लाइव टीवी

रिपोर्ट का दावा-म्यांमार की सेना फिर कर रही रोहिंग्या मुस्लिमों पर हमले की तैयारी

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 11:53 PM IST
रिपोर्ट का दावा-म्यांमार की सेना फिर कर रही रोहिंग्या मुस्लिमों पर हमले की तैयारी
एक कट्टरपंथी रोहिंग्या समूह ने अगस्त 2017 में म्यामार सुरक्षा बलों की चौकियों पर हमला किया था. File photo

एक कट्टरपंथी रोहिंग्या समूह ने अगस्त 2017 में म्यामार सुरक्षा बलों की चौकियों पर हमला किया था. व्यापक साक्षात्कारों पर आधारित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि म्यामार सेना ने चाकू और उन अन्य वस्तुओं को जब्त करना शुरू कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 11:53 PM IST
  • Share this:
बैंकाक. एक मानवाधिकार समूह फोर्टिफाइ राइट्स ने कहा कि म्यामार सेना रोहिंग्या मुसलमानों पर हमले के लिए व्यवस्थित रूप से तैयार हैं. उसने चाकू और अन्य तेजधार उपकरणों को जब्त कर लिया है , गैर मुस्लिम नागरिकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है तथा रोहिंग्या परिवारों को अपने घरों के आसपास सुरक्षात्मक बाड़ हटाने के लिए मजबूर कर दिया है. दक्षिणपूर्व एशियाई मानवाधिकार संगठन की रिपोर्ट में ये दस्तावेजी सबूत है कि देश के पश्चिमी रखाइन प्रांत में रहने वाले इस अल्पसंख्यक समूह पर कार्रवाई के लिए प्रशासन तैयार है.

एक कट्टरपंथी रोहिंग्या समूह ने अगस्त 2017 में म्यामार सुरक्षा बलों की चौकियों पर हमला किया था. व्यापक साक्षात्कारों पर आधारित इस रिपोर्ट में कहा गया है कि म्यामार सेना ने चाकू और उन अन्य वस्तुओं को जब्त करना शुरू कर दिया है, जिनका इस्तेमाल हथियार या आत्मरक्षा के लिए किया जा सकता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि दर्जनों गांवों में सेना के हमलों के कारण 94 हजार से अधिक लोगों को अपने घरों को छोड़ना पड़ा था. म्यामार सेना ने इस रिपोर्ट पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

म्यांमार करता रहा है इनकार
बौद्ध बहुल म्यांमार शुरू से रोहिंग्याओं पर अत्याचार से इनकार करता रहा है. लेकिन म्यांमार सेना पर आरोप लगते रहे हैं कि उसने रोहिंग्या मुसलमानों का 'नस्ली सफ़ाया' या 'जनसंहार' किया. पलायन के बाद बड़े पैमाने पर रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश के सीमावर्ती इलाक़ों में रह रहे हैं. अब म्यांमार सरकार ने कहा है कि वो कुछ शरणार्थियों को वापस लेने के लिए तैयार है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 11:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...