लाइव टीवी

अमेरिका को 3 साल पहले ही मिली थी कोरोना की चेतावनी, ट्रंप ने नहीं की तैयारी

News18Hindi
Updated: April 2, 2020, 7:16 PM IST
अमेरिका को 3 साल पहले ही मिली थी कोरोना की चेतावनी, ट्रंप ने नहीं की तैयारी
डोनाल्ड ट्रंप

पेंटागन (Pentagon) की एक रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है कि व्हाइट हाउस (White House) को 2017 में ही कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर चेतावनी जारी की गई थी.

  • Share this:
वाशिंगटन. एक नई रिपोर्ट के मुताबिक व्हाइट हाउस (White House) और ट्रंप प्रशासन (Trump Authority) को आज से 3 साल पहले ही कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी मिल गई थी लेकिन अमेरिका ने इससे लड़ने की कोई तैयारी नहीं की. डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक व्हाइट हाउस को 6 जनवरी 2017 को ही पहली बार कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी जारी की गई थी.

डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक द नेशन के हाथ पेंटागन के कुछ ऐसे डॉक्यूमेंट्स मिले हैं, जिनमें व्हाइट हाउस को कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी जारी करने की बात लिखी है. ये रिपोर्ट 2012 में फैले मर्स की बीमारी का अध्ययन करने के बाद तैयार की गई थी. मर्स भी एक तरह के वायरस के संक्रमण से ही फैला था.

पेंटागन की रिपोर्ट में कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी
डॉक्यूमेंट्स में लिखा गया है कि मौजूदा हालात में सबसे बड़ा खतरा सांस की बीमारी के संक्रमण फैलने का है. ये नोवल इंफ्लूऐंजा जैसी बीमारी हो सकती है. डॉक्यूमेंट्स में लिखा गया है कि कोरोना वायरस जैसा इंफेक्शन पूरी दुनिया में फैल सकता है.



103 पन्नों के इस दस्तावेज में चेतावनी दी गई है कि वायरस का संक्रमण महामारी का रूप ले सकता है. इसके लिए कई फैक्टर्स को जिम्मेदार ठहराया गया है. मसलन- मौजूदा जीवन शैली, भीड़भाड़ वाले वर्क प्लेस, इंटरनेशनल एयरपोर्ट का भारी ट्रैफिक.



दस्तावेज में इस बात का जिक्र है कि ये इतनी बुरे हालात में पहुंचा सकता है कि जरूरी चीजों की कमी हो सकती है. इसमें मेडिकल उपकरणों की किल्लत भी शामिल है. जैसे- प्रोटेक्टिव सूट, मास्क और ग्लव्स जैसे जरूरी मेडिकल उपकरण. दस्तावेज में चेतावनी दी गई थी कि इससे पूरी दुनिया के वर्क फोर्स पर असर पड़ सकता है.

चेतावनी के बावजूद ट्रंप प्रशासन ने नहीं की कोई तैयारी
दस्तावेज में ये भी चेतावनी दी गई थी कि महामारी की वजह से हॉस्पिटल में बेड की संख्या तक कम पड़ सकती है. इसमें कहा गया है कि यहां तक कि सबसे ज्यादा उद्योग धंधों वाले देशों में भी हॉस्पिटल के बेड, स्पेशलाइज्ड इक्वीपमेंट- जैसे वेंटिलेटर्स जैसे उपकरणों की कमी हो सकती है. इस महामारी से निपटने और इतनी बड़ी आबादी को संक्रमण से बचाने में फॉर्मास्यूटकल कंपनियां नाकाम हो सकती हैं.

ये दस्तावेज उस वक्त सामने आए हैं, जब न्यूयॉर्क और कैलिफोर्निया जैसे राज्यों में मरीजों के लिए हॉस्पिटल के बेड कम पड़ गए हैं. यहां के गवर्नर्स ने फेडरल गवर्नमेंट से लगातार मदद की गुहार लगाई है. न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी जैसे शहरों का बुरा हाल हो गया है. यहां कोरोना वायरस के संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं.

बुधवार तक अमेरिका में कोरोना के चलते मरने वालों की संख्या में 908 का इजाफा हुआ. संक्रमण के नए 25,676 मामले सामने आए हैं. अमेरिका में कोरोना संक्रमण के 40 फीसदी मामले सिर्फ न्यूयॉर्क से आए हैं. यहां संक्रमण की वजह से होने वाली मौत का आंकड़ा 391 से बढ़कर 1,941 हो गया है. 7,917 संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं और कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 83,712 हो गई है.

ये भी पढ़ें:-

कोरोना: अमेरिका में मरने वालों के लिए कम पड़ गए कफन, ऑर्डर किए 1 लाख बॉडी बैग

चीन के इस शहर में पहली बार लगा कुत्ते-बिल्ली का मांस खाने पर बैन

इजरायल के हेल्थ मिनिस्टर और उनकी पत्नी को भी हुआ कोरोना संक्रमण

क्या पुतिन को भी है कोरोना का संक्रमण, सामने आई साजिश की थ्योरी

ब्रिटेन में कोरोना वायरस से एक दिन में सबसे अधिक 563 मौतें, 50 फीसदी बढ़े मामले

कोरोना वायरस: अमेरिका में लाखों लोग अपने घर का किराया तक नहीं दे पा रहे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 2, 2020, 6:39 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading