अपना शहर चुनें

States

कैपिटल हिल हिंसा के बाद पहली बार ट्रंप से मिले पेंस, वाशिंगटन में इमरजेंसी लागू

ट्रंप से मिले पेंस, वाशिंगटन में इमरजेंसी लागू.   (फोटो- AFP)
ट्रंप से मिले पेंस, वाशिंगटन में इमरजेंसी लागू. (फोटो- AFP)

US Capitol Riot:अमेरिकी संसद में ट्रंप समर्थकों की हिंसा के बाद उपराष्ट्रपति माइक पेंस (Vice President Mike Pence) और निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) के बीच सोमवार को पहली मुलाक़ात हुई. इस मुलाक़ात के बाद ट्रंप ने वाशिंगटन में शपथ ग्रहण के दौरान इमरजेंसी की घोषणा कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 12, 2021, 5:11 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी संसद कैपिटल ह‍िल में ट्रंप समर्थकों की हिंसा (US Capitol Riot) के बाद पहली बार अमेरिका के उपराष्‍ट्रपति माइक पेंस (Vice President Mike Pence) ने निवर्तमान राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (President Donald Trump) से मुलाकात की है. ट्रंप प्रशासन द्वारा बयान के मुताबिक दोनों नेताओं के बीच 'अच्‍छी बातचीत' हुई. 6 जनवरी को संसद में घुसे हिंसक ट्रंप समर्थकों के खिलाफ खुलकर सामने आने के बाद ट्रंप ने पेंस के चीफ ऑफ़ स्टाफ को वेस्ट विंग छोड़कर चले जाने का आदेश सुना दिया था. ट्रंप समर्थकों ने भी संसद के बाहर 'हैंग माइक पेंस' के नारे लगाए थे.

उधर ट्रंप ने नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति जो बाइडन के उद्घाटन कार्यक्रम तक देश की राजधानी वाशिंगटन डीसी में इमरजेंसी को मंजूरी दे दी है. उनका यह फैसला ऐसे समय आया है, जब राष्‍ट्रपति ट्रंप पर महाभियोग की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. सोमवार को राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने घोषणा की कि कोलंबिया जिले में एक आपात स्थिति मौजूद है. व्‍हाइट हाउस के प्रेस सचिव कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 59वें राष्‍ट्रपति उद्घाटन कार्यक्रम को मद्देनजर 11 जनवरी से 24 जनवरी तक इंमरजेंसी की स्थिति रहेगी.

डेमोक्रेटिक पार्टी के नेताओं ने पेंस से मांग की है कि वह ट्रंप को हटाने के लिए प्रक्रिया शुरू करें. अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों को लगता है कि बाइडेन के शपथ ग्रहण समारोह यानी इनॉगरेशन सेरेमनी के वक्त भी अमेरिका में हिंसा फैल सकती है. वॉशिंगटन, जॉर्जिया, कन्सास, ओहियो, मिशिगन, कैलिफोर्निया, कोलोराडो, उटाह, न्यू मैक्सिको, व्योमिंग और टेक्सास जैसे राज्यों में निगरानी बढ़ा दी गई है. हिंसा के मद्देनज़र कैपिटल हिल के चारों तरफ 20 फीट ऊंची स्टील की जाली लगाई जा रही है. साथ ही व्हाइट हाउस की सुरक्षा भी बढ़ा दी गयी है.




माइक पेंस के संविधान के खिलाफ नहीं जाने पर ट्रंप नाराज
इससे पहले ट्रंप समर्थकों ने संसद पर धावा बोला था और अंदर घुसकर तोड़फोड़ की थी. इस दौरान माइक पेंस संसद के अंदर मौजूद थे. ट्रंप को पिछले साल नवंबर महीने में हुए राष्‍ट्रपति चुनाव के नतीजों को पलटने के लिए माइक पेंस आखिरी उम्‍मीद थे. ट्रंप कथित रूप से माइक पेंस के संविधान के खिलाफ नहीं जाने पर नाराज हो गए थे. ट्रंप ने ट्वीट करके अपनी नाराजगी को खुलेआम जाहिर भी कर दिया था. यही नहीं संसद में हिंसा के दौरान ट्रंप के कुछ समर्थकों ने माइक पेंस को फांसी देने तक की मांग कर डाली थी. इस हिंसा के बाद से डेमोक्रेट‍िक पार्टी के नेता माइक पेंस से संव‍िधान के 25वें संशोधन को लागू करने तथा ट्रंप को राष्‍ट्रपति कार्यालय के लिए अनफिट घोष‍ित करने की मांग कर रहे हैं. हालांकि पेंस बार-बार इस मांग को खारिज कर रहे हैं.

ट्रंप के तमाम बयानों के बाद भी माइक पेंस ने एक सच्‍चे सिपाही की तरह से अपने राष्‍ट्रपति के खिलाफ कुछ नहीं कहा था जबकि उनके सलाहकारों ने उन्‍हें ऐसा करने के लिए कहा था. माइक पेंस ने घोषणा की है कि वह जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह में जाएंगे. उधर, डोनाल्‍ड ट्रंप ने ऐलान किया है कि वह इस समारोह से दूर रहेंगे. पेंस के सहयोगी इस बात से नाराज हैं कि जब ट्रंप समर्थकों से अपनी जान बचाने के लिए माइक पेंस बंकर में जा छिपे तब उस समय ट्रंप ने उन्‍हें फोन तक नहीं किया था.
मेयर ने पहले ही वाशिंगटन डीसी में लगाई इमरजेंसी
रविवार को ही वाशिंगटन डीसी के मेयर म्यूरियल बोउसर ने 15 दिनों के लिए इमरजेंसी की घोषणा की थी. मेयर ने कहा कि बाइडन के उद्घाटन के दौरान वाशिंगटन में हिंसा की आशंका के मद्देनजर आपातकाल की घोषणा की गई है. व्‍हाइट हाउस को भेजे पत्र में कहा गया है कि 6 जनवरी को कैपिटल में हुई हिंसा के बाद यह संकेत मिले हैं कि हिंसा आगे भी जारी रह सकती है.



व्‍हाइट हाउस को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि हमारे प्रशासन ने उद्घाटन के लिए तैयारियों का जायजा लिया है. इसमें 24 जनवरी तक डीसी नेशनल गार्ड की मदद देने का अनुरोध किया गया है. इसके बाद व्‍हाइट हाउस की ओर से होमलैंड सिक्‍योरिटी विभाग और संघीय आपातकाल प्रबंधन एजेंसी को राज्‍य और स्‍थानीय अधिकारियों के साथ संसाधनों का समन्‍वय करने के लिए अधिकृत किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज