नहीं रहे भारत में जन्मे प्रसिद्ध पाकिस्तानी शिया विद्वान तालिब जौहरी, कई दिनों से थे बीमार

नहीं रहे भारत में जन्मे प्रसिद्ध पाकिस्तानी शिया विद्वान तालिब जौहरी, कई दिनों से थे बीमार
नहीं रहे भारत में जन्मे प्रसिद्ध पाकिस्तानी शिया विद्वान तालिब जौहरी (फाइल फोटो)

तालिब जौहरी (Talib Johri) अपने समुदाय के एक सम्मानित व्यक्ति थे और व्यापक रूप से प्रतिष्ठित विद्वान आयतुल्ला सैय्यद अली अल-हुसैनी अल-सीस्तानी के साथ पढ़े थे. वह एक कवि, इतिहासकर और दार्शनिक भी थे और उन्होंने कई किताबें लिखीं.

  • Share this:
कराची. भारत में जन्मे प्रसिद्ध पाकिस्तानी शिया विद्वान और लेखक तालिब जौहरी (Talib Johri) का लंबी बीमारी के बाद यहां निधन हो गया. वह 81 वर्ष के थे. 'डॉन न्यूज' की सोमवार की खबर के अनुसार 27 अगस्त 1939 को पटना में जन्मे जौहरी के परिवार में उनके तीन बेटे हैं. जौहरी बंटवारे के दो साल बाद 1949 में अपने पिता के साथ पाकिस्तान (Pakistan) आ गए थे. अपने पिता से शुरुआती तालीम लेने के बाद वह आगे की पढ़ाई के लिए इराक गए थे, जहां उस समय के मशहूर शिया विद्वान के अधीन उन्होंने 10 साल धर्मशास्त्र की पढ़ाई की.

तालिब जौहरी पिछले 15 दिन से आईसीयू में वेंटिलेटर पर थे और रविवार रात उन्होंने आखिरी सांस ली.

पीएम इमरान खान ने जताया शोक
'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' की खबर के अनुसार उनके बेटे रियाज़ जौहरी ने उनके निधन की पुष्टि करते हुए कहा कि अंतिम संस्कार के लिए शव को अंचोली इमाम बारगाह ले जाया जा रहा है. जौहरी अपने समुदाय के एक सम्मानित व्यक्ति थे और व्यापक रूप से प्रतिष्ठित विद्वान आयतुल्ला सैय्यद अली अल-हुसैनी अल-सीस्तानी के साथ पढ़े थे. वह एक कवि, इतिहासकर और दार्शनिक भी थे और उन्होंने कई किताबें लिखीं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जौहरी के निधन पर शोक जताया है.
जौहरी ने कई किताबें लिखीं


मौलाना तालिब जौहरी ने कई धार्मिक किताबें लिखीं. वह शायर भी थे, दार्शनिक भी थे. उनकी ख्याति कई मुल्कों में थी. पाकिस्तान सरकार ने उनकी विद्वता को देखते हुए उन्हें सितारा-ए-इम्तियाज़ सम्मान से भी नवाज़ा था. उनकी लिखी किताब हदीस-ए-कर्बला की विश्व स्तर पर मान्यता है. अल्लामा तालिब जौहरी इराक के नजफ़ शहर में आयतुल्लाह अल उज़मा सैय्यद अबू अल कासिम और आयतुल्लाह शहीद सय्यद बाकिर अल सद्र से शिक्षा प्राप्त की. आयतुल्लाह सीस्तानी उनसे सीनियर थे. अल्लामा जीशान हैदर जव्वादी नजफ में उनके क्लास फेलो थे.

ये भी पढ़ें: विदेश में फंसे पाकिस्तानी नागरिक लौट सकेंगे स्वदेश, इंटरनेशनल उड़ानें शुरू
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज