ईरान में लगातार हो रहे रहस्यमय हमले, कौन है इनके पीछे ?

ईरान में लगातार हो रहे रहस्यमय हमले, कौन है इनके पीछे ?
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी (फाइल फोटो)

ईरान (Iran) में हुए इन संदिग्ध हमलों में इजराइल (Israel) ने अपनी भूमिका ना तो स्वीकार की है और ना ही इसका खंडन किया है.

  • Share this:
तेहरान. ईरान में पिछले कुछ दिनों से संदिग्ध हमले हो रहे हैं. इस देश के रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण स्थलों में हो रही रहस्यमयी घटनाओं में सबसे ताजी घटना है नातांज परमाणु केंद्र हुआ हुआ हमला. दरअसल, 2 जुलाई को नातांज परमाणु केंद्र में अचानक से आग लग गई जिससे भारी नुकसान हुआ. ईरान (Iran) के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने इसे संभावित साइबर-हमले का नतीजा बताया है. हालांकि उन्होंने इस संबंध में कोई सबूत पेश नहीं किया. देखा जाए तो नातांज ईरान में यूरेनियम संवर्धन का सबसे बड़ा केंद्र हैं. कुछ का कहना है कि इसके पीछे साइबर हमला (Cyber Attack) या कोई बड़ा बम धमाका हुआ है.

बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, इसके पीछे इजराइल (Israel) या अमेरिका (America) के होने का भी शक है. ऐसा इसलिए क्योंकि इजराइल और अमेरिका ईरान के परमाणु कार्यक्रम को अपने लिए खतरा मानते हैं. और यह पहली बार नहीं है कि उन पर ईरान के भीतर हमला करने का आरोप लगा हो. इससे पहले भी हाल ही के दिनों में कई जगह आग लगने और धमाके होने की घटनाएं हो चुकी हैं. परमाणु स्थलों, तेल रिफाइनरी और ऊर्जा संयंत्रों में हुई ये घटनाएं इनके पीछे किसी देश के होने का शक पैदा कर रही हैं.


बता दें, ईरान, अमेरिका और इजराइल के बीच तनाव बढ़ रहा है. ईरान जोर देता रहा है कि उसका परमाणु कार्यक्रम शांतिपूर्ण है. ईरान का कहना है कि इन घटनाओं से उसका परमाणु कार्यक्रम कई महीने पीछे रह गया है. इन संदिग्ध हमलों में इजराइल ने अपनी भूमिका ना तो स्वीकार की है और ना ही इसका खंडन किया है. वहीं ईरान का कहना है कि यदि इसके पीछे विदेशी हाथ साबित हुआ तो सही ढंग से जवाब दिया जाएगा.



ये भी पढ़ें: पाकिस्तान से उठा अमेरिका का भरोसा, चीन के साथ बड़ी लड़ाई की तैयारी

'नतांज परमाणु केंद्र पर हमले के पीछे इजरायल का हाथ'
उल्लेखनीय है कि 2 जुलाई को नतांज स्थित परमाणु केंद्र के सेंट्रीफ्यूज असेंबली की बिल्डिंग में विस्फोट हुआ था. ईरान ने राष्‍ट्रीय सुरक्षा का हवाला देकर नतांज परमाणु केंद्र में हुए विस्‍फोट का विवरण नहीं दिया. जबकि, पश्चिम एशिया के खुफिया अधिकारियों का कहना था कि नतांज परमाणु केंद्र पर हमले के पीछे इजरायल का हाथ है. ईरानी सेना के एक सदस्‍य ने बताया कि इस हमले में विस्‍फोटकों का भी इस्‍तेमाल किया गया था. ईरान ने पुष्टि की थी कि भूमिगत नतान्ज परमाणु स्थल पर क्षतिग्रस्त हुई इमारत असल में एक नया सेंट्रिफ्यूज केंद्र था. ईरान की आधिकारिक समाचार एजेंसी आईआरएनए ने यह खबर दी थी. सेंट्रिफ्यूज वह मशीन होती है जिसमें विभिन्न घनत्व वाले द्रवों को या ठोस पदार्थ से तरल पदार्थों को अलग करने के लिए सेंट्रिफ्यूजल फोर्स का इस्तेमाल होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading