लाइव टीवी

पहला राफेल जेट लेने फ्रांस पहुंचे राजनाथ, करेंगे शस्त्र पूजा और भरेंगे उड़ान

News18Hindi
Updated: October 8, 2019, 8:26 AM IST
पहला राफेल जेट लेने फ्रांस पहुंचे राजनाथ, करेंगे शस्त्र पूजा और भरेंगे उड़ान
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 36 राफेल जेट विमानों (Rafale Jet Aircraft) में पहला विमान प्राप्त करेंगे.

राजनाथ सिंह फ्रांस के बोर्डोक्स (Bordeaux) शहर में एक कार्यक्रम में पहला राफेल (Rafale) जेट विमान प्राप्त करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2019, 8:26 AM IST
  • Share this:
पेरिस. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) सोमवार देर रात तीन दिवसीय दौरे पर पेरिस (Paris) पहुंचे. रक्षा मंत्री इस यात्रा के दौरान 36 राफेल जेट विमानों (Rafale Jet Aircraft) में पहला विमान प्राप्त करेंगे. वह आज राफेल में उड़ान भी भरेंगे. वहीं इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को पेरिस में फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैंक्रो (Emanuel Macron) के साथ बैठक करेंगे. संभावना है कि इस बैठक में दोनों देशों के बीच रक्षा एवं सुरक्षा संबंधों पर चर्चा होगी.

राजनाथ सिंह ने सोमवार को पेरिस पहुंचने पर ट्वीट किया, 'फ्रांस पहुंचकर खुशी हुई. यह महान देश भारत का अहम सामरिक साझेदार है और हमारा विशेष संबंध औपचारिक संबंधों के क्षेत्र से परे जाता है. फ्रांस की मेरी यात्रा का लक्ष्य दोनों देशों के बीच के वर्तमान सामरिक साझेदारी का विस्तार करना है'.

 



राजनाथ सिंह बाद में फ्रांसीसी बंदरगाह शहर बोर्डोक्स (Bordeaux) जाएंगे जहां वह एक कार्यक्रम में पहला राफेल जेट विमान प्राप्त करेंगे. इस कार्यक्रम में राफेल जेट निर्माता दसॉ एविएशन (Dassualt Aviation) के शीर्ष अधिकारी मौजूद रहेंगे. अधिकारियों के मुताबिक जेट प्राप्त करने के बाद सिंह दशहरे (Dussehra) के मौके पर शस्त्र पूजा करेंगे और फिर विमान में उड़ान भरेंगे.

मई में आएगी चार विमानों की पहली खेप
राफेल जेट विमान को सौंपने का कार्यक्रम बोर्डोक्स के मेरीग्नैक में दसॉ एविएशन के परिसर में होगा. यह स्थान पेरिस (Paris) से करीब 590 किलोमीटर दूर है. वैसे तो सिंह मंगलवार को 36 राफेल जेट विमानों में पहला विमान मंगलवार को प्राप्त कर लेंगे लेकिन चार विमानों का पहला खेप अगले साल मई तक ही भारत आएगा. दिन में बाद में राजनाथ सिंह पार्ले के साथ वार्षिक रक्षा वार्ता भी करेंगे जिस दौरान दोनों पक्ष रक्षा एवं सुरक्षा संबंध को और मजबूत करने के तौर तरीके खंगालेंगे.

9 अक्टूबर को सिंह फ्रांसीसी रक्षा कंपनियों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों को संबोधित करेंगे. संभावना है कि वह उनसे भारत में रक्षा के क्षेत्र में ‘मेक इन इंडिया’ पहल में भाग लेने की अपील करेंगे. पिछले कुछ वर्षों में भारत और फ्रांस के बीच रक्षा एवं सुरक्षा संबंध में तेजी आयी है.

दोनों देशों के बीच गहरे हैं संबंध
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगस्त में फ्रांस गये थे जिस दौरान दोनों पक्षों ने पहले से घनिष्ठ रक्षा संबंधों को और गहरा करने का निश्चय प्रकट किया था. सूत्रों ने कहा कि भारतीय वायुसेना की उच्च स्तरीय टीम राफेल विमान सौंपने से संबंधित कार्यक्रम में फ्रांसीसी अधिकारियों के साथ तालमेल के लिए पहले से ही फ्रांस में है.

सितंबर 2016 में हुआ था सौदा
भारत ने करीब 59000 करोड़ रुपये मूल्य पर 36 राफेल लड़ाकू जेट विमान खरीदने के लिए सितंबर, 2016 में फ्रांस के साथ अंतर-सरकारी समझौता किया था.

सूत्रों ने बताया कि विमान का पहला स्क्वाड्रन अंबाला वायुसेना स्टेशन पर तैनात किया जाएगा जो भारतीय वायुसेना के सामरिक रूप से अति महत्वपूर्ण अड्डों में एक समझा जाता है. यह अड्डा भारत-पाक सीमा से करीब 220 किलोमीटर दूर है. राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हाशिमारा अड्डे पर तैनात किया जाएगा. (भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-

इस दिन होगी PM मोदी-शी जिनपिंग की अनौपचारिक बातचीत! इन बातों पर रहेगा जोर

दुश्मन के खिलाफ देश के इन 22 नेशनल हाइवे का इस्तेमाल करेगी Indian Air Force

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2019, 5:19 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...