कब्र की हुई खुदाई में 115 बच्चों की लाशें मिली, मुंह में भरे हुए थे सिक्के

पोलैंड में कब्र की खुदाई में 115 बच्चों की लाशें मिली हैं.
पोलैंड में कब्र की खुदाई में 115 बच्चों की लाशें मिली हैं.

पोलैंड के दक्षिण पूर्व में साइट के पास पुरातत्वविदों ने कुल 115 लाशों का पता लगाया गया था जिनके मुंह में सिक्के भरे हुए थे. पुरातत्वविद मान रहे हैं कि यह कब्रिस्तान (Graveyard) लगभग 16 वीं सदी के आसपास का है.

  • Share this:
वारसॉ. पोलैंड में निर्माण का काम करने वाले मजदूरों (Labour) ने 500 से अधिक पुराने सामूहिक कब्र खोली जिनमें 100 से अधिक बच्चे दबे मिले हैं. देश के दक्षिण पूर्व में साइट के पास पुरातत्वविदों ने कुल 115 लाशों का पता लगाया गया था जिनके मुंह में सिक्के भरे हुए थे. पुरातत्वविद (Archaeologist) मान रहे हैं कि यह कब्रिस्तान (Graveyard) लगभग 16 वीं सदी के आसपास का है और इसमें 80 प्रतिशत से ज्यादा लाशें बच्चों की हैं. सभी लाशों की स्थिति कुछ इस प्रकार पाई गई जिसमें वे जमीन पर अपनी पीठ के बल हैं और उनके हाथों पर उनके हाथ रखे हुए हैं और पुरातत्वविदों को यह देखकर बहुत आश्चर्य हुआ कि कइयों के मुंह के अंदर एक सिक्का (Coins in Mouth) रखे हुए थे.

लाश के मुंह में सिक्का डालने की है लोक परंपरा

कब्र के इलाके में काम कर रहे कतार्ज़नी ओलेज़ेक नाम के श्रमिक ने फ़र्स्ट न्यूज़ को बताया कि यह एक ईसा पूर्व लोक परंपरा है जिसमें लाश के मुंह में सिक्का डालकर उसके मृत्यु के बाद के जीवन के लिए तैयार करते हैं. यह सिक्का एक लोक कथा में प्रसिद्ध 'चारोन' नाम के फेरीवाले के लिए एक तरह की रिश्वत है जो आत्माओं को जीवित दुनिया को मृतकों की दुनिया से विभाजित करने वाली नदी के पार ले जाता है.



यह एक कैथोलिक चर्च कब्रिस्तान है
इस कब्रिस्तान की खोज पॉडकरपेकी प्रांत के निस्को शहर के पास एक साइट पर की गई थी जहां बिल्डर पोलैंड के नए S19 मोटरवे के लिए जंगल साफ कर रहे थे. दरअसल यह एक कैथोलिक कब्रिस्तान था. कंकालों को रखने की व्यवस्था और उनके संरक्षण की स्थिति से साफ़ पता चलता है कि यह एक कैथोलिक चर्च कब्रिस्तान है और जिसका निश्चित रूप से बहुत ध्यान रखा गया था. कोई भी कब्र दूसरी किसी कब्र से जुड़ी नहीं है और न ही क्षतिग्रस्त है.

ये भी पढ़ें:  लॉकडाउन खुलते ही पागलों की तरह 'किसिंग स्टोन' को चूमने उमड़े लोग

71 साल के मेयर ने गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए तोड़ा लॉकडाउन, सीढ़ी लेकर खिड़की पर चढ़े

साइट पर टीमों को सिक्कों के अलावा कोई अन्य सामान नहीं मिला है. पुरातत्वविद साइट पर प्राप्त कुछ सिक्कों को सिगिस्मंड III वासा के शासन काल का मान रहे हैं जो 1587 से 1632 तक पोलैंड के राजा थे जबकि कुछ अन्य सिक्कों को 1648 से 1668 तक जॉन द्वितीय कासिमिर के शासन के समय का बता रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज