रूस के विपक्षी नेता नवलनी का आरोप- जहर देने के पीछे राष्ट्रपति पुतिन का हाथ

नवलनी के समर्थकों ने अक्सर कहा है कि इस तरह के हमले तभी हो सकते हैं, जब शीर्ष स्तर पर इसके आदेश दिये गये हों.  (Photo: AP)
नवलनी के समर्थकों ने अक्सर कहा है कि इस तरह के हमले तभी हो सकते हैं, जब शीर्ष स्तर पर इसके आदेश दिये गये हों. (Photo: AP)

एलेक्सी नवलनी (Alexei Navalny) रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) के विरोधी हैं. वह 20 अगस्त को साइबेरिया से मॉस्को जाते समय विमान में बीमार पड़ गये थे और उन्हें इलाज के लिए जर्मनी ले जाया गया. उनकी टीम के सदस्यों ने आरोप लगाया था कि जहर दिये जाने की इस घटना में रूस सरकार शामिल है

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 1, 2020, 11:15 PM IST
  • Share this:
बर्लिन. रूस के विपक्षी नेता एलेक्सी नवलनी (Russian Opposition Leader Alexei Navalny) ने गुरुवार को जारी बयानों में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) पर आरोप लगाया कि उन्हें जहर देकर किए गए हमले के पीछे पुतिन हैं. नवलनी के समर्थकों ने अक्सर कहा है कि इस तरह के हमले तभी हो सकते हैं, जब शीर्ष स्तर पर इसके आदेश दिये गये हों. क्रेमलिन ने इसमें किसी भी तरह की संलिप्तता से लगातार इनकार किया है.

राजनेता, भ्रष्टाचार जांचकर्ता एवं पुतिन के सर्वाधिक मुखर आलोचक नवलनी 20 अगस्त को रूस में एक घरेलू उड़ान में बीमार पड़ने के दो दिन बाद इलाज के लिए जर्मनी (Germany) गए. उन्होंने अस्पताल में 32 दिन बिताए, उनमें से 24 दिन वह गहन देखभाल इकाई में थे. उन्होंने अपनी टिप्पणियां ऑनलाइन पोस्ट की है.

ये भी पढ़ें- गुजरात सरकार को झटका, SC ने कहा- कोरोना पब्लिक इमरजेंसी नहीं कि मजदूर बिना पैसे ओवरटाइम करें



'मेरे पास इस संबंध में अन्य जानकारी नहीं'
इस घटना के बाद अपने पहले साक्षात्कार में, उन्होंने जर्मनी के डेर स्पीगेल पत्रिका से कहा, ‘‘पुतिन इस हमले के पीछे थे.’’ बर्लिन में बुधवार को आयोजित साक्षात्कार के संक्षिप्त अंश में उन्होंने कहा, "मेरे पास कोई अन्य जानकारी नहीं है कि अपराध कैसे किया गया था.’’

पूरे साक्षात्कार को गुरुवार को बाद में ऑनलाइन प्रकाशित किया जाएगा.

नवलनी बीमार पड़ने के दो दिनों तक साइबेरियाई शहर ओम्स्क के एक अस्पताल में कोमा में रहे थे. उन्हें इलाज के लिए बर्लिन ले जाये जाने से पहले रूसी डॉक्टरों ने कहा था कि उनके शरीर में जहर का कोई निशान नहीं मिला. जर्मन रासायनिक हथियार विशेषज्ञों ने पुष्टि की कि उन्हें जहर दिया गया था.

ये भी पढ़ें- ICMR की बड़ी कामयाबी, खास एंटी-सिरम तैयार, कोविड-19 के इलाज में होगी कारगर

इससे पहले नवलनी ने सोमवार को इन रिपोर्टो की पुष्टि की थी कि बर्लिन में इलाज के दौरान जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल उनसे मिलने अस्पताल आई थीं. नवलनी बर्लिन के ‘चैरिटी अस्पताल’ में भर्ती थे. जर्मनी के अधिकारियों का कहना है कि नवलनी पर नर्व एजेंट का इस्तेमाल किया गया था. 32 दिन तक इलाज के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी गई. अभी वह कुछ समय जर्मनी में ही रहेंगे, ताकि डॉक्टर उनके स्वास्थ्य पर नजर रख पाएं.

गौरतलब है कि नवलनी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के विरोधी हैं. वह 20 अगस्त को साइबेरिया से मॉस्को जाते समय विमान में बीमार पड़ गये थे और उन्हें इलाज के लिए जर्मनी ले जाया गया. उनकी टीम के सदस्यों ने आरोप लगाया था कि जहर दिये जाने की इस घटना में रूस सरकार शामिल है, लेकिन रूसी अधिकारियों ने इस आरोप को सिरे से खारिज किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज