लाइव टीवी

अमेरिका में जानबूझकर कोरोना संक्रमण फैलाने वाले माने जाएंगे आतंकी, मिल सकती है उम्रकैद

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 11:45 PM IST
अमेरिका में जानबूझकर कोरोना संक्रमण फैलाने वाले माने जाएंगे आतंकी, मिल सकती है उम्रकैद
अमेरिका में कोरोना संक्रमण का डर दिखाकर धमकाने वालों के खिलाफ न्याय विभाग ने सख्त नियम बनाया

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बने नए सख्त नियम में दोषी साबित होने पर उम्रकैद तक की सज़ा का प्रावधान है

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 11:45 PM IST
  • Share this:
अमेरिका (America)  में कोरोना वायरस (Corona Virus) का संक्रमण कहर बन कर टूटा है. इटली और स्पेन के बाद अमेरिका में सबसे बुरा हालात हैं. अमेरिका में अब तक 1000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 68 हज़ार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए अमेरिकी सरकार ने कड़ा फैसला लिया है. अमेरिका में अगर कोरोना से संक्रमित शख्स खुलेआम घूमते और संक्रमण फैलाते पाया गया तो उसके खिलाफ आतंकवाद निरोधी कानूनों के तहत कार्रवाई होगी. अमेरिका के न्याय विभाग ने कहा कि कोरोना वायरस का खतरा दूसरों तक पहुंचाने वाले के खिलाफ वही कार्रवाई होगी जो कि आतंकियों के खिलाफ होती है.

सीएनएन के मुताबिक कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बने नए सख्त नियम में दोषी साबित होने पर उम्रकैद तक की सज़ा का प्रावधान है. न्याय विभाग ने अपने तहत आने वाली सभी एजेंसियों को लिखित आदेश जारी करते हुए कहा कि कोरोना का संक्रमण फैलाने वालों को बॉयोलॉजिकल एजेंट माना जाएगा.

अमेरिका में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर लोगों की भारी लापरवाही सामने आई है. नतीजतन न्यूयॉर्क और वाशिंगटन जैसे शहरों में हालात बेकाबू हो चुके हैं. न्याय विभाग ने उन लापरवाह लोगों के खिलाफ कमर कसी है जो कि संक्रमण के बावजूद खुद को आइसोलेट नहीं कर रहे हैं और बाहर घूम कर कोविड 19 का संक्रमण फैला रहे हैं. तभी ऐसे लोगों को वायरस का एजेंट मानते हुए आतंकवाद फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया जाएगा. न्याय विभाग ने साफ कर दिया है कि अब किसी भी सूरत में ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा.

डिप्टी अटॉर्नी जनरल जैफ्री रोसेन ने कहा कि अमेरिकी नागरिकों के खिलाफ कोविड 19 को हथियार बना कर निशाना बनाने और कोरोना वायरस के इंफेक्शन के नाम पर धमकाने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. जैफ्री रोसेन ने कहा कि अमेरिकी नागरिकों के अधिकारों की सुरक्षा और संकट के इस दौर में सुरक्षा के लिए हम अपना सर्वश्रेष्ठ करेंगे.



दरअसल, सार्वजनिक स्थल पर खुद को कोरोना पॉज़िटिव बता कर खांसने का एक मामला सामने आया था.   जॉर्ज फाल्कन नाम के एक शख्स ने न्यूजर्सी के एक सुपरमार्केट के कर्मचारी के ऊपर खांसने के बाद खुद को कोरोना वायरस से संक्रमित बताया था. जिसके बाद जॉर्ज के खिलाफ आतंकी खतरे का मामला दर्ज किया गया. रॉयटर के मुताबिक न्यूजर्सी के अटॉर्नी जनरल के दफ्तर ने इस घटना की पुष्टि की थी.

यही वजह है कि अमेरिका में शरारती तत्वो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए न्याय विभाग ने आतंकवाद निरोधी कानून का सहारा लिया है ताकि वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए शरारती तत्वों से कानून का पालन कराया जा सके.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 10:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर