भारत के दोस्‍त रूस की सेना पाकिस्‍तानी आर्मी के साथ क्‍यों कर रही सैन्‍याभ्‍यास?

रूसी संघ के विशेष बल की टुकड़ी दो सप्ताह के संयुक्त अभ्यास ड्रूजबा 5 के लिए पाकिस्तान पहुंची है. (फाइल फोटो)
रूसी संघ के विशेष बल की टुकड़ी दो सप्ताह के संयुक्त अभ्यास ड्रूजबा 5 के लिए पाकिस्तान पहुंची है. (फाइल फोटो)

Russian troops drill with pakistan military : दो सप्ताह तक चलने वाला यह सैन्‍य अभ्यास औपचारिक रूप से 8 नवंबर को तारबेला में शुरू होगा. इसमें रूस के कुछ 70 रूसी सैनिक और अधिकारी भाग ले रहे हैं. यह 21 नवंबर तक जारी रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 12:41 PM IST
  • Share this:
इस्‍लामाबाद : सामरिक दृष्टि से भारत (India) के सबसे भरोसेमंद और मजबूत साथी रूस (Russia) की सेना पाकिस्‍तान की आर्मी (Pakistan Army) के साथ सैन्‍य अभ्‍यास के लिए यहां पहुंची है. रूसी संघ के विशेष बल की यह टुकड़ी गुरुवार को पाकिस्‍तान (Pakistan) पहुंची. दोनों देशों की सेनाओं के बीच इस अभ्‍यास को कोडनाम द‍िया गया है Druzhba (दोस्‍ती) 5.

आईएसपीआर ने एक बयान में कहा है, "रूसी संघ के विशेष बल की टुकड़ी दो सप्ताह के संयुक्त अभ्यास ड्रूजबा 5 के लिए पाकिस्तान पहुंची है. इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों सेनाओं के अनुभवों को आतंकवाद निरोधक क्षेत्र में साझा करना है."

इस बीच, रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को मजबूत करना है और यह अंतरराष्ट्रीय सैन्य सहयोग के ढांचे के तहत आयोजित किया जा रहा है.







दो सप्ताह तक चलने वाला यह सैन्‍य अभ्यास औपचारिक रूप से 8 नवंबर को तारबेला में शुरू होगा. इसमें रूस के कुछ 70 रूसी सैनिक और अधिकारी भाग ले रहे हैं. यह 21 नवंबर तक जारी रहेगा. पाकिस्तान की ओर से भी लगभग समान संख्या में सैनिक भाग ले रहे हैं.

रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि "इस अभ्यास के दौरान दोनों देशों के सैन्यकर्मी अपने अनुभवों का आदान-प्रदान करेंगे और कॉम्‍बैट ऑपरेशंस पर फोकस रखेंगे. विशेष रूप से अवैध सशस्त्र संरचनाओं को नष्ट करने के लिए."

वहीं, पाकिस्‍तानी सेना के प्रवक्‍ता की ओर से कहा गया है कि स्काई डाइविंग और बंधक बचाव अभियान अभ्यास का मुख्य आकर्षण होगा.

दरअसल, ये अभ्यास 2016 से पाकिस्तान और रूस के बीच वैकल्पिक रूप से आयोजित किए जा रहे हैं. पाकिस्तान तीसरी बार इस ड्रिल की मेजबानी कर रहा है. इस बीच, रूस ने दो बार युद्ध खेलों का आयोजन किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज