अमेरिकाः प्रदर्शनकारियों ने कहा- चुनावों में हुए दुष्प्रचार के कारण हुई कैपिटल हिंसा

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के बाद संसद (कैपिटल हिल) में 6 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने द्विदलीय जांच कमीशन को मंजूरी दे दी है

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के बाद संसद (कैपिटल हिल) में 6 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने द्विदलीय जांच कमीशन को मंजूरी दे दी है

पिछले साल राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत के बाद ट्रंप और उनके सहयोगियों ने बार-बार दावा किया कि चुनाव में धांधली की गयी है. हालांकि इन दावों को बार-बार दोनों पार्टियों के अधिकारी, बाहरी विशेषज्ञ और अनेक राज्यों की अदालतें तथा ट्रंप के खुद के एटॉर्नी जनरल खारिज करते रहे.

  • Share this:

प्रोविडेंस (अमेरिका). अमेरिका में कैपिटल परिसर में छह जनवरी को हिंसा करने वाले प्रदर्शनकारियों के वकीलों का कहना है कि चुनाव के बारे में बोले गये झूठ की वजह से उन्होंने इस घटना को अंजाम दिया और कुछ आरोपियों को लगता है कि उनका भोलापन उन्हें बचा सकता है या कम से कम उनके प्रति थोड़ी सहानुभूति पैदा कर सकता है.

हिंसक घटना के मामले में आरोपी कम से कम तीन प्रतिवादियों के वकीलों ने एपी से कहा कि वे अपने मुवक्किलों को गुमराह किये जाने के लिए चुनाव के दौरान किये गये दुष्प्रचार तथा षड्यंत्रों को जिम्मेदार ठहराएंगे जिन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से बढ़ावा मिला. वकीलों ने कहा कि दुष्प्रचार फैलाने वाले भी हिंसा के लिए उतने ही जिम्मेदार हैं जितने कैपिटल परिसर में घुसने वाले जिम्मेदार हैं.

बचाव पक्ष के वकील ने कही ये बात

बचाव पक्ष के वकील एंथनी एंटोनियो ने ट्रंप के संदर्भ में कहा, ‘‘मैं यह बात कहते हुए अब बेवकूफ लग रहा हूं लेकिन तब मेरा विश्वास उनमें था.’’ उन्होंने कहा कि महामारी से पहले तक राजनीति में उनकी दिलचस्पी नहीं थी लेकिन बाद में उनका रुझान दक्षिणपंथी सोशल मीडिया की ओर हो गया.
एंटोनियो ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि उन्होंने लोगों को लुभाने का बड़ा काम किया.’’

बार-बार लगे थे चुनावों में धांधली के आरोप

पिछले साल राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत के बाद ट्रंप और उनके सहयोगियों ने बार-बार दावा किया कि चुनाव में धांधली की गयी है. हालांकि इन दावों को बार-बार दोनों पार्टियों के अधिकारी, बाहरी विशेषज्ञ और अनेक राज्यों की अदालतें तथा ट्रंप के खुद के एटॉर्नी जनरल खारिज करते रहे.




अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट जज एमी बर्मन जैक्सन ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की सभापति नैन्सी पेलोसी को जान से मारने की धमकी देने के आरोपी की रिहाई से इनकार करने के फैसले में बुधवार को लिखा कि प्रतिवादियों को हथियार उठाने के लिए उकसाने वाले बयान अभी तक गूंजते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज