येलो जैकेट विरोध के चलते पेरिस में हाई एलर्ट, दुकानें और मेट्रो स्टेशन रहे बंद

फ्रांस के गृहमंत्री क्रिस्टोफर कास्टनर ने कहा कि पिछले हफ्ते आठ हज़ार लोग सड़कों पर उतर आए थे लेकिन उनमें से कुछ लोग काफी हिंसक थे.

News18.com
Updated: December 8, 2018, 11:05 AM IST
येलो जैकेट विरोध के चलते पेरिस में हाई एलर्ट, दुकानें और मेट्रो स्टेशन रहे बंद
विरोध करते हुए येलो जैकेट प्रदर्शनकारी
News18.com
Updated: December 8, 2018, 11:05 AM IST
येलो जैकेट प्रदर्शन के कारण शनिवार को पेरिस हाई एलर्ट पर रहा. पिछले हफ्ते हुई हिंसक घटनाओं  के मद्देनज़र इस हफ्ते पेरिस को हाई एलर्ट पर रखा गया था ताकि किसी भी तरह हिंसक गतिविधि के उभरने की स्थिति में समय रहते उस पर काबू पाया जा सके.दुकानें, म्यूज़ियम, मेट्रो स्टेशन बंद रहे और सारे फुटबाल मैच और म्यूज़िक शो को रद्द कर दिया गया.

पिछले हफ्ते राजधानी पेरिस में अब तक के सबसे भीषण दंगे हुए थे जिससे पूरा देश हिल गया था और राष्ट्रपित इमैनुएल मैक्रोन के लिए दिक्कतें खड़ी हो गई थीं.

ये भी पढ़ें- 'मोदी जैकेट' पहनकर ऑफिस पहुंचे कोरियाई राष्ट्रपति, PM मोदी को ऐसे कहा थैंक्यू!

फ्रांस के गृहमंत्री क्रिस्टोफर कास्टनर ने कहा कि पिछले हफ्ते आठ हज़ार लोग सड़कों पर उतर आए थे लेकिन उनमें से कुछ लोग काफी हिंसक थे. आगे उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की हिंसक घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. पिछले शनिवार को कई वाहनों में आग लगा दी गई और दुकानों को लूट लिया गया था. प्रधानमंत्री एडवर्ड फिलिप ने खुद को 'मॉडरेट' येलो जैकेट कहने वाले ग्रुप से मुलाकात की. इस ग्रुप ने लोगों से विरोध प्रदर्शन से न जुड़ने की अपील की थी.

मीटिंग के बाद आंदोलन के एक प्रवक्ता क्रिस्टोफ कैलेनकॉन ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हमारी बात सुन ली है और हमसे वादा किया है कि हमारी मांगों को राष्ट्रपति तक पहुंचाएंगे.

फ्रांस में जनता के हिंसक विरोध के चलते प्रधानमंत्री एडवर्ड फिलिप ने मंगलवार को पेट्रोलियम ईंधन पर करों में प्रस्तावित वृद्धि के फैसले को फिलहाल स्थगित कर दिया था. फिलिप ने टेलीविज़न पर अपने संबोधन में पीला कुर्ता (येलो वेस्ट) पहनकर प्रदर्शन कर रहे लोगों के लिए नई रियायतों की घोषणा करते हुए कहा कि ईंधन कीमतों में वृद्धि को छह महीने के लिए स्थगति कर दिया गया है.

ये भी पढ़ें- मून के ट्वीट के बाद उमर अब्दुल्ला का सवाल-नेहरू जैकेट कब से हो गई मोदी जैकेट?
Loading...

यह मामला ईंधन कीमतों में बढ़ोत्तरी से शुरू हुआ था लेकिन जल्द ही यह राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रोन के खिलाफ एक बड़े विरोध में बदल गया. राष्ट्रपति पर ऐसी नीतियां लागू करने का आरोप है जिनकी वजह से निचली आय वर्ग वाले परिवार प्रभावित हो रहे हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर