हार मानने को तैयार नहीं रिपब्लिकन, पोम्पियो बोले- ट्रंप प्रशासन के दूसरे कार्यकाल के लिए होगा सत्ता का हस्तांतरण

माइक पोम्पिओ की फाइल फोटो (AP)
माइक पोम्पिओ की फाइल फोटो (AP)

US Presidential Election 2020: अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन (Joe Biden) को विजेता घोषित किया जा चुका है. हालांकि पोम्पियो ने एक सवाल के जवाब में मतदान में धोखाधड़ी का आरोप लगाया और कहा कि इस संबंध में उन्हें दुनिया भर से फोन आ रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 10:54 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) के निवर्तमान विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने कहा कि देश में डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के नेतृत्व वाले प्रशासन के दूसरे कार्यकाल के लिए शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता का हस्तांतरण किया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने इस बात का संकेत दे दिया कि उन्होंने राष्ट्रपति पद के चुनाव में जो बाइडन की जीत और निवर्तमान राष्ट्रपति ट्रंप की हार स्वीकार नहीं की है.

पोम्पियो ने कहा, ‘ट्रंप प्रशासन के दूसरे कार्यकाल के लिए शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता का हस्तांतरण किया जाएगा. हम तैयार हैं. दुनिया देख रही है कि यहां क्या हो रहा है. हम हरेक वोट की गिनती करने वाले हैं.’

विदेश मंत्रालय के मुख्यालय ‘फॉगी बॉटम’ में पत्रकारों ने उनसे सवाल किया था कि क्या उनका विभाग (निर्वाचित राष्ट्रपति जो) बाइडन को सत्ता का शांतिपूर्ण हस्तांतरण करने की तैयारी कर रहा है और अगर नहीं तो, इसमें देरी क्यों हो रही है या फिर शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता का हस्तांतरण नहीं किया जाएगा?



ट्रंप के सामने गरिमा से हार स्वीकार करने या ऐसा ना करने पर निकाले जाने का विकल्प
अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कभी हार स्वीकार नहीं करते, लेकिन राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बाइडेन की जीत के बाद अब उनके पास बस दो ही विकल्प हैं: या तो वह देश की खातिर गरिमापूर्ण तरीके से हार स्वीकार कर लें या ऐसा नहीं करने पर निकाले जाएं. चार दिन की कठिन मतणना के बाद बाइडेन की जीत के बावजूद ट्रंप अब भी यह स्वीकार करने को तैयार नहीं है कि उनकी हार हो चुकी है.

यह भी पढ़ें: बिहार चुनाव का क्या है अमेरिका चुनाव से कनेक्शन?

उन्होंने 'निराधार' आरोप लगाए हैं कि चुनाव निष्पक्ष नहीं था और 'अवैध' मतों की गणना की गई. उन्होंने इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की बात की है. ट्रंप के कुछ निकटवर्ती सहयोगी उन्हें गरिमापूर्ण तरीके से हार स्वीकार करने के लिए राजी करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन कुछ रिपब्लिकन सहयोगी उनकी हार स्वीकार नहीं कर पा रहे.

ट्रंप हारे नहीं हैं. राष्ट्रपति जी, हार मत मानिए- अमेरिकी चैनल
दक्षिण कैरोलाइना से सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने एक समाचार चैनल से कहा, 'ट्रंप हारे नहीं हैं. राष्ट्रपति जी, हार मत मानिए. मजबूती से लड़िए.' ट्रंप के निकटवर्ती लोगों का कहना है कि इस बात की उम्मीद नहीं है कि ट्रंप औपचारिक रूप से हार स्वीकार स्वीकार करेंगे, लेकिन अपने कार्यकाल के अंत में वह बेमन से व्हाइट हाउस खाली कर देंगे. चुनाव को अनुचित बताने के ट्रंप के प्रयासों को उनके अहम की तुष्टि करने और अपने समर्थकों को यह दिखाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है कि वह अब भी लड़ रहे हैं.

ट्रंप के मित्र एवं सलाहकार रोजर स्टोन से जब यह पूछा गया कि क्या निवर्तमान राष्ट्रपति हार स्वीकार करेंगे, तो उन्होंने कहा, 'मुझे इसे लेकर संशय है.' स्टोन ने कहा कि इसके परिणामस्वरूप राष्ट्रपति के रूप में बाइडेन पर 'हमेशा शंका के बादल मंडराते रहेगे और देश के आधे लोग मानते रहेंगे कि उन्हें अवैध तरीके से चुना गया'.

ट्रंप के बेटों डोनाल्ड जूनियर और एरिक ने भी अपने पिता से लड़ते रहने की अपील की है और रिपब्लिकन नेताओं से उनके साथ खड़े रहने को कहा है. रिपब्लिकन नेता एंडी बिग्स ने भी ट्रंप को हार नहीं मानने की सलाह दी है. ट्रंप के वरिष्ठ सलाहकार एवं दामाद जारेद कुश्नेर समेत निवर्तमान राष्ट्रपति के कई सहयोगियों ने उनसे परिणाम स्वीकार करने की अपील की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज