नहीं थे पाकिस्तानियों के पास ईद मनाने के पैसे, पीएम इमरान ने ये कहा

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की भी नमाज पढ़ते हुए तस्वीरें सामने आईं. उन्होंने इस्लामाबाद में नमाज पढ़ी.

News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 9:03 PM IST
नहीं थे पाकिस्तानियों के पास ईद मनाने के पैसे, पीएम इमरान ने ये कहा
इमरान खान ने ईद इस तरह से मनाने को कहा है कि पाकिस्तान के गरीब तबके पर ज्यादा जोर न पड़े (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 9:03 PM IST
आज दुनिया भर में ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया गया. पाकिस्तान में भी यह त्योहार मनाया गया लेकिन पाकिस्तान फिलहाल आर्थिक संकट से जूझ रहा है, ऐसे में वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान के नागरिकों को ईद की बधाई देने के साथ एहतियात बरतने की दरख्वास्त भी की. उन्होंने पाकिस्तान के आर्थिक संकट के बारे में अपने विचार रखते हुए पाकिस्तान के लोगों से एक संकल्प लेने को कहा, "चलिए हम सभी अपने समाज के गरीब तबके पर कम से कम बोझ डालते हुए अपने आर्थिक संकट को दूर करने के लिए एकजुट राष्ट्र के रूप में खड़े होने का संकल्प लें."

पाकिस्तान में भी लोग ईद के दौरान खुले स्थानों पर इकट्ठा होकर एक-दूसरे से मिलते हैं और बधाईयां देते हैं. पाकिस्तान में आज लोगों ने मस्जिदों में जाकर नमाज पढ़ी. खुद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की भी नमाज पढ़ते हुए तस्वीरें सामने आईं. उन्होंने इस्लामाबाद में नमाज पढ़ी.

फैज़ल मस्जिद में पढ़ी नमाज़
पाकिस्तान के राष्ट्रपति हैं आरिफ अल्वी. उन्होंने भी कई देशों के राजनयिकों के साथ इस्लामाबाद की फैजल मस्जिद में नमाज पढ़ी. कराची में आज दिन की शुरुआत ही 21 तोपों की सलामी के साथ हुई. यहां पर एक पुराना पोलो ग्राउंड है. जिसका ऑफिशियल मान गुलशन-ए-जिन्ना है. वहां नमाज का मुख्य कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इस दौरान यहां के प्रांतीय गवर्नर ने सिंघ, उसमें भी विशेष रूप से कराची में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के आदेश दिए थे.

पाकिस्तान इन दिनों भीषण आर्थिकं संकट से जूझ रहा है (फोटो क्रेडिट- पीटीआई)


हालांकि खैबर पख्तूनख्वा में ईद का त्योहार मंगलवार को ही मना लिया गया था. यहां के गवर्नर ने ऐलान किया था कि रमजान के बाद का पहला दिन वहां मंगलवार को ही माना जाएगा.

बुरी आर्थिक स्थिति के बावजूद पाकिस्तान लेता जा रहा है क़र्ज़
Loading...

पाकिस्तान के ऊपर वैश्विक आर्थिक एजेंसियों के अलावा चीन का भी बहुत सारा कर्ज है. बहुत सा कर्ज उसने भारत के खिलाफ लड़ाई के लिए रक्षा जरूरतों के चलते भी ले रखा है. चीन अभी भी उसे कर्ज दे रहा है. यह सारा कर्ज उसकी जर्जर आर्थिक स्थिति के बीच मिल रहा है.

सीपीइसी को लेकर उसका चीन के साथ हुआ समझौता स्पष्ट नहीं है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) ने पाकिस्तान को सहायता देने से पहले उससे चीन की परियोजनाओं का ब्योरा मांगा था जिसे लेकर पाकिस्तान ने आनाकानी की थी.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका! सेना ने मजबूर होकर लिया ये बड़ा फैसला

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 5, 2019, 8:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...