G20: मोदी ने की आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की अपील, पेश किया ये ऐक्शन एजेंडा

G20: मोदी ने की आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की अपील, पेश किया ये ऐक्शन एजेंडा
pm modi: प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर (Image: PTI)

हैम्बर्ग में जी 20 सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न कहा कि आतंकवाद के कई चेहरे होते हैं लेकिन इसके पीछे सोच एक ही है.

  • Share this:
हैम्बर्ग में जी20 सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न कहा कि आतंकवाद के कई चेहरे होते हैं लेकिन इसके पीछे सोच एक ही है.

जी 20 देशों के प्रतिनिधियों की सामूहिक वार्ता में पहले बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद सबसे बड़ी चुनौती है जिसका हम सभी सामना कर रहे हैं.

इसके साथ ही पीएम मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ एक ऐक्शन प्‍लान का खाका पेश किया. इसमें उन्होंने 11 बिंदुओं के जरिए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई का एजेंडा दिया.







ब्रिक्स नेताओं से किया आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई का आह्वान
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स देशों के नेताओं को भी आतंकवाद से लड़ने और वैश्विक अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में नेतृत्वकारी भूमिका निभाने को कहा. उन्होंने जी20 देशों से भी आतंकवाद के लिए धन के रास्तों, उनकी सुरक्षित पनाहगाह और उन्हें समर्थन तथा उन्हें प्रायोजित करने वालों के खिलाफ सामूहिक रूप से कारवाई करने का आह्वान किया.

जी20 शिखर सम्मेलन के अवसर पर ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) देशों के नेताओं के साथ अनौपचारिक बैठक में मोदी ने सतत् वैश्विक आथर्कि वृद्धि के लिए आपस में मिलकर काम करने पर जोर दिया.

मोदी ने इस मौके पर उनकी सरकार द्वारा आगे बढ़ाए गए सुधारों को लेकर भी जिक्र किया. इस अवसर पर विशेष तौर से माल एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू किए जाने के बारे में भी बताया. उन्होंने कहा, 'ब्रिक्स देशों की काफी मजबूत आवाज है और उन्हें आतंकवादी और वैश्विक अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर अपना नेतृत्व दिखाना चाहिए.'

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि जी20 देशों को आतंकवाद के विपोषण, उनका समर्थन, उन्हें सुरक्षित पनाहगाह और प्रयोजित करने वालों का सामूहिक रूप से मुकाबला करना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने खासतौर से व्यापार और पेशेवरों के आवागमन को लेकर संरक्षणवाद अपनाए जाने के खिलाफ सामूहिक तौर पर आवाज उठाए जाने की भी वकालत की.

बता दें कि ब्रिक्स देशों के नेताओं की यह बैठक ऐसे समय हुई है जब भारत और चीन की सेनाएं सिक्किम क्षेत्र में एक दूसरे के खिलाफ आमने सामने डटी हैं. ब्रिक्स देश जी20 समूह का भी हिस्सा हैं. यहां यह भी उल्लेखनीय है कि जी20 के सदस्य देश जिसमें भारत और चीन भी शामिल हैं, दुनिया में होने वाले कुल आथर्कि उत्पादन का 80 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करते हैं.

ये भी पढ़ें

क्या सिक्किम पर पीछे हटा चीन? G-20 में जिनपिंग ने मोदी-भारत को सराहा

ट्रंप के जी20 सम्मेलन में हिस्सा लेने से पहले जर्मनी में हिंसक प्रदर्शन

(भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज