पठानकोट हमले का मास्टरमाइंड मौलाना मसूद अजहर पाकिस्तान में पकड़ा गया

पठानकोट हमले में पाकिस्तान ने अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए मास्टर माइंड मौलान मसूद अजहर को हिरासत में लिया है।

भाषा
Updated: January 13, 2016, 10:19 PM IST
News18india.com
भाषा
Updated: January 13, 2016, 10:19 PM IST
इस्लामबाद। पठानकोट हमले में पाकिस्तान ने अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई करते हुए मास्टर माइंड मौलान मसूद अजहर को हिरासत में लिया है। मसूद अजहर जैश-ए-मोहम्मद का चीफ है। जियो टीवी के हवाले से बताया जा रहा है कि अज्ञात जगह ले जाकर मसूद अजहर से पूछताछ की जा रही है।

इससे पहले विदेश सचिव स्तर की बातचीत का भविष्य पठानकोट आतंकी हमले को लेकर इस्लामाबाद की ‘त्वरित और निर्णायक’ कार्रवाई पर निर्भर होने की बात भारत की ओर से दो टूक कहे जाने के बाद पाकिस्तान ने इस हमले की कथित तौर पर साजिश रचने वाले जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े कई व्यक्तियों को हिरासत में लिया और इस संगठन के कार्यालयों को सील कर दिया।

पाकिस्तान अपने एक विशेष जांच दल को पठानकोट भेजने पर भी विचार कर रहा है क्योंकि भारत के सहयोग की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए और सूचना की दरकार होगी। पाकिस्तान की ओर से यह कार्रवाई उस वक्त की गई है जब भारतीय विदेश सचिव एस जयशंकर के प्रस्तावित बातचीत के लिए इस्लामाबाद जाने में सिर्फ दो दिन बचे हुए हैं। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में पाकिस्तान की कार्रवाई की समीक्षा की गई है। भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय समग्र वार्ता की बहाली के लिए विदेश सचिव स्तरीय वार्ता होने वाली है।



भारत का मानना है कि मौलाना मसूद अजहर की अगुवाई वाले जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े आतंकी पठानकोट हमले में शामिल थे। इस हमले में सात भारतीय सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे। मसूद अजहर को कंधार विमान अपहरण के समय छोड़ा गया था।

उच्च स्तरीय बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के अनुसार, अपनी धरती से आतंकवाद के खात्मे की पाकिस्तान की प्रतिबद्धता तथा कहीं भी आतंकवादी गतिविधियों के लिए अपने क्षेत्र का उपयोग करने नहीं देने के उसके राष्ट्रीय संकल्प के संदर्भ में अब तक की कार्रवाई का संतोष के साथ संज्ञान लिया गया है। उसने कहा कि पठानकोट की घटना से कथित तौर पर जुड़े आतंकवादी तत्वों के खिलाफ की जा रही जांच में काफी प्रगति हुई है।

बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान में शुरुआती जांच और प्रदान की सूचना के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े कई व्यक्तियों को पकड़ा गया है। संगठन के कार्यालयों का पता किया जा रहा है और उन्हें सील किया जा रहा है। आगे की जांच जारी है। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान के अनुसार सहयोगात्मक भावना को देखते हुए यह फैसला किया गया कि प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के क्रम में अतिरिक्त सूचना की जरूरत होगी। जिसके लिए पाकिस्तान सरकार भारत सरकार से विचार-विमर्श के साथ एक एसआईटी को पठानकोट भेजने पर विचार कर रही है।

इसमें कहा गया है कि बैठक में यह बात दोहराई गई कि आतंकवाद का मुकाबला करने और इसे पूरी तरह खत्म करने के हमारे फैसले के क्रम में पाकिस्तान इस मुद्दे पर भारत के साथ संपर्क में बना रहेगा। सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ, आईएसआई के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल रिजवान अख्तर, गृह मंत्री निसार अली खान, वित्त मंत्री इसहाक डार, विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज, पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ और दूसरे वरिष्ठ अधिकारी बैठक में मौजूद थे।
Loading...

पिछले सप्ताह भारत ने कहा था कि विदेश सचिव स्तर की बातचीत का भविष्य पठानकोट हमले को लेकर इस्लामाबाद की ‘त्वरित एवं निर्णायक’ कार्रवाई पर निर्भर है। इस हमले के संदर्भ में उसने पाकिस्तान को ‘कार्रवाई करने योग्य खुफिया जानकारी’ प्रदान की थी। एक अधिकारी ने कहा कि अब तक करीब 12 चरमपथियों को पकड़ा जा चुका है और उनसे पूछताछ की जा रही है। उन्होंने कुछ दूसरी सूचनाएं देने से इंकार कर दिया जैसे कि इन लोगों को कहां रखा गया है अथवा उनको कब अदालत में पेश किया जाएगा।
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर