नाईजीरिया में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस ने चलाई ताबड़तोड़ गोलियां, कई मरे

पुलिस के विशेष डकैती-रोधी दस्ते (SARS) की क्रूरता के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं लोग. फोटो: AP
पुलिस के विशेष डकैती-रोधी दस्ते (SARS) की क्रूरता के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं लोग. फोटो: AP

पुलिस क्रूरता (Police Brutality) के खिलाफ एक प्रदर्शन के दौरान नाईजीरिया सुरक्षा बल (Nigeria Security Force) के जवानों ने गोली चलानी शुरू कर दी. सुरक्षा बल के जवानों की गोली लगने से कई लोगों की जान (Many People Murdered) चली गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2020, 4:01 PM IST
  • Share this:
अबूजा. पुलिस क्रूरता (Police Brutality) को लेकर एक प्रदर्शन के दौरान नाईजीरिया सुरक्षा बल (Nigeria Security Force) के जवानों ने गोली चलानी शुरू कर दी. सुरक्षा बल के जवानों की गोली लगने से कई लोगों की जान (Many People Murdered) चली गई. यह जानकारी एमनस्टी इंटरनेशनल (Amnesty Internation) ने दी. इस घटना के प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि लागोस में कर्फ्यू के नियमों का उल्लंघन करके करीब 1,000 से अधिक लोग एकत्रित हो गए और कई घंटों से प्रदर्शन कर रहे थे. जवानों ने इन प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलानी शुरू कर दी जिसमें कई लोगों की जान चली गई.

अभी मरने वालों की संख्या का नहीं चल पाया है पता

एमनेस्टी के नाइजीरिया प्रवक्ता ईसा सानूसी ने शहर में प्रदर्शन स्थल का जिक्र करते हुए कहा कि टोल गेट पर सुरक्षा बलों द्वारा लोगों को मार डाला गया. उन्होंने बताया कि अभी मानवाधिकार समूह के लोग इस बात की पुष्टि में लगे हैं कि कितने लोगों की जान गई है.





दो सप्ताह पहले भी हजारों लोग कर रहे थे प्रदर्शन

दो सप्ताह पहले सड़कों पर हजारों लोग प्रदर्शन कर रहे थे तब पुलिस के विशेष डकैती-रोधी दस्ते (SARS) ने बल प्रयोग किया था. इस घटना के बाद से लोग वहां बहुत गुस्से में हैं. मानवाधिकार समूह लंबे समय से विशेष डकैती-रोधी दस्ते पर जबरन वसूली, उत्पीड़न, यातना और हत्याओं का आरोप लगाते रहे हैं. यही वजह है कि कई युवा प्रदर्शनकारी पुलिस सुधार की मांग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: ये भी पढ़ें: लास वेगास में पादरी ने ट्रंप से कहा- आप प्रभु की आंखों के तारे हैं, दोबारा राष्ट्रपति बनेंगे 

पाकिस्तान को टेरर फंडिंग खत्म करने के लिए मिली थी ​लंबी लिस्ट, खफा हुआ FATF 

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने मंगलवार देर रात कहा कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को गोली मार दी थी जिसमें'विश्वसनीय लेकिन परेशान करने वाले सबूत' थे. एक महिला प्रदर्शनकारी ने कहा कि हम लोग प्रदर्शनस्थल पर शांति से बैठे हुए थे तब जवानों ने वहां लगी बत्तियां बुझा दी. इसके बाद वहां लोग चीखने-चिल्लाने लगे. उन्होंने बताया कि वे हमारे पास आए, हम नहीं जानते हैं कि वे कौन थे. उन्होंने गोलियां चलानी शुरू कर दी और उसके बाद सभी अपनी जान बचाने के लिए इधर से उधर भागने लगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज