चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने पांच भारतीयों का हिरासत में लिया, पूछने पर दिया ये जवाब...

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने पांच भारतीयों का हिरासत में लिया, पूछने पर दिया ये जवाब...
चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने अरुणाचल प्रदेश से पांच भारतीयों को हिरासत में ले लिया

भारतीय सेना ने चीन सरकार यह पूछा था कि क्या अरुणाचल प्रदेश से पांच दिन पहले लापता हुए पांच नागरिक पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People’s Liberation Army) की हिरासत में थे?

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 6:43 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन ने सोमवार को भारतीय सेना के सवाल को लेकर गैर-दोस्ताना unfriendly posture From Chinese Side) व्यवहार किया. भारतीय सेना ने चीन सरकार से यह पूछा था कि क्या अरुणाचल प्रदेश से पांच दिन पहले लापता हुए पांच नागरिक पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People’s Liberation Army) की हिरासत में थे? इस सवाल पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने सोमवार को लापता भारतीयों के बारे में एक समाचार संक्षेप में बताया कि चीन ने कभी भी "तथाकथित अरुणाचल प्रदेश' को मान्यता नहीं दी है, जो अभी भी चीन का दक्षिण तिब्बत क्षेत्र है."

चीन के विदेश मंत्रालय ने नहीं दिया जवाब
झाओ लिजियन ने पांचों भारतीयों के अपहरण की जानकारी देने से इनकार किया और कहा कि हमारे पास इस क्षेत्र के पांच लापता भारतीयों के बारे में पीएलए को एक संदेश भेजा गया है, जिसके बारे में अभी तक कोई जवाब नहीं आया है.

पीएलए ने पांच भारतीय नागरिकों का अपहरण किया
भारतीय सेना ने अपने चीनी समकक्षों को उन पांच नागरिकों के बारे में बताया था, जो शनिवार को भारत-चीन सीमा पर ऊपरी सुबनसिरी जिले में सेना में गाइड और पोर्टर्स के काम कर रहे थे. कथित तौर पर अपहृत किए गए लोगों की पहचान टोच सिंगकम, प्रसाद रिंगलिंग, डोंग्टू इबिया, तनु बेकर और नारगु डिरी के रूप में की गई है. वे एक जंगल में शिकार के लिए गए थे जब उन्हें कथित तौर पर पीएलए द्वारा अपहरण कर लिया गया था



ये भी पढ़ें:- IOC के लिए क्रूड ऑयल लेकर आ रहे जहाज में चार दिनों से लगी हे आग, श्रीलंका में रोका

PHOTOS: कैलिफोर्निया की जंगल में आग, सैन्फ्रांसिस्को में 116 साल बाद दर्ज हुआ रिकॉर्ड तापमान

डेनमार्क में खुला हैप्पीनेस म्यूजियम, यहां दिखाया जाता है खुशियों का इतिहास

जंगल घूमने गए एक समूह के दो सदस्य घर लौट आए हैं और अन्य पांच के परिवारों को सूचित किया कि वे नाचो के उत्तर में लगभग 12 किलोमीटर आगे स्थित सेना के गश्ती क्षेत्र सेरा-7 से चीनी सैनिकों द्वारा भगाए गए हैं. नाचो मैकमोहन रेखा के साथ अंतिम प्रशासनिक सर्कल है और जिला मुख्यालय दापोरजियो से लगभग 120 किमी दूर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading