लाइव टीवी

इक्वाडोर में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर भड़के दंगे, राष्ट्रपति ने कर्फ्यू लगाने के दिए आदेश

भाषा
Updated: October 13, 2019, 1:09 PM IST
इक्वाडोर में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों को लेकर भड़के दंगे, राष्ट्रपति ने कर्फ्यू लगाने के दिए आदेश
राष्ट्रपति ने कर्फ्यू लगाने के दिए आदेश (फाइल)

राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो (Lenín Moreno) ने राजधानी क्वीटो (Quito) और उसके आसपास के इलाकों में कर्फ्यू लगाने और उसे सैन्य नियंत्रण में लेने का आदेश दिया है.

  • Share this:
क्वीटो. इक्वाडोर (Ecuador) में ईंधन की बढ़ी कीमतों के खिलाफ शनिवार को लगातार 11 वें दिन हिंसक प्रदर्शन जारी रहने के बीच राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो (Lenín Moreno) ने राजधानी क्वीटो (Quito) और उसके आसपास के इलाकों में कर्फ्यू लगाने और उसे सैन्य नियंत्रण में लेने का आदेश दिया है. राष्ट्रपति मोरेनो ने ट्विटर पर कहा कि यह आदेश शनिवार को स्थानीय समयानुसार तीन बजे (अंतरराष्ट्रीय समयानुसार आठ बजे) लागू होगा.

इससे पहले मोरेनो ने तीन अक्टूबर को आपात स्थिति की घोषणा की थी, जिसके बाद करीब 75,000 सैन्य और पुलिस कर्मियों की सरकारी इमारतों के आस पास तैनाती की गई थी. मोरेनो ने शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन के 10वें दिन सीधी बातचीत का प्रस्ताव दिया था. उन्होंने टीवी पर कहा था कि हिंसा रोकना बहुत जरूरी है. मैं नेताओं से सीधे मुझसे बात करने की अपील करता हूं.

President ordered curfew - Ecuador Demonstration
ईंधन सब्सिडी खत्म करने को लेकर विरोध प्रदर्शन


वहीं स्वदेशी संगठनों के समावेशी समूह सीओएनएआईई (CONAIE) ने बातचीत का प्रस्ताव ठुकराते हुए एक बयान में कहा था कि जिस बातचीत की बात वह कर रहे हैं उस पर विश्वास नही किया जा सकता. इस बीच समर्थकों ने शनिवार को इक्वाडोर में एक टेलीविजन स्टेशन और समाचार पत्र कार्यालय पर भी हमला कर दिया था. टीवी चैनल टेलेमेजोनस ने अपने कार्यालय की टूटी खिड़कियों, जले हुए एक वाहन और मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल की तस्वीरें प्रसारित की.

सामाचार पत्र एल कोमेरिसो ने ट्विटर पर बताया कि उसके कार्यालय पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया है.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ इक्वाडोर के सहायता समझौते के तहत ईंधन सब्सिडी खत्म करने के राष्ट्रपति लेनिन मोरोन के फैसले के बाद अक्टूबर की शुरुआत से ही विरोध प्रदर्शन शुरू हो गये थे. ये विरोध प्रदर्शन परिवहन कम्पनियों ने शुरू किया था लेकिन बाद में अन्य उद्योगों के संगठन भी इसमें शामिल हो गये. मोरेनो ने विरोध प्रदर्शनों की वजह से देश में आपात स्थिति घोषित की है और सरकार के मुख्यालयों को राजधानी क्विटो से गुआयाकिल शहर में स्थानांतरित कर दिया है.

ये भी पढ़ें : मिस्र के सिनाई में हमले में एक ही परिवार के 9 सदस्यों की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 13, 2019, 12:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...