लाइव टीवी

आतंक के खिलाफ पाकिस्‍तान के कदम से तय होगी भारत के साथ वार्ता: अमेरिका

भाषा
Updated: October 25, 2019, 7:46 PM IST
आतंक के खिलाफ पाकिस्‍तान के कदम से तय होगी भारत के साथ वार्ता: अमेरिका
भारत-पाकिस्तान शांति वार्ता तभी होगी जब पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कदम उठाएगा

अमेरिका (America) ने कहा कि भारत और पाकिस्तान (India-Pakistan) के बीच शांति वार्ता इस्लामाबाद के आतंकवादी संगठनों के खिलाफ उठाए गई निरंतर और स्थायी कार्रवाइयों पर निर्भर करती है.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कश्मीर (Kashmir) मामले पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) के मध्यस्थता करने की बात दोहराते हुए कहा कि भारत और पाकिस्तान (India-Pakistan) के बीच शांति वार्ता इस्लामाबाद के आतंकवादी संगठनों के खिलाफ उठाए गई निरंतर और स्थायी कार्रवाइयों पर निर्भर करती है. पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन के जनवरी 2016 में पठानकोट के वायुसेना अड्डे पर हमला करने के बाद से ही भारत ने इस्लामाबाद से हर तरह का संवाद रोक रखा है.

भारत का कहना है कि आतंकवाद और वार्ता एकसाथ नहीं चल सकते. भारत सरकार के 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) के अधिकतर प्रावधान खत्म करने के बाद दोनों देशों के बीच संबंध और खराब हो गए. भारत के इस कदम के बाद पाकिस्तान ने कूटनीतिक संबंध का स्तर गिरा दिया और भारत के उच्चायुक्त को निष्कासित कर दिया.

विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि अमेरिका उस माहौल को बढ़ावा देता रहेगा जो भारत-पाकिस्तान के बीच रचनात्मक वार्ता के लिए राह बनाए. नाम उजागर ना करने की शर्त पर अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रम्प ने भारत और पाकिस्तान के बीच कायम तनाव को लेकर चिंता जाहिर की है और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और नरेन्द्र मोदी से सीधे इस बारे में बात भी की है.

अधिकारी ने कहा कि अगर दोनों देश कहते हैं तो वह (ट्रम्प) निश्चित तौर पर मध्यस्थ की भूमिका निभाने को तैयार है. बाहरी मध्यस्थता नहीं चाहना यह भारत का रुख है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के कार्यालय के इस कथन में भारत का रुख बिल्कुल स्पष्ट है कि वह मध्यस्थ नहीं चाहते. भारत ने जम्मू-कश्मीर को अपना अभिन्न हिस्सा बताते हुए अमेरिका या संयुक्त राष्ट्र सहित किसी भी तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप की बात को खारिज किया है. उसका कहना है कि यह पाकिस्तान और उसका द्विपक्षीय मामला है.

भारत के आतंकवाद और वार्ता एक साथ ना होने की बात का समर्थन करते हुए अधिकारी ने कहा कि यह आवश्यक है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ निरंतर और स्थायी कदम उठाए. अधिकारी ने कहा कि वार्ता संभव है और अमेरिका परमाणु शक्ति से सम्पन्न दोनों देशों को इसके लिए प्रोत्साहित करेगा क्योंकि उनकी सीमाएं जुड़ी हैं.

ये भी पढ़ें : US ने भारत से कहा कश्मीर मुद्दे पर रोडमैप तैयार करें, पाकिस्तान को भी दी नसीहत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 5:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...