अपना शहर चुनें

States

PM मोदी ने मैक्रों से फोन पर की बात, कहा- आतंक के खिलाफ फ्रांस के साथ भारत

प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में फ्रांस में हुए आतंकवादी हमले को लेकर शोक जताया.
प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में फ्रांस में हुए आतंकवादी हमले को लेकर शोक जताया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों (Emmanuel Macron) ने दोनों देशों के बीच हॉटलाइन स्थापित करने का फैसला लिया है. फ्रांस का ये कदम चीन के आक्रामक रवैये के काउंटर में देखा जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 12:19 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुअल मैक्रों के साथ फोन पर हुई बातचीत में आतंकवाद, उग्रवाद और चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में फ्रांस को भारत का पूर्ण समर्थन दोहराया. साथ ही प्रधानमंत्री ने हाल ही में फ्रांस में हुए आतंकवादी हमले को लेकर शोक जताया. दोनों देशों के शीर्ष नेताओं में डिजिटल और स्ट्रैटजिक ऑटोनॉमी, रक्षा सहयोग, हिंद-प्रशांत क्षेत्र (Indo-Pacific) के साथ एशिया और पश्चिम एशिया में सुरक्षा सहयोग बात हुई.

प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक दोनों देशों के नेताओं ने द्विपक्षीय रिश्तों के साथ, क्षेत्रीय, ग्लोबल मुद्दों के साथ कोरोना वायरस वैक्सीन की उपलब्धता और पहुंच सुनिश्चित करने पर भी बात की. साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने कोविड के बाद अर्थव्यवस्था के उबरने और क्लाइमेट चेंज को लेकर भी मैंकों से विचार विमर्श किया.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक दोनों नेताओं ने एक दूसरे के बीच हॉटलाइन स्थापित करने का निर्णय लिया है. फ्रांस का ये कदम उस दिशा में है, जिसके तहत उसने हिंद महासागर में ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया है, ताकि चीन के आक्रामक रूख को काउंटर किया जा सके. राष्ट्रपति मैक्रों ने इस साल अक्टूबर में फ्रांस के सबसे वरिष्ठ राजनयिक क्रिस्टोफे पेनोट को हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए देश का पहला विशेष राजदूत नियुक्त किया है.



चीन के आक्रामक रूख को लेकर मैक्रों हमेशा से मुखर रहे हैं. दो साल पहले, वैश्विक नेताओं में वे पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने भारत, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के बीच रणनीतिक साझेदारी की पेशकश थी. इस दिशा में एक छोटा सा कदम सितंबर महीने में आगे बढ़ा, जब तीनों देशों के शीर्ष राजनयिकों ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बात की.
भारत और फ्रांस के बीच रणनीतिक रिश्तों की शुरुआत 1998 में हुई. इसके बाद से पेरिस और नई दिल्ली के बीच रिश्ते मजबूत होते गए. मौजूदा वक्त में दोनों देश स्पेस, काउंटर-टेररिज्म, मैरिटाइम सिक्योरिटी के साथ डिफेंस चीफ और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के स्तर द्विपक्षीय बातचीत कर रहे हैं.

पिछले महीने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (Ajit Doval) ने अपने समकक्ष के साथ बातचीत की थी, और माना जा रहा है कि जनवरी 2021 में दोनों देशों के बीच रणनीतिक बातचीत हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज