कतर एयरपोर्ट पर महिलाओं के कपड़े उतार कर हुई थी जांच, चलेगा मुकदमा

कतर एयरपोर्ट पर महिलाओं की जबरन गायनोलॉजिकल जांच के मामले में मुकदमा चलेगा. (सांकेतिक तस्वीर)
कतर एयरपोर्ट पर महिलाओं की जबरन गायनोलॉजिकल जांच के मामले में मुकदमा चलेगा. (सांकेतिक तस्वीर)

क़तर (Qatar) सरकार ने सिडनी की हवाई यात्रा करने वाली महिलाओं की जबरन गायनोलॉजिकल जाँच करने के मामले में हवाई अड्डे के कई अधिकारियों पर अदालत में मुकदमा चलाया जायेगा. कतर की सरकार ने शुक्रवार को माना कि "मानक प्रक्रियाओं (standard procedures) का उल्लंघन किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 2:04 PM IST
  • Share this:
दोहा. कतर के दोहा स्थित अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (Qatar International Airport) पर 2 अक्टूबर को एक नवजात बच्ची के एक कचरे के डब्बे में पड़ी मिलने की खबर के बाद वहां मौजूद सिक्योरिटी गार्ड ने महिला यात्रियों के कपड़े उतरवा (Security Check without Clothes) कर जांच शुरू कर दी ताकि उस नवजात की मां का पता लगाया जा सके. दोहा से सिडनी जा रही रही इस फ्लाइट में सवार सभी वयस्क महिलाओं को जहाज से उतरने के लिए कहा गया. उन सभी के कपड़े उतार कर उनकी जांच की गई. इसके बाद में एयरपोर्ट प्रशासन ने 10 हवाई जहाज उड़ानों की महिला यात्रियों की कपड़े उतरवा कर जांच की. इस जांच में ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और न्यूजीलैंड की महिलाएं शामिल थीं. इस मामले में नया मोड़ सामने आया है.

महिलाओं की चली थी गायनोलॉजिकल जांच

क़तर सरकार ने सिडनी की हवाई यात्रा करने वाली महिलाओं की जबरन गायनोलॉजिकल जाँच करने के मामले में हवाई अड्डे के कई अधिकारियों पर अदालत में मुकदमा चलाया जायेगा. कतर की सरकार ने शुक्रवार को माना कि "मानक प्रक्रियाओं (standard procedures) का उल्लंघन किया गया है. शुक्रवार को जीसीओ (GCO) ने कहा कि हवाई अड्डे के अधिकारियों की कार्रवाई की प्रारंभिक जांच में मानक प्रक्रियाओं का उल्लंघन किया गया था. उन्होंने कहा कि इन उल्लंघनों और गैरकानूनी कार्यों के लिए जिम्मेदार लोगों को अदालती कार्यवाही के लिए भेज दिया गया है.



कतर सरकार ने पीड़ित महिलाओं से मांगी माफी
क़तर सरकार ने उस तकलीफ के लिए ह्रदय से माफ़ी मांगी जिससे ये महिलाएं गुजरी थीं. ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मारिज पायने ने अभियोजन पक्ष के लिए रेफरल को एक महत्वपूर्ण कदम कहा. विदेश मंत्री मारिज पायने ने कहा कि इस परेशान करने वाले प्रकरण को दुबारा न होने देने के लिए हमारी क़तर सरकार से पश्चाताप, जवाबदेही और दृढ़ संकल्प संबंधी जो उम्मीदें हैं क़तर सरकार का बयान उन सभी पर खरा उतरता है.

पीड़ित महिलाओं का बयान

इस सप्ताह के शुरू में यह घटना सामने आई थी जब ऑस्ट्रेलियाई यात्रियों में से कुछ ने अपनी बात मीडिया और अपनी सरकारों के सामने रखी तो उनकी सरकारों ने कहा कि वे इस प्रक्रिया से बहुत निराश हैं. महिलाओं ने कहा कि उन्हें हमाद अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सिडनी जाने वाली कतर एयरवेज की उड़ान को रद्द करने का आदेश दिया गया. उसके बाद उन्हें एम्बुलेंस में ले जाया गया और जांच करने से पहले अंतर्वस्त्र उतार देने को कहा गया. महिलाओं ने कहा कि उन्हें अधिकारियों द्वारा कोई जानकारी नहीं दी गई और उन्हें सहमति प्रदान करने का अवसर भी नहीं दिया गया.

ये भी पढ़ें: फिलीपींस में आया दुनिया का सबसे ताकतवर तूफान गोनी, चार की मौत 

IAF अफसर अभिनंदन की रिहाई पर पाक विदेश मंत्री के छूट रहे थे पसीने: अयाज सादिक

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने इस घटना को डरावना और "अस्वीकार्य" बताते हुए कहा कि एक बेटी के पिता के रूप में यह सोच कर मेरे रौंगटे खड़े हो जाते हैं कि कोई भी चाहे ऑस्ट्रेलियाई हो या कोई और कैसे यह सहता होगा. ब्रिटेन के विदेश, कॉमनवेल्थ और विकास कार्यालय ने इस तरह की घटना के दुबारा न होने के आश्वासन की मांग करते हुए कहा कि हमने औपचारिक रूप से कतर अधिकारियों और कतर एयरवेज को अपनी चिंता व्यक्त की है और इस तरह की घटना के दुबारा न होने की मांग की है. न्यूजीलैंड के विदेश मंत्रालय ने कतरी अधिकारियों के कार्यों को डरावना और अस्वीकार्य कहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज