Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    पाकिस्तान में रिकॉर्डतोड़ महंगाई, इमरान को सत्ता से बेदखल करने सड़कों पर उतरेगी जनता

    पाकिस्तान में रिकॉर्डतोड़ महंगाई, इमरान खान को हटाने की तैयारी, सड़कों पर विरोध के लिए उतरेगी जनता, गेहूं हुआ महंगा, सब्जियों के दाम बढ़े, इस्लामाबाद-Record-breaking inflation in Pakistan, preparations to remove Imran Khan, people will descend on the streets to protest, wheat becomes expensive, prices of vegetables increase, Islamabad
    पाकिस्तान में रिकॉर्डतोड़ महंगाई, इमरान खान को हटाने की तैयारी, सड़कों पर विरोध के लिए उतरेगी जनता, गेहूं हुआ महंगा, सब्जियों के दाम बढ़े, इस्लामाबाद-Record-breaking inflation in Pakistan, preparations to remove Imran Khan, people will descend on the streets to protest, wheat becomes expensive, prices of vegetables increase, Islamabad

    पाकिस्तान मीडिया में छपी खबरों के अनुसार, इस समय 40 किलो के गेहूं के बोरे की कीमत 2400 रुपये है. इस समय देश में सब्जियों के भाव भी सातवें आसमान पर है. सितंबर 2020 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (Consumer Price Index) 9% रहा.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 6, 2020, 4:39 PM IST
    • Share this:
    इस्लामाबाद. पाकिस्तान आर्थिक तंगी (Economic Crisis in Pakistan) के दलदल में धंसता जा रहा है. पाकिस्तान की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. पाकिस्तान में भ्रष्टाचार और अर्थव्यवस्था की बदहाली के चलते लोगों में सरकार के खिलाफ गुस्सा बढ़ रहा है. अर्थव्यवस्था की बदहाली के चलते पाकिस्तान में बेरोजगारों (Unemployment) की संख्या में इजाफा हो रहा है. जीवन जीने के लिए अनिवार्य वस्तुओं की कीमतें आसमान छूने लगी हैं. इस समय पाकिस्तान की गरीबी पर गेहूं (Wheat Prices High) की मार बहुत ज्यादा पड़ रही है. आलम यह है कि वहां एक किलो गेहूं की कीमत 60 रुपये तक पहुंच चुकी है. पाकिस्तान मीडिया में छपी खबरों के अनुसार, इस समय 40 किलो के गेहूं के बोरे की कीमत 2400 रुपये है. इस समय देश में सब्जियों के भाव भी सातवें आसमान पर है. सितंबर 2020 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (Consumer Price Index) 9% रहा.

    जमाखोरों की वजह से बढ़े हैं गेहूं के भाव
    पाकिस्तान में गेहूं की कीमत इससे पहले 50 रुपये प्रति किलोग्राम से ज्यादा कभी भी नहीं हुई थी. गेहूं पिछले साल दिसंबर में 50 रुपये प्रति किलो तक पहुंचा था. इस साल 5 अक्टूबर को गेहूं की कीमत 2400 रुपये प्रति 40 किलोग्राम तक पहुंच गई थी. ऑल पाकिस्तान फ्लोर एसोसिएशन ने केंद्र और राज्य सरकारों से गेहूं का खरीद मूल्य तुरंत निर्धारित करने की मांग की है. फ्लोर एसोसिएशन का कहना है कि देश में गेहूं की कमी मिल मालिकों की वजह से नहीं बल्कि जमाखोरों की वजह से है.

    रूस से गेहूं कर रहा है आयात
    मीडिया में बताया गया है कि पाकिस्तान सरकार ने रूस से 200,000 मीट्रिक टन गेहूं आयात को मंजूरी दी है, जो इस महीने पहुंच सकता है। इस बीच नेशनल प्राइस मॉनिटरिंग कमेटी ने सोमवार को आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि की वजहों पर मंथन किया. बताया गया है कि यह बैठक प्रधानमंत्री इमरान खान के निर्देश पर हुई है।



    आलू, टमाटर और प्याज भी महंगा
    पाकिस्तान में सिर्फ गेहूं ही महंगा नहीं हुआ है, बल्कि टमाटर, आलू, प्याज, चीनी जैसी आवश्यक वस्तुओं के दाम भी तेजी से बढ़ रहे हैं. अन्य सब्जियों की कीमत भी बढ़ गई है. सितंबर 2020 में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक 9% रहा है. नेशनल प्राइस मॉनिटरिंग कमेटी की बैठक के दौरान यह भी बताया गया कि आलू, टमाटर और प्याज के थोक और खुदरा कीमतों में प्रॉफिट मार्जिन बहुत बढ़ गया है, जिसकी वजह से आम आदमी परेशान है.

    ये भी पढ़ें:
    पाकिस्तान सेना ने आतंकवाद के खिलाफ छेड़ा अभियान, 7 दिन में दो को मार गिराया
    US: चोरी कर eBay पर सामान बेचती थी बुढ़िया, भारी जुर्माने के साथ हुई जेल

    पाकिस्तान में महंगाई बढ़ना इमरान खान को बेचैन कर रहा है क्योंकि विपक्ष ने पहले ही महागठबंधन बनाकर सेना और इमरान खान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. इसी महीने से व्यवस्था परिवर्तन के लिए देशव्यापी आंदोलन किया जाना तय हुआ है. यह माना जा रहा है कि महंगाई से बेचैन जनता विपक्ष के साथ सड़कों पर उतर सकती है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज