फांसी की सजा के खिलाफ कोर्ट की शरण में गए परवेज मुशर्रफ, लाहौर HC में दायर की याचिका

मुशर्रफ पाकिस्तान के इतिहास में पहले सैन्य शासक हैं जिन्हें मृत्युदंड की सजा सुनायी गयी है
मुशर्रफ पाकिस्तान के इतिहास में पहले सैन्य शासक हैं जिन्हें मृत्युदंड की सजा सुनायी गयी है

इस्लामाबाद (Islamabad) की विशेष अदालत ने पिछले हफ्ते 76 साल के परवेज़ मुशर्रफ (Pervez Musharraf) को राजद्रोह के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) के पूर्व सैन्य तानाशाह सेवानिवृत्त जनरल परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) ने विशेष अदालत के उस फैसले के खिलाफ शुक्रवार को एक अदालत में याचिका दायर की जिसमें उन्हें राजद्रोह का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई गई है. मीडिया रिपोर्टों में यह जानकारी सामने आयी है.

इस्लामाबाद (Islamabad) की विशेष अदालत ने पिछले हफ्ते 76 वर्षीय मुशर्रफ को राजद्रोह के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी.

लाहौर हाईकोर्ट में दायर की याचिका
डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, मुशर्रफ की ओर से वकील अजहर सिद्दीकी ने शुक्रवार को लाहौर उच्च न्यायालय (Lahore High court) में 86 पृष्ठों की याचिका दायर की. इसमें संघीय सरकार और अन्य को प्रतिवादी बनाया गया है.
रिपोर्ट के अनुसार याचिका में कहा गया है कि फैसले में कई विसंगतियां और विरोधाभासी बयान हैं. इसमें कहा गया है कि विशेष अदालत ने मामले की सुनवाई जल्दबाजी में की.



9 जनवरी को होगी सुनवाई
न्यायमूर्ति मजाहिर अली अकबर नकवी की अध्यक्षता वाली पूर्ण पीठ नौ जनवरी, 2020 को याचिका पर सुनवाई करेगी. एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार, पूर्व राष्ट्रपति ने फैसले को स्थगित करने की उच्च न्यायालय से प्रार्थना की है. मुशर्रफ इस समय दुबई (Dubai) में हैं और वह कई बीमारियों का इलाज करा रहे हैं. वह पाकिस्तान के इतिहास में पहले सैन्य शासक हैं जिन्हें मृत्युदंड की सजा सुनायी गयी है.

वह वर्ष 1999 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) को अपदस्थ कर सत्ता पर काबिज हुए और 2008 तक सत्ता संभाली.

ये भी पढ़ें-
इमरान खान के मंत्री टिकटॉक स्टार को भेजते थे अपनी न्यूड तस्वीरें, बातचीत वायरल

भारत के सामने झुके इमरान खान, पाकिस्तानी बच्चों की जिंदगी बचाने की लगाई गुहार

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज