लाइव टीवी

रोजगार की तलाश में पंजाब से गए अमेरिका, पर पहुंच गए जेल

भाषा
Updated: June 23, 2018, 8:49 AM IST
रोजगार की तलाश में पंजाब से गए अमेरिका, पर पहुंच गए जेल
सांकेतिक तस्वीर

ऐसे करीब 100 भारतीयों को अमेरिका ने हिरासत में लिया. इनमें से ज्यादातर सिख और ईसाई हैं...

  • Share this:
अमेरिका में अवसरों की तलाश में कई देशों को पार करके बंटी सिंह (काल्पनिक नाम) अवैध तरीके से अमेरिका में घुस गया, लेकिन पकड़े जाने पर न्यू मेक्सिको के अप्रवासी हिरासत केंद्र में उसे डाल दिया गया और वह पिछले 16 महीने से वहां पड़ा है.

जालंधर के मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले सिंह ने दो साल पहले अपना गृह नगर छोड़ा था. सिंह के पिता पंजाब पुलिस में हैं जबकि मां गृहिणी हैं.

एक स्थानीय ट्रैवेल एजेंट ने उसे अमेरिका ले जाने का लालच दिया. कई महीनों के बाद विभिन्न देशों को पार करके जब उसने टेक्सास में अल-पासो के निकट मेक्सिको सीमा के जरिये अमेरिका में घुसने का प्रयास किया तो उसे पकड़ लिया गया और तब से वह हिरासत में है.

न्यू-मेक्सिको के ओटेरो में संघीय हिरासत केंद्र में 16 महीने गुजारने के बाद सिंह को अब स्वेदश भेजे जाने की प्रक्रिया चल रही है.



उसे फुसलाकर ले जाने वाला ट्रैवेल एजेंट फरार है. सिंह के परिवार के सदस्यों का कहना है कि वे अब तक तकरीबन 47 लाख रुपये खर्च कर चुके हैं और इसमें से ज्यादातर राशि एजेंट और उनके मामले की पैरवी करने के लिये एक स्थानीय वकील को रखने में खर्च हुई है.

सिंह अकेले नहीं हैं, बल्कि ऐसे तकरीबन 100 भारतीय हैं जिन्हें अवैध तरीके से अमेरिकी सीमा को पार करने पर पकड़े जाने के बाद दक्षिण अमेरिकी राज्य न्यू मेक्सिको और ओरेगन में दो आप्रवासी हिरासत केंद्रों में रखा गया है. इनमें से ज्यादातर पंजाब के हैं.

अधिकारियों के अनुसार, तकरीबन 40 से 45 भारतीय न्यू मेक्सिको के संघीय हिरासत केंद्र में हैं, जबकि 52 भारतीय ओरेगन स्थित हिरासत केंद्र में रखे गए हैं. इनमें से ज्यादातर सिख और ईसाई हैं.

नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन (एनएपीए) से जुड़े सतनाम सिंह चहल ने बताया कि हजारों भारतीय अमेरिकी जेलों में बंद हैं. इनमें से ज्यादातर पंजाब के हैं.

चहल ने आरोप लगाया कि मानव तस्करों, अधिकारियों और पंजाब के नेताओं का एक गठजोड़ है जो पंजाब के युवाओं को अवैध तरीके से अमेरिका में घुसने के लिये अपना घर छोड़ने के लिये प्रोत्साहित करता है और हर व्यक्ति से 35-50 लाख रुपये वसूल किये जाते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 23, 2018, 7:49 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर