पीएम मोदी ने स्वीडन के प्रधानमंत्री से की मुलाकात, भारत-नॉर्डिक सम्मेलन में होंगे शामिल

भारत और स्वीडन मंगलवार को स्टॉकहोम में संयुक्त रूप से भारत - नार्डिक (उत्तर यूरोपीय) सम्मेलन का आयोजन करेंगे. इस सम्मेलन में फिनलैंड, नॉर्वे, डेनमार्क और आइसलैंड के प्रधानमंत्री भी भाग लेंगे.

भाषा
Updated: April 17, 2018, 9:06 PM IST
पीएम मोदी ने स्वीडन के प्रधानमंत्री से की मुलाकात, भारत-नॉर्डिक सम्मेलन में होंगे शामिल
प्रधानमंत्री मोदी स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफेन लोफवेन के साथ
भाषा
Updated: April 17, 2018, 9:06 PM IST
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन के साथ बैठक में द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर बातचीत की और वह स्वीडन नरेश कार्ल 16 गुस्ताफ से भी मिले. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि दोनों देशों के संबंध समय के साथ समय के साथ और मज़बूत हुए हैं. कुमार ने ट्वीट किया, ‘‘समय के साथ ये संबंध अधिक मज़बूत हुए हैं और इनमें व्यापक संभावनाएं हैं. प्रधानमंत्री ने स्वीडन के प्रधानमंत्री लोफवेन के साथ मुलाकात की.’’ कुमार ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर बातचीत की.




इससे पहले मोदी ने नरेश गुस्ताफ से भी मुलाकात की और कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा की. मोदी कल स्वीडन की यात्रा पर यहां पहुंचे. उत्तरी यूरोप के इस देश में यह किसी भारतीय प्रधानमंत्री की 30 साल में पहली द्विपक्षीय यात्रा है. स्वीडन के प्रधानमंत्री लोफवेन ने हवाई अड्डे पर मोदी की अगवानी की. दोनों नेता एक ही वाहन से होटल गए.

मोदी उत्तरी यूरोप के चार अन्य देशों फिनलैंड, नॉर्वे, डेनमार्क और आइसलैंड के नेताओं के साथ भी बैठक करेंगे. कुमार ने ट्वीट कर जानकारी दी कि 10 घंटे में मोदी के 10 कार्यक्रम हैं. सबसे पहले वह स्वीडन नरेश से मिले. उन्होंने स्वीडन के प्रधानमंत्री के साथ द्विपक्षीय बैठक की. वह चार अन्य उत्तरी यूरोप के देशों के नेताओं से भी मिलेंगे. स्वीडन की कंपनियों के मुख्य कार्यकारियों के साथ गोलमेज बैठक में शामिल होंगे. विपक्ष के नेता से मिलेंगे. भारत - उत्तर यूरोपीय देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे. भारतीय समुदाय के लोगों के कार्यक्रम में भाग लेंगे.

मोदी यहां पांच दिन की विदेश यात्रा के पहले चरण में पहुंचे हैं. वह ब्रिटेन जाएंगे जहां राष्ट्रकुल के शासनाध्यक्षों (चोगम) की बैठक में शामिल होंगे. अपनी स्वीडन यात्रा से पहले मोदी ने नई दिल्ली में कहा था कि वह दोनों देशों के साथ व्यापार, निवेश और स्वच्छ ऊर्जा जैसे क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को और मजबूत करेंगे. उन्होंने कहा था कि वह और लोफवेन दोनों देशों के उद्योग जगत के नेताओं के साथ चर्चा करेंगे और व्यापार और निवेश, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, स्वच्छ ऊर्जा और स्मार्ट शहर जैसे क्षेत्रों में सहयोग की रूपरेखा बनाएंगे.

भारत और स्वीडन मंगलवार को स्टॉकहोम में संयुक्त रूप से भारत - नार्डिक (उत्तर यूरोपीय) सम्मेलन का आयोजन करेंगे. इस सम्मेलन में फिनलैंड, नॉर्वे, डेनमार्क और आइसलैंड के प्रधानमंत्री भी भाग लेंगे. स्वीडन से आज रात मोदी ब्रिटेन के लिए रवाना होंगे, जहां वह चोगम की बैठक में शामिल होंगे. वह ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरिजा मे के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. वह स्वदेश वापसी से पहले 20 मई को जर्मनी की राजधानी बर्लिन में भी कुछ समय के लिए रुकेंगे.

ये भी पढ़ेंः
PM की विदेश यात्रा के लाभ की गिनती नहीं हो सकती: PMO
PM की विदेश यात्रा पर बोले सिंघवी, ऐसे प्रचार हो रहा जैसे सृष्टि की शुरुआत मोदी जी से हुई
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर