा. उसके बाद पाकिस्‍तान के बड़बोले राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोइद यूसुफ ने धमकाने के अंदाज में कहा कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति लगातार पाकिस्‍तान की उपेक्षा करते रहे तो हमारे पास और भी विकल्‍प मौजूद हैं. यूसुफ का इशारा चीन की ओर था.

अधिक पढ़ें ...

    इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) हर हाल में अमेरिका (US-Pakistan Relation) के साथ अपने रिश्तों को मजबूत करने की कोशिश में जुटा है. यही कारण है कि पाकिस्तानी विदेश मत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mahmood Qureshi) अमेरिकी नेताओं ने लगातार मुलाकात कर रहे हैं. अफगानिस्तान (Afghanistan Crisis) से अमेरिकी सेना की वापसी और सैन्य बेस को लेकर हुए विवाद के बाद राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) पाकिस्तान से खफा हैं. राष्ट्रपति बनने के बाद उन्होंने आजतक इमरान खान (Imran Khan) से बात तक नहीं की है. ऐसे में कुरैशी अमेरिका से रिश्ते मजबूत बनाने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं.

    शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि उनका देश अमेरिका के साथ अपने पुराने संबंधों को और अधिक मजबूत करना चाहता है. कुरैशी ने सोमवार को अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की विदेश मामलों की समिति (एचएफएसी) के अध्यक्ष ग्रेगरी मीक्स और एचएफएसी की एशिया उपसमिति के अध्यक्ष अमी बेरा के साथ मुलाकाल भी की.

    पाकिस्‍तान के रास्‍ते अफगानिस्‍तान पहुंचेगा भारत का गेहूं, इमरान सरकार ने खोला रास्‍ता

    अमेरिकी नेताओं से मिल रहे पाक विदेश मंत्री
    पाकिस्तानी विदेश कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, कुरैशी ने पाकिस्तान की यात्रा पर आए अमेरिकी कांग्रेस के सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि पाकिस्तान अमेरिका के साथ अपने पुराने संबंधों को महत्व देता है और इस रिश्ते को और मजबूत तथा व्यापक बनाना चाहता है. कुरैशी ने जोर देकर कहा कि पाकिस्तान भू-अर्थशास्त्र की अनिवार्यता का अनुसरण कर रहा है. देश को व्यापार, निवेश और वित्त का केंद्र बनाने के लिए दृढ़ संकल्पित है.

    अमेरिका से पाकिस्तान में निवेश की अपील
    उन्होंने अमेरिकी कंपनियों को अन्य बढ़ते क्षेत्रों से लाभांश प्राप्त करने के अलावा, पाकिस्तान के आईटी और स्वास्थ्य क्षेत्रों में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया. हालांकि पाकिस्तान में बढ़ते आतंकवाद और अस्थिर सरकार के कारण कोई भी विदेशी निवेशक पाकिस्तान में निवेश करना नहीं चाहता है. दूसरा कारण पाकिस्तान के ऊपर लगा एफएटीएफ का प्रतिबंध भी है.

    TTP ने इमरान सरकार से मांगी तीसरे देश में ऑफिस खोलने की मंजूरी, खटाई में पड़ी बातचीत

    बता दें कि जो बाइडन के फोन न करने को लेकर इमरान खान सार्वजनिक रूप से बेबसी जता चुके हैं. उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि अमेरिकी राष्ट्रपति तो एक बिजी व्यक्ति हैं, इसलिए फोन नहीं किया होगा. उसके बाद पाकिस्‍तान के बड़बोले राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोइद यूसुफ ने धमकाने के अंदाज में कहा कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति लगातार पाकिस्‍तान की उपेक्षा करते रहे तो हमारे पास और भी विकल्‍प मौजूद हैं. यूसुफ का इशारा चीन की ओर था. (एजेंसी इनपुट के साथ)

    Tags: Imran khan, India pakistan, Joe Biden, Pakistan army

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर