US को पड़ा चीन के खिलाफ बोलना भारी, कपड़े के टैग की इस तस्वीर पर मचा बवाल

US को पड़ा चीन के खिलाफ बोलना भारी, कपड़े के टैग की इस तस्वीर पर मचा बवाल
फोटो सौ. (ट्विटर)

चीन में अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावासों ने ट्वीट (Tweet) कर दावा किया कि चीन में बने कई उत्पाद गुलामों के श्रम से बने हैं.

  • Share this:
बीजिंग. चीन में अमेरिकी दूतावास (US Embassy) और वाणिज्य दूतावासों को उस समय लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा जब उन्होंने सोशल मीडिया (Social Media) में एक फोटोशॉप्ड कपड़े का टैग पोस्ट किया जिसमें लिखा था 'मेड बाय स्लेव लेबर इन चाइना'. ग्लोबल टाइम्स की एक खबर के अनुसार, काफी लोगों ने इस हरकत के लिए अमेरिका को आड़े हाथों लिया और उन्हें ये चीन को नीचा दिखाने के लिए किया है. लेकिन वे खुद ये चीज भूल गए कि वे भी इंडो अमेरिकन्स के साथ किस तरह की क्रूरता करते हैं. जबकि अन्य देशों पर मानवाधिकारों का आरोप लगाते हैं. वहीं, अब चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने भी इसका जमकर विरोध करते हुए इसे सदी का सबसे बड़ा झूठ करार दिया है.

दरअसल, चीन में अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावासों ने ट्वीट कर दावा किया कि चीन में बने कई उत्पाद गुलामों के श्रम से बने हैं. और व्यवसायों से कहा कि वे अपनी सप्लाई चेन की अच्छे से जांच कर लें. कहीं इसका फायदा चीन के शिंजियांग में उइगरों के खिलाफ मानवाधिकार का उल्लंघन करके ना मिल रहा हो. साथ ही उन्होंने एक कपड़े का फोटो भी शेयर किया है, जिसमें लिखा है 'मेड बाय स्लेव लेबर इन चाइना.' बता दें, अमेरिकी दूतावास का ये ट्वीट अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टागस के एक ट्वीट का चीनी अनुवाद था.


लेकिन अमेरिकी दूतावास को इस ट्वीट के लिए अच्छी खासी आलोचना का शिकार होना पड़ा. लोगों ने ये तक कह दिया कि अमेरिकी दूतावास का ये ट्विटर अकाउंट सिर्फ चीन की आलोचना ही करता रहता है. ये एंटी चाइना अकाउंट है जो कि बस चीन के बारे में सिर्फ अफवाहें ही उड़ाता है.



ये भी पढ़ें: Corona: चीन का होगा भंडाफोड़, वुहान लैब एक्सपर्ट कर रहे अमेरिका की मदद

'सदी का सबसे बड़ा झूठ'
वहीं, चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने भी इसे लेकर ट्विटर पर टिप्पणी की. उन्होंने कहा, 'ये किस किस्म का झूठ है. इसका स्तर कितना गिरा हुआ है. कितने अफसोस की बात है कि झूठ बोलना और धोखा देना, ये सब अब वाशिंगटन के नाम हो चुका है.' हुआ ने आगे कहा, 'वे (अमेरिका) अपने स्वयं के ज्ञान का अपमान करते हैं, जिस पर मुझे कोई आपत्ति नहीं है. लेकिन हम चीन को कलंकित और बदनाम करने की उनकी इस कोशिश का विरोध करते हैं. उनकी इस हरकत से एक बार फिर यही साबित होता है कि वहां के कुछ लोग कितना नीचे गिर गए हैं. शिनजियांग पर अमेरिका की ओर लगाया ये आरोप सदी का सबसे बड़ा झूठ है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज