संघर्ष: 'थका हुआ हूं, कई दिनों से ठीक से नहीं सोया', सामने आए डॉ एंथनी फाउची के ई-मेल

करीब डेढ़ साल से बेहद व्यस्त दिनचर्या का पालन कर रहे डॉक्टर फाउची के कुछ ई-मेल्स सामने आए हैं. (फाइल फोटो: AP)

करीब डेढ़ साल से बेहद व्यस्त दिनचर्या का पालन कर रहे डॉक्टर फाउची के कुछ ई-मेल्स सामने आए हैं. (फाइल फोटो: AP)

Dr. Anthony Fauci E-Mails: इन ई-मेल्स में महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक का अनुभव नजर आता है. फ्रीडम ऑफ इंफर्मेशन एक्ट (FOIA) के तहत बजफीड न्यूज, द वॉशिंगटन पोस्ट और सीएनएन ने डॉक्टर फाउची की बातचीत के 3200 से ज्यादा मैसेज प्राप्त किए हैं.

  • Share this:

वॉशिंगटन. सात अमेरिकी राष्ट्रपतियों को चिकित्सा सलाहकार रहे डॉक्टर एंथॉनी फाउची (Dr. Anthony Fauci) को इस समय का सबसे चर्चित चेहरा कहा जा सकता है. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी शुरू होने के साथ ही उन्होंने काफी ज्यादा सक्रियता से काम किया है. इसके अलावा केवल अमेरिका ही नहीं दुनिया के कई कोविड संबंधी नीतियों पर भी वे बात करते रहे हैं. करीब डेढ़ साल से बेहद व्यस्त दिनचर्या का पालन कर रहे डॉक्टर फाउची के कुछ ई-मेल्स सामने आए हैं.

फ्रीडम ऑफ इंफर्मेशन एक्ट (FOIA) के तहत बजफीड न्यूज, द वॉशिंगटन पोस्ट और सीएनएन ने डॉक्टर फाउची की बातचीत के 3200 से ज्यादा मैसेज प्राप्त किए हैं. इस ई-मेल्स में महामारी विशेषज्ञ ने सरकारी अधिकारियों, अमेरिका समेत कई देशों के हेल्थ एक्सपर्ट्स से संपर्क किया है. इन ई-मेल्स में महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक का अनुभव नजर आता है.

यह भी पढ़ें: अमेरिका में ग्रीन कार्ड पर हर देश के लिए 7% की सीमा हो सकती है खत्म, भारतीयों को होगा फायदा

Youtube Video

हालांकि, तीन हजार से ज्यादा ई-मेल्स में से कुछ ने लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचा है. इस दौरान डॉक्टर फाउची का पत्रकार को भेजा एक संदेश चर्चा का विषय बना हुआ है. इसमें डॉक्टर कह रहे हैं, 'मैं सच में थका हुआ हूं. इन दिनों ज्यादा सो भी नहीं पा रहा हूं.' अप्रैल में प्रकाशित बजफीड की रिपोर्ट में कहा गया था कि व्हाइट हाउस के एक साथी ने फाउची को मेल कर जानना चाहा था कि क्या वे कोविड-19 पर एक ऑप-ऐड लिखना चाहते हैं. इस मेल को अपने कई सहकर्मियों को फाउची ने फॉरवर्ड किया और पूछा, 'कैसे हम इस व्यक्ति को शालीनता से मना कर सकते हैं?'


18 अप्रैल 2020 को फाउची और उनके परिवार को सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के समर्थन में बोलने पर ट्रंप समर्थकों से धमकियां मिली थीं. इसके बाद उन्हें चीन के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एक प्रिवेंशन सेंटर के निदेशक जॉर्ज गाओ का एक मेल आया. इसमें वे कह रहे थे, 'मैंने कुछ खबरें देखीं (उम्मीद करता हूं यह झूठी होंगी) कि (आप) पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया है. आशा करता हूं कि इन हालात में आप अच्छे होंगे.' इस मेल का 21 अप्रैल 2020 को जवाब देते हुए फाउची ने कहा, 'आपके इस नोट के लिए धन्यवाद. इस दुनिया में कुछ पागल लोगों के बावजूद सब ठीक है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज