लाइव टीवी

पाकिस्‍तान में राजनेताओं ने हद कर दी, मिल कर किसानों को लूटा : रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 5:43 PM IST
पाकिस्‍तान में राजनेताओं ने हद कर दी, मिल कर किसानों को लूटा : रिपोर्ट
रिपोर्ट के अनुसार देश की 88 चीनी मिलों में गन्ने का उत्पादन कम दिखाया गया और लगभग एक चौथाई उत्पादन गुप्त रखा गया. आयोग के अनुसार उत्पादन देश की जरूरतों के लिए पर्याप्त था और इसमें कमी की कोई संभावना नहीं थी और चीनी की कीमत में वृद्धि उत्पादन की कमी के कारण नहीं थी.

रिपोर्ट के अनुसार देश की 88 चीनी मिलों में गन्ने का उत्पादन कम दिखाया गया और लगभग एक चौथाई उत्पादन गुप्त रखा गया. आयोग के अनुसार उत्पादन देश की जरूरतों के लिए पर्याप्त था और इसमें कमी की कोई संभावना नहीं थी और चीनी की कीमत में वृद्धि उत्पादन की कमी के कारण नहीं थी.

  • Share this:
इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक के बाद सरकार ने चीनी संकट पर रिपोर्ट पेश की है. इस रिपोर्ट में देश में चीनी की कीमतों में वृद्धि के लिए चीनी मिल मालिकों को दोषी ठहराया है. इसमें जहांगीर तरीन (Jahangir Tareen) सहित सरकार और विपक्षी राजनीतिक हस्तियां भी शामिल हैं. 'उर्दू न्‍यूज' की खबर के हवाले से बताया गया है कि रिपोर्ट में सरकारी संस्‍थाओं जैसे एफबीआर, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (SBP) और एसईसीपी को भी जिम्‍मेदार ठहराते हुए कहा है कि सरकारी एजेंसियां अपने दायित्वों को पूरा करने में विफल रही हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि दिसंबर 2018 के बाद चीनी की कीमत तेजी से बढ़ी जो अगस्त 2019 तक जारी रही और चीनी की कीमत 51.6 रुपये से बढ़कर 68.6 रुपये हो गई. चीनी मिलों और खुदरा कीमतों में इस साल फरवरी के बाद फिर से वृद्धि हुई। पाकिस्तान शुगर मिल्स एसोसिएशन ने जनवरी में आंशिक हड़ताल की, जो संयोग से उन दिनों में सामने आई, जब सरकार ने जांच का फैसला किया. चीनी मिल्‍स वालों का कहना था कि गन्ने की आपूर्ति कम हो गई है और किसानों ने मूल्‍य बढ़ा दिया है, जबकि रिपोर्ट के अनुसार गन्ने का उत्पादन पिछले साल की तुलना में इस वर्ष 67.7 मीट्रिक टन या एक प्रतिशत बढ़ा है.

किसानों को किया गया कम भुगतान
रिपोर्ट के अनुसार देश की 88 चीनी मिलों में गन्ने का उत्पादन कम दिखाया गया और लगभग एक चौथाई उत्पादन गुप्त रखा गया. आयोग के अनुसार उत्पादन देश की जरूरतों के लिए पर्याप्त था और इसमें कमी की कोई संभावना नहीं थी और चीनी की कीमत में वृद्धि उत्पादन की कमी के कारण नहीं थी. वहीं चीनी आयोग की जांच और फोरेंसिक रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि सभी चीनी मिलें किसानों को सरकार द्वारा निर्धारित गन्ने का मूल्य 180 रुपये प्रति क्विंटल से कम का भुगतान करती हैं और उन्हें केवल 140 रुपये प्रति क्विंटल का भुगतान किया जाता हैं. गन्ना आयुक्त और संबंधित उपायुक्त किसानों के साथ हो रहे इस अन्‍याय को रोकने में विफल रहे हैं.



जहांगीर तरीन ने अपनी बात रखी


रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया देते हुए, पीटीआई नेता जहांगीर तरीन ने ट्वीट किया, 'झूठे आरोपों से दुखी हूं. मैंने हमेशा पारदर्शी तरीके से कारोबार किया है. पूरा पाकिस्तान जानता है कि मैं हमेशा किसानों को पूरी कीमत चुकाता हूं.' प्रारंभिक रिपोर्ट सामने आने के बाद प्रधान मंत्री इमरान खान ने चीनी मिलों के फोरेंसिक ऑडिट का आदेश दिया था. गौरतलब है कि प्रधान मंत्री इमरान खान ने एफआईए को देश में आटा और चीनी संकट की फोरेंसिक जांच करने का आदेश दिया था. गुरुवार को कैबिनेट ने फोरेंसिक रिपोर्ट जारी करने को मंजूरी दी. वहीं पिछले महीने अप्रैल की शुरुआत में जारी इसकी प्रारंभिक रिपोर्ट में चीनी की कमी, इसकी बढ़ती कीमतोंऔर मुनाफा हासिल करने के लिए राजनीतिक रूप से प्रभावशाली चीनी मिल मालिकों को दोषी ठहराया था. इसमें प्रधानमंत्री के करीबी सहयोगी जहांगीर तरेन को भी दोषी ठहराया गया था, जिसके बाद सरकार ने जहांगीर तरेन को कृषि कार्य समूह के पद से हटाने की घोषणा की थी. वहीं पीएम ने काबीना में भी बड़े पैमाने पर बदलाव किए थे. रिपोर्ट में केंद्रीय मंत्री खुसरो बख्तियार के भाई के नाम का उल्लेख किए जाने के बाद खाद्य सुरक्षा मंत्रालय को उनसे वापस ले लिया गया और सैयद फख्र इमाम को दे दिया गया,

ये भी पढ़ें - PAK विमान हादसे में जिंदा बचेे शख्‍स का भारत के साथ है 'पाकीज़ा' कनेक्‍शन

                नई महामारी खाद्य संकट : भूख की चपेट में क्यों और कैसे आया न्यूयॉर्क?

                चीन को सबक सिखाने की तैयारी में ट्रंप, 33 कंपनियों को US ने किया ब्लैकलिस्ट

                जानिए वो कारण जिसके कारण चीन ताइवान को WHO में शामिल नहीं करना चाहता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 5:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading