लाइव टीवी

दुनिया के साथ आकर आतंकवाद को कड़ा जवाब दे यूरोप: पीएम मोदी

भाषा
Updated: May 30, 2017, 8:07 AM IST
दुनिया के साथ आकर आतंकवाद को कड़ा जवाब दे यूरोप: पीएम मोदी
Photo - Twitter account MEA

मोदी ने कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए यूरोप को यूएन की अगुवाई में, वैश्विक रूप से एक प्रभावी प्रतिक्रिया विकसित करनी होगी

  • Share this:
चार देशों की यात्रा के लिए सोमवार को रवाना हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पहले पड़ाव जर्मनी पहुंचे. उन्होंने एक इंटरव्यू में आतंकवाद को सबसे गंभीर चुनौती बताया, जिसका मानवता सामना कर रही है. पीएम मोदी ने कहा कि इस बुराई से निपटने के लिए यूरोप को संयुक्त राष्ट्र की अगुवाई में, वैश्विक रूप से एक प्रभावी प्रतिक्रिया विकसित करने में अहम योगदान देना होगा.

बता दें कि अपनी छह दिन की यात्रा में जर्मनी के अलावा मोदी स्पेन, रूस और फ्रांस भी जाएंगे. जर्मन अखबार 'हांदेलस्ब्लात' को दिए एक साक्षात्कार में मोदी ने कहा कि आतंकवाद से यूरोप बुरी तरह प्रभावित हुआ है. उन्होंने कहा कि हमारे मुताबिक, आतंकवाद सबसे गंभीर चुनौती है, जिसका मानवता सामना कर रही है. उनका कहना था कि यूरोप को इस बुराई से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र की अगुवाई में एक प्रभावी वैश्विक प्रतिक्रिया विकसित करने में अवश्य ही एक अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए.

पीएम मोदी की यह टिप्पणी काफी मायने रखती है क्योंकि यह जर्मनी, फ्रांस, ब्रिटेन और स्वीडन जैसे यूरोपीय देशों में हाल ही में हुए आतंकी हमलों के मद्देनजर आई है. ब्रिटेन के मैनचेस्टर में एक कंसर्ट में हुए ताजा आतंकी हमले ने यूरोप को दहला कर रख दिया है. यहां एक आत्मघाती हमलावर ने खुद को विस्फोट कर उड़ा दिया था, जिसमें 22 लोग मारे गए थे.

अर्थव्यवस्था में हो खुलापन



देश के प्रमुख बिजनेस अखबार से बात करते हुए मोदी ने अर्थव्यवस्था में संरक्षणवाद की दिशा में बढ़ाए जाने वाले कदमों के खिलाफ भी चेतावनी दी. इसके साथ ही उन्होंने यूरोप से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि वैश्विक अर्थव्यवस्था अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए खुली रहे और निवेश और लोगों का मुक्त प्रवाह हो.

मोदी ने कहा, 'संरक्षणवादियों और दुनिया में प्रवासी विरोधी भावनाओं के बारे में हमारी चिंताएं हैं. हमें उम्मीद है कि उनका समाधान कर लिया जाएगा.' उन्होंने कहा कि हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं जो आपस में जुड़ी हुई है. सीमाओं के आर-पार वस्तुओं, पूंजी और लोगों का आवागमन हमारी सामूहिक प्रगति के लिए और वैश्विकरण के फायदों को साकार करने के लिए जरूरी है.

मोदी ने जर्मनी के लिए भारत की अहमियत पर जोर देते हुए कहा कि यह सबसे खुली और दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में शामिल है.

पीएम ने कहा कि भारत कुछ समय से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की मांग कर रहा है. सुरक्षा परिषद का विस्तार करने की फौरन जरूरत है. उन्होंने कहा कि विस्तारित सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य बनने के लिए भारत के पास सभी विशेषताएं हैं.

मोदी ने भारत-जर्मनी संबंध पर कहा कि जर्मनी को भारत मेक इन इंडिया, कौशल भारत, स्टार्ट अप इंडिया, स्वच्छ भारत और स्मार्ट सिटी के राष्ट्रीय महत्वाकांक्षी कार्यक्रमों में एक अहम साझेदार के तौर पर देखता है.

ये भी पढ़ें-

VIRAL VIDEO: 'नरेंद्र मोदी चाहें तो अमेरिका को ट्रंप से आज़ाद करवा सकते हैं'

ऐसे पड़ा पीएम मोदी के कार्यक्रम ‘मन की बात’ का नाम, ये है पीछे की कहानी!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 29, 2017, 11:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर