मार्च में बांग्लादेश का दौरा कर सकते हैं PM मोदी, शेख हसीना संग अहम मुद्दों पर हो सकती है बात

मार्च में बांग्लादेश का दौरा कर सकते हैं PM मोदी, शेख हसीना संग अहम मुद्दों पर हो सकती है बात
पीएम मोदी 17 मार्च को बांग्लादेश के दौरे पर जाने वाले थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अपनी तीन दिवसीय बांग्लादेश की यात्रा के लिए 16 मार्च को बांग्लादेश पहुंचेंगे. 17 मार्च को पीएम मोदी शेख मुजीबुर रहमान की जन्मतिथि पर आयोजित कार्यक्रमों में भाग लेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 1, 2020, 12:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 16-18 मार्च को बांग्लादेश (Bangladesh) का दौरा कर सकते हैं. इस अहम दौरे पर प्रधानमंत्री बांग्लादेश की अपनी समकक्ष शेख हसीना (Shiekh Hasina) के साथ अहम बातचीत कर सकते हैं.

ढाका ट्रिब्यून ने कई सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि प्रधानमंत्री मोदी के इस दौरे में प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ आधिकारिक बातचीत में कई मामलों पर द्विपक्षीय वार्ता हो सकती है. पीएम मोदी अपनी तीन दिवसीय बांग्लादेश की यात्रा के लिए 16 मार्च को बांग्लादेश पहुंचेंगे. 17 मार्च को पीएम मोदी शेख मुजीबुर रहमान की जन्मतिथि पर आयोजित कार्यक्रमों में भाग लेंगे.

मार्च के पहले हफ्ते में बांग्लादेश जाएंगे विदेश सचिव
ढाका ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक मार्च के पहले हफ्ते में विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रंगला बांग्लादेश का दौरा करेंगे और प्रधानमंत्री के दौरे से जुड़ी सभी तैयारियों का जायजा लेंगे. ढाका में भारतीय हाईकमीशन के सेकेंड सेक्रेटरी प्रेस देबब्रत पॉल ने जानकारी दी कि यह तय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 मार्च के आयोजन में हिस्सा लेंगे लेकिन इस दौरे के पूरे शेड्यूल का तय किया जाना बाकी है.
शेख हसीना ने पिछले साल दिया था न्योता


पिछले साल 5 अक्टूबर को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने भारत का दौरा किया था और प्रधानमंत्री मोदी को इस कार्यक्रम में शरीक होने का न्योता दिया था.

गृह और विदेश मंत्री ने रद्द किया था भारत दौरा
हालांकि बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन और गृह मंत्री असदुज्जमान खान ने पिछले कुछ महीनों में अपना भारत दौरा रद्द कर दिया था. मोमेन के दौरा रद्द करने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि उन्होंने ऐसा भारत के नागरिकता कानून के चलते लिया है जिसके बाद विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया था कि उनका ये दौरा सीएए के कारण रद्द नहीं हुआ है.

बता दें पिछले साल संशोधित हुए भारत के नागरिकता कानून में भारत के तीन पड़ोसी देश पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से 31 दिसंबर 2014 से पहले आने वाले हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, पारसी और बौद्ध धर्म के लोगों को भारत की नागरिकता दे दी जाएगी. इसे लेकर भारत में पिछले काफी दिनों से विरोध प्रदर्शन जारी हैं.

ये भी पढ़ें-
महातिर के इस्तीफे के बाद मलेशिया के नए PM नामित किए मोहिउद्दीन यासीन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज