FaceApp की मदद से मिला 18 साल पहले किडनैप हुआ बच्चा

इस AI तकनीक को चीन की टेक कंपनी Tencent ने बनाया है. इस तकनीक ने बच्चे की बचपन की तस्वीर के आधार पर हाई एक्यूरेसी के साथ बताया कि वह अब कैसा दिखता होगा.

News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 7:25 AM IST
FaceApp की मदद से मिला 18 साल पहले किडनैप हुआ बच्चा
फेसऐप से मिलती-जुलती आर्टिफिशियल तकनीक चीन के एक परिवार के लिए खुशियों का सबब बन गई.
News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 7:25 AM IST
आजकल सोशल मीडिया साइट फेसबुक के यंग यूजर्स जमकर अपनी बुढ़ापे की तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं. हर व्यक्ति अपने स्टेटस में दिखा रहा है कि वो बुढ़ापे में कैसा दिखेगा. ये एक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक FaceApp के जरिये संभव हो रहा है. बेशक ये फेसबुक यूजर्स के लिए मनोरंजन का विषय होगा, लेकिन इस ऐप से मिलती-जुलती आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) तकनीक एक परिवार के लिए खुशियों का सबब बन गई.

पता चल गया, अब कैसा दिखता होगा बच्चा 

दरअसल, इस तकनीक की मदद से चीन में एक परिवार को करीब दो दशक पहले अपहरण किया गया उनका बच्चा वापस मिल गया. इस बच्चे को तीन साल की उम्र में किडनैप कर लिया गया था. ऐप के आने के बाद पुलिस को विचार आया कि उस बच्चे की पुरानी तस्वीर को इस तकनीक की मदद से कंवर्ट किया जाए. फिर देखा जाए कि वह बच्चा अब कैसा दिखता होगा. पुलिस FaceApp से मिलती-जुलती AI तकनीक की बदौलत इस बच्चे को खोजने में कामयाब भी रही.

टेक कंपनी Tencent ने बनाई है AI तकनीक 

चीन की पुलिस ने जिस AI तकनीक का इस्तेमाल किया, उसे चीन की टेक और इंटरनेट कंपनी Tencent ने बनाया है. इस तकनीक ने बच्चे की बचपन की तस्वीर के आधार पर हाई एक्यूरेसी के साथ बताया कि वह अब कैसा दिखता होगा. इसके बाद जांच अधिकारियों ने किसी भी तरह की गड़बड़ी की गुंजाइश से बचने के लिए AI लैब के अनुमान का मौजूदा फेशियल रिकॉग्निशन तकनीक के साथ मिलान किया.

सॉफ्टवेयर की मदद से करीब 100 लोगों को छांटा गया. आखिरकार बच्चे का पता लग गया. यू वीफेंग फिलहाल एक कॉलेज स्टूडेंट है.


बायोलॉजिकल माता-पिता से मेल खाया डीएनए 
Loading...

सॉफ्टवेयर की मदद से करीब 100 लोगों को छांटा गया. आखिरकार उसे बच्चे का पता लग गया. यू वीफेंग फिलहाल एक कॉलेज स्टूडेंट है. इस मामले की पड़ताल करने वाले झेंग झेनहाई ने बताया, जब वीफेंग हमें मिला तो उसने यह मानने से इनकार कर दिया कि उसका अपहरण किया गया था. लेकिन, डीएनए टेस्ट से सबकुछ साफ हो गया. वीफेंग का डीएनए उसके बायोलॉजिकल माता-पिता से मेल खाता है. झेंग ने बताया कि अपहरण के बाद ही हमने मामले की जांच शुरू कर दी थी. हमने कभी उम्मीद नहीं हारी.

पिता की कंस्ट्रक्शन साइट से गायब हुआ था वीफेंग 

वीफेंग 6 मई, 2001 को उस समय गायब हो गया था, जब उसके पिता एक कंस्ट्रक्शन साइट पर बतौर फोरमैन काम कर रहे थे और वह वहां खेल रहा था. वीफेंग के पिता और मां ने उन पैरेंट्स को शुक्रिया कहा है, जिन्होंने पिछले 18 साल तक उनके बच्चे की परवरिश की. वीफेंग के पिता ने कहा कि वीफेंग की परवरिश करने वाले पिता और मैं भाई जैसे हो गए हैं. मेरे बेटे के अब दो पिता हो गए हैं.

ये भी पढ़ें:

60 साल पहले शुरू हुई थी चांद पर पहुंचने की इंसानी रेस!

दुनिया में 82 करोड़ आबादी कुपोषित और 67 करोड़ मोटापे की शिकार
First published: July 20, 2019, 7:06 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...